loader

एमसीडी चुनाव: मेयर को मिलेंगे सीएम जैसे अधिकार?

दिल्ली में नगर निगम चुनाव को लेकर इन दिनों आम आदमी पार्टी केंद्र की सरकार पर हमलावर है। आम आदमी पार्टी के मुखिया और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया सहित पार्टी के कई नेता मोदी सरकार पर निगम चुनाव को टालने का आरोप लगा रहे हैं। इस बीच, खबर यह है कि केंद्र सरकार तीनों नगर निगमों के एकीकरण में जुटी हुई है। 

इसके अलावा दिल्ली नगर निगम अधिनियम यानी डीएमसी एक्ट में कई बदलाव किए जाने की भी तैयारी है। 

अमर उजाला के मुताबिक, केंद्र सरकार महापौर को मुख्यमंत्री की तरह अधिकार देने पर विचार कर रही है। इसके अलावा नगर निगम में स्थाई समितियों को खत्म करने और पार्षदों को वेतन देने का प्रावधान करने के बारे में भी विचार किया जा रहा है।

ताज़ा ख़बरें

अमर उजाला ने कहा है कि ऐसे प्रावधान लगभग 8 साल पहले दिल्ली राज्य निर्वाचन आयोग ने डीएमसी एक्ट में परिवर्तन कराने के लिए तैयार किए गए ड्राफ्ट में शामिल किए थे। दिल्ली बीजेपी के नेता केंद्र सरकार से इस ड्राफ्ट के अधिकतर प्रावधानों को लागू करने की मांग कर रहे हैं।

ड्राफ्ट में प्रत्येक पार्षद को प्रतिमाह 10 हजार रुपये वेतन देने का सुझाव है। इसके अलावा उन्हें विधायकों की तरह भत्ते देने पर भी जोर दिया गया है। पार्षद लंबे वक्त से वेतन और कई तरह के भत्ते देने की मांग कर रहे हैं।

MCD polls 2020 BJP and aap fight - Satya Hindi

वार्डों का फिर से गठन 

यह भी कहा गया है कि केंद्र सरकार तीनों नगर निगमों का विलय करने के साथ-साथ दिल्ली के वार्डों का नए सिरे से गठन करने पर भी विचार कर रही है। खबर के मुताबिक बीजेपी के कुछ नेता चाहते हैं कि नए सिरे से वार्ड बनाने के दौरान विधानसभा क्षेत्र की सीमा का प्रावधान खत्म किया जाए और एक लाख की आबादी पर एक वार्ड बनाया जाए।

इस बात की चर्चा बीते कई महीनों से थी कि दिल्ली में तीनों नगर निगमों को एक किए जाने की तैयारी है। इस संबंध में बीजेपी के कई नेताओं के बयान भी सामने आ चुके हैं।

पंजाब के विधानसभा चुनाव में बड़ी जीत हासिल करने के बाद आम आदमी पार्टी दिल्ली में नगर निगमों को फतह करना चाहती है। अभी पूर्वी, उत्तरी और दक्षिणी तीनों नगर निगमों में बीजेपी सत्ता में है।

दिल्ली से और खबरें

आम आदमी पार्टी का आरोप है कि नगर निगमों में जबरदस्त भ्रष्टाचार है और बीजेपी के नेता इसमें शामिल हैं। बीजेपी साल 2020 का विधानसभा का चुनाव बुरी तरह हार चुकी है और उसे इस बात का डर है कि वह नगर निगमों में अपनी सत्ता को गंवा सकती है। ऐसे में कहा जा रहा है कि वह नगर निगमों का एकीकरण कर सकती है।

साल 2012 से पहले दिल्ली में एकीकृत नगर निगम ही हुआ करता था। नगर निगम भी फंड की कमी से जूझ रहे हैं। खास तौर पर उत्तरी दिल्ली नगर निगम और पूर्वी दिल्ली नगर निगम में विकास कार्यों के लिए पैसे की कमी की खासी दिक्कत है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें