loader

दिल्ली: फ़्लॉप रहे शाह-योगी, भड़काऊ बयान भी बीजेपी को नहीं दिला सके जीत

दिल्ली में बीजेपी ने जीत के लिये पूरा जोर लगाया। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से लेकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कई चुनावी रैलियों को संबोधित किया। इसके अलावा भी कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों, पूर्व मुख्यमंत्रियों, सांसदों, प्रदेश अध्यक्षों ने दिल्ली की गलियों की खाक छानी लेकिन कुछ नहीं हुआ। पार्टी दिल्ली में 8 सीटों पर ही सिमट गई जबकि उसके प्रदेश अध्यक्ष 48 सीटें लाने का दावा कर रहे थे। 

संसाधन झोंकने के अलावा दिल्ली में बीजेपी का पूरा चुनाव प्रचार भड़काऊ बयानों से भरा रहा। अमित शाह ने कई जनसभाओं में कहा कि लोग ईवीएम का बटन इतने ग़ुस्से में दबाएं कि इसका करंट शाहीन बाग़ में लगे। इसके अलावा योगी आदित्यनाथ ने शाहीन बाग़ में धरना दे रहे लोगों को लेकर कहा कि इनके पूर्वजों ने देश के टुकड़े-टुकड़े किये थे। योगी ने कहा था कि कश्मीर में आतंकवादियों का समर्थन करने वाले लोग शाहीन बाग़ में बैठे हैं। लेकिन विश्वलेषण करने पर पता चलता है कि शाह और योगी ने जिन सीटों पर रैलियां की हैं, उनमें लगभग सभी सीटों पर बीजेपी हार गई है। इससे यह भी पता चलता है कि बीजेपी धार्मिक आधार पर ध्रुवीकरण कराने में भी सफल नहीं हुई है। योगी ने केजरीवाल सरकार पर शाहीन बाग़ के प्रदर्शनकारियों को बिरयानी खिलाने का आरोप लगाया। 

ताज़ा ख़बरें

अमित शाह ने बादली, बवाना, बाबरपुर, रोहतास नगर, घोंडा, रिठाला, जनकपुरी, छतरपुर, कस्तूरबा नगर, आर.के. पुरम, मालवीय नगर, त्रिनगर, दिल्ली कैंट, बुराड़ी, मुंडका, ग्रेटर कैलाश, राजेंद्र नगर, मोती नगर, तिमारपुर, त्रिलोकपुरी, कोंडली, कृष्णा नगर, गाँधी नगर, सीमापुरी, नज़फगढ़, मादीपुर, हरि नगर और कई अन्य जगहों पर जनसभाएं और रोड शो किये। लेकिन इनमें से बीजेपी को सिर्फ़ गाँधी नगर, घोंडा, रोहतास नगर की सीट पर ही जीत मिली है। शाह ने 40 से ज़्यादा विधानसभा सीटों को कवर किया लेकिन लोगों पर इसका कोई असर नहीं हुआ। इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने द्वारका और शाहदरा में जनसभा को संबोधित किया लेकिन ये दोनों सीटें भी बीजेपी हार गई। 

योगी आदित्यनाथ ने दिल्ली में 12 विधानसभा सीटों पर चुनावी रैलियों को संबोधित किया लेकिन बीजेपी को इसमें से सिर्फ़ 3 सीटों पर ही जीत मिली। योगी ने विकासपुरी, पटपड़गंज, किराड़ी, उत्तम नगर, महरौली, द्वारका, तुगलकाबाद, रोहिणी, करावल नगर, जहांगीरपुरी और बदपुर में चुनावी रैलियों को संबोधित किया। इन सीटों में से सिर्फ़ बदरपुर, करावल नगर और रोहिणी सीट पर ही बीजेपी को जीत मिली। 

दिल्ली से और ख़बरें

पश्चिमी दिल्ली के बीजेपी सांसद प्रवेश वर्मा ने जनकपुरी सीट पर एक जनसभा में विवादित बयान दिया था, इस सीट से बीजेपी उम्मीदवार आशीष सूद लगभग 15 हज़ार वोटों से चुनाव हार गए हैं। वर्मा ने शाहीन बाग़ के प्रदर्शनकारियों को लेकर ‘ये लोग आपके घरों में घुसेंगे, बहन-बेटियों से रेप करेंगे’ का बयान दिया था। वर्मा को चुनाव आयोग ने दो बार चुनाव प्रचार करने से रोक दिया था। 

केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने रिठाला विधानसभा सीट पर आयोजित जनसभा में ‘देश के गद्दारों को…’ का नारा लगवाया था। लेकिन इस सीट पर भी बीजेपी उम्मीदवार मनीष चौधरी 13 हज़ार से ज़्यादा वोटों से चुनाव हार गये। 8 फ़रवरी को दिल्ली में हिंदुस्तान और पाकिस्तान का मुक़ाबला होने की बात कहने वाले और मॉडल टाउन सीट से बीजेपी उम्मीदवार कपिल मिश्रा को भी लोगों ने नकार दिया और वह 11 हज़ार वोटों से चुनाव हार गये। 

कुल मिलाकर विश्लेषण यह है कि अमित शाह और योगी की चुनावी रैलियों का बीजेपी को कोई ख़ास फायदा नहीं मिला। 8 सीटों में से भी एक सीट पर बीजेपी सिर्फ़ 880 वोटों से जीती है। हिंदुस्तान, पाकिस्तान, शाहीन बाग़, बिरयानी से लेकर तमाम भड़काऊ बयानों के बाद भी बीजेपी दहाई का आंकड़ा छूने में नाकामयाब रही और दिल्ली के लोगों ने उसकी राजनीति को पूरी तरह नकार दिया। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें