loader
फ़ोटो साभार: ट्विटर/वीडियो ग्रैब

किसान प्रदर्शन का केंद्र सिंघु बॉर्डर की ट्रैक्टर रैली में भी झड़प

किसान नेताओं द्वारा बार-बार शांतिपूर्ण प्रदर्शन के आह्वान के बीच हिंसा हो ही गई। किसान प्रदर्शन का केंद्र रहे सिंघु बॉर्डर पर भी यह देखने को मिला। किसान पुलिस की बैरिकेडिंग तोड़ दिल्ली में घुसे। पुलिस ने उन्हें रोकने का प्रयास किया। किसान नहीं माने और झड़प हो गई। पुलिस ने वहाँ लाठी चार्ज किया। अब इन झड़पों में किसानोंं और पुलिस कर्मियों के भी घायल होने की ख़बरें हैं।

हालाँकि, दिल्ली पुलिस ने किसानों को ट्रैक्टर रैली निकालने के लिए रविवार को ही मंजूरी दे दी थी, लेकिन इसने कई शर्तें भी लगा दी थीं। इन शर्तों पर किसानों को आपत्ति थी। इनमें सबसे महत्वपूर्ण रूट को लेकर किसान नाराज़ थे। एक शर्त यह भी थी कि किसान राजपथ पर गणतंत्र दिवस समारोह ख़त्म होने के बाद रैली निकालेंगे। लेकिन किसानों ने उससे पहले ही रैली निकालनी शुरू कर दी।

ताज़ा ख़बरें

सुबह सिंघु बॉर्डर पर बैरिकेड के तोड़े जाने की ख़बर आई तो सबकुछ सामान्य था। लेकिन इस बीच जब बचे हुए बैरिकेड को भी किसानों ने तोड़ दिया तो फिर पुलिस से झड़प हो गई। पुलिस ने बल का प्रयोग किया। किसानों पर लाठी चार्ज किया। किसानों की रैली के संजय गाँधी ट्रांसपोर्ट नगर पहुँचने पर पुलिस ने आँसू गैस के गोले दागे और किसानों को तितर-बितर करने की कोशिश की।

बता दें कि दिल्ली पुलिस ने रविवार को सिंघु बॉर्डर से जिस रूट पर ट्रैक्टर रैली निकालने के लिए मंजूरी दी थी उसमें संजय गांधी ट्रांसपोर्ट नगर, कंजावाला, बवाना, औचंडी बॉर्डर और केएमपी एक्सप्रेसवे है। यह रूट कुल मिलाकर क़रीब 62 किलोमीटर का है। बाद में रैली वापस यहीं आकर ख़त्म होगी।

दिल्ली से और ख़बरें

बता दें कि किसानों की इस ट्रैक्टर रैली को लेकर कई दिनों तक असमंजस की स्थिति बनी रही क्योंकि दिल्ली पुलिस इसको मंजूरी नहीं दे रही थी। बाद में वह कोर्ट में भी गई, लेकिन कोर्ट ने पुलिस को ही इस पर निर्णय करने के लिए कहा। इसके बाद रविवार को ही आधिकारिक तौर पर ट्रैक्टर रैली को मंजूरी दी। हालाँकि जो रूट तय हुआ उसको लेकर किसानों ने आपत्ति जताई। इसके बाद किसान नेताओं के साथ दिल्ली पुलिस ने बैठक की और गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर उसने नई ट्रैफिक एडवाइजरी जारी की।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें