loader

दिल्ली HC: हिरासत से किसानों की रिहाई वाली याचिका खारिज

गणतंत्र दिवस के दिन हिंसा को लेकर हिरासत में लिए गए प्रदर्शन करने वाले किसानों की रिहाई वाली याचिका को दिल्ली हाई कोर्ट ने खारिज कर दिया है। याचिका में कहा गया था कि इन किसानों को अवैध रूप से हिरासत में लिया गया है। याचिका पर सुनवाई करते हुए हाई कोर्ट ने कहा कि गिरफ़्तार किए गए लोगों को बिना एफ़आईआर और जाँच की प्रक्रिया से गुज़रे रिहा नहीं किया जा सकता है। इसके साथ ही कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ दर्ज की गई एफ़आईआर की जाँच जितनी जल्द हो सके उतनी जल्द करने को कहा। हालाँकि कोर्ट ने एक निश्चित समय-सीमा तय नहीं की है। 

ताज़ा ख़बरें

दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर रैली में हालात इतने बिगड़ गए थे कि हिंसा तक हुई थी। इसमें एक व्यक्ति की जान भी चली गई थी। गणतंत्र दिवस समारोह के बीच ही दिल्ली में किसानों ने ट्रैक्टर की रैली निकालनी शुरू कर दी थी। पुलिस की ओर से लाठी चार्ज किया गया और आँसू गैस के गोले दागे गए। पथराव की भी घटनाएँ हुईं। प्रदर्शन करने वाले कुछ लोगों ने लाल क़िले की प्राचीर से पीले रंग का झंडा भी फहरा दिया था। पुलिस की बैरिकेडिंग पार करते हुए किसान यहाँ तक पहुँचे थे। किसानों की ट्रैक्टर रैली को जिस रूट की मंजूरी दी गई थी उसमें लाल क़िले का रूट शामिल नहीं था। लाल क़िले के अलावा आईटीओ पर भी ज़्यादा हिंसा की ख़बरें आई थीं।

याचिकाकर्ता हरमन प्रीत सिंह की तरफ़ से पेश वकील आशिमा मंडला ने पहले कोर्ट को बताया कि दिल्ली पुलिस ने सोमवार को एक बयान जारी किया है कि 122 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है और 44 प्राथमिकी दर्ज की गई हैं।

याचिका में हरमन प्रीत सिंह ने आरोप लगाया कि किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान गणतंत्र दिवस पर कथित हिंसा के संबंध में 200 से अधिक व्यक्तियों को हिरासत में लिया गया।

मामले की सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायाधीश डी. एन. पटेल और न्यायमूर्ति ज्योति सिंह की बेंच ने कहा, 'गिरफ्तार किए गए व्यक्तियों को एफ़आईआर और जाँच की प्रक्रिया से गुज़रे बिना रिहा नहीं किया जा सकता है। यह एक पब्लिसिटी इंटरेस्ट लिटिगेशन प्रतीत होता है।' अदालत ने यह भी कहा कि पुलिस उन लोगों के संबंध में क़ानून के अनुसार काम करेगी, जिन्हें उनके द्वारा गिरफ्तार किया गया है।

हालाँकि अदालत ने यह आदेश ज़रूर दिया कि 24 घंटे के भीतर गिरफ्तार लोगों को निकटतम मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जाए।

अदालत ने कहा कि यह याचिकाकर्ता का मामला नहीं है और वह मामले में नोटिस भी जारी नहीं करेगी। 26 जनवरी के बाद कथित रूप से लापता हुए लोगों के बारे में अदालत ने कहा कि याचिकाकर्ता ने अपने किसी भी रिश्तेदार से संपर्क नहीं किया है, यह कहते हुए कि हो सकता है कि वे 'अपने निजी काम के लिए' बाहर गए हों, अदालत ने कहा कि रिट याचिका पर विचार करने का हमारे पास कोई कारण नहीं है।

delhi hc dismisses petition to release farmers detained in tractor parade violence - Satya Hindi
बता दें कि दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता आइशा सिंघल ने सोमवार को ही कहा था कि 44 एफ़आईआर दर्ज की गई हैं और 122 लोगों को गिरफ़्तार किया गया है। 54 किसान नेताओं को नोटिस भेजा गया है। सिंघन ने यह भी कहा कि संबंधित मामलों की जानकारी दिल्ली पुलिस की आधिकारिक वेबसाइट पर अपडेट की गई है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें