loader

पीएम मोदी को लेकर कांग्रेस नेता सहाय ने दिया विवादित बयान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोध कांत सहाय ने सोमवार को विवादित टिप्पणी की है। 

झारखंड से आने वाले सुबोध कांत सहाय ने अपनी टिप्पणी में कहा, “मुझे तो लगता है कि हिटलर का सारा इतिहास इसने पार कर लिया। हुड्डा साहब गांव की भाषा में समझा रहे थे। हिटलर ने भी ऐसी एक संस्था बनाई थी उसका नाम था खाकी। सेना के बीच में इस संस्था को बनाया गया था।” इससे आगे सुबोध कांत सहाय ने विवादित टिप्पणी की। 

सुबोध कांत सहाय ने यह टिप्पणी कांग्रेस की ओर से जंतर-मंतर पर अग्निपथ योजना के खिलाफ आयोजित सत्याग्रह में की। सहाय के बयान पर विवाद होते ही कांग्रेस ने तुरंत ट्वीट कर इस टिप्पणी से अपना किनारा कर लिया। 

ताज़ा ख़बरें

कुछ दिन पहले महाराष्ट्र कांग्रेस के एक और नेता ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर एक विवादित बयान दिया था जिसके बाद बीजेपी ने उन पर हमला बोल दिया था।

सुबोध कांत सहाय के बयान पर झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रघुबर दास, दिल्ली बीजेपी के नेता सरदार आरपी सिंह सहित कई नेताओं ने प्रतिक्रिया दी है।

बता दें कि कांग्रेस ने जांच एजेंसी ईडी के द्वारा राहुल गांधी और सोनिया गांधी को समन किए जाने और अग्निपथ योजना के खिलाफ देशभर में मोर्चा खोला हुआ है। इसे लेकर राजनीतिक माहौल बेहद गर्म है।

पार्टी सहमत नहीं 

सहाय की इस टिप्पणी पर विवाद होने के बाद पार्टी के मीडिया विभाग के प्रभारी जयराम रमेश ने ट्वीट कर कहा कि कांग्रेस पार्टी मोदी सरकार की तानाशाही विचारधारा और जन विरोधी नीतियों के खिलाफ लड़ती रहेगी लेकिन प्रधानमंत्री के प्रति प्रति किसी भी अमर्यादित टिप्पणी से पार्टी सहमत नहीं है।

युवाओं के द्वारा अग्निपथ योजना के जोरदार विरोध के बीच कांग्रेस भी इसके खिलाफ आवाज उठा रही है। बीते दिनों इस योजना के विरोध में बिहार, उत्तर प्रदेश, बंगाल सहित कई राज्यों में जमकर हिंसा हुई थी और युवाओं ने केंद्र सरकार से इस योजना को वापस लेने की अपील की थी। कांग्रेस ने रविवार को इस योजना के खिलाफ जंतर-मंतर पर सत्याग्रह किया था और सोमवार को भी उसने आवाज उठाई। कांग्रेस का कहना है कि यह योजना पूरी तरह युवाओं के खिलाफ है और इससे सेना को नुकसान होगा। 

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि मोदी सरकार को कृषि कानूनों की तरह ही अग्निपथ योजना को भी वापस लेना पड़ेगा।

दिल्ली से और खबरें

राजनीतिक मर्यादा भूलते नेता

बीजेपी आरोप लगाती रही है कि विपक्षी नेता लगातार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर अभद्र टिप्पणियां करते रहे हैं। दूसरी ओर कांग्रेस का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के लिए जर्सी गाय, राहुल गांधी के लिए बछड़ा, पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर की दिवंगत पत्नी सुनंदा पुष्कर के लिए 50 करोड़ की गर्लफ्रेंड और तमाम तरह के विवादित बयान दे चुके हैं।

राजनीतिक विचारधारा जरूर अलग हो सकती है लेकिन भाषा का स्तर कभी नहीं गिरना चाहिए, इस बात को तमाम राजनीतिक दल और उनके नेता कहते हैं लेकिन मंच से बोलते वक्त वे खुद ही इस बात को सूली पर टांग देते हैं और अक्सर इस तरह की विवादित टिप्पणियां सामने आती हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें