loader

दिल्ली दंगों से जुड़े एक मामले में उमर खालिद को मिली जमानत 

दिल्ली की एक अदालत ने गुरूवार को जेएनयू के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद को दिल्ली दंगों से जुड़े एक मामले में जमानत दे दी है। इस मामले में खजूरी खास में हुई हिंसा को लेकर एफ़आईआर दर्ज हुई थी। 

अदालत ने कहा कि खालिद को अनिश्चित काल तक सिर्फ़ इसलिए जेल में नहीं रखा जा सकता क्योंकि एक दूसरा शख़्स जो किसी दंगाई भीड़ का हिस्सा था, उसकी पहचान हुई है और उसे इस मामले में गिरफ़्तार किया जा चुका है। 

उत्तर-पूर्वी दिल्ली में पिछले साल 23 फरवरी को दंगे शुरू हुए थे और ये तीन दिन यानी 25 फ़रवरी तक चले थे। इस दौरान यह इलाक़ा बुरी तरह अशांत रहा और दंगाइयों ने वाहनों और दुकानों में आग लगा दी थी। जाफराबाद, वेलकम, सीलमपुर, भजनपुरा, गोकलपुरी और न्यू उस्मानपुर आदि इलाक़ों में फैल गए इस दंगे में 53 लोगों की मौत हुई थी और 581 लोग घायल हो गए थे। 

ताज़ा ख़बरें

उमर खालिद को पिछले साल अक्टूबर में खजूरी खास इलाक़े में हुई हिंसा के मामले में गिरफ़्तार किया गया था। आम आदमी पार्टी के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन को भी इस मामले में अभियुक्त बनाया गया था। उमर खालिद पर सितंबर, 2020 में यूएपीए लगाया गया था। 

दिल्ली दंगों के मामले में पुलिस ने 755 एफ़आईआर दर्ज की थीं और 1,818 लोगों को गिरफ़्तार किया था। हालात तब और बिगड़ गए थे जब कुछ ही दिन बाद कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए लॉकडाउन लगाया गया था। इससे वे लोग जिनका मकान, दुकान खाक कर दिया गया था, मुसीबतों से घिर गए थे। 

दिल्ली से और ख़बरें

पुलिस पर उठाए थे सवाल

लेखिका व योजना आयोग की पूर्व सदस्य सैयदा हमीद, वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण, जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार सहित कई बुद्धिजीवियों ने दिल्ली हिंसा में पुलिस की जांच पर सवाल उठाए थे। उन्होंने उमर खालिद की गिरफ़्तारी का विरोध किया था और कहा था कि विरोध की आवाज़ को आपराधिक बनाया जा रहा है और इसे दबाया जा रहा है। उन्होंने कहा था कि दिल्ली पुलिस ने दिल्ली हिंसा की जांच को नागरिकता संशोधन क़ानून यानी सीएए विरोधी प्रदर्शनों की जांच में बदल दिया है।

पुलिस को लगाई थी फटकार

दंगों के दौरान मसजिद पर हमले और आगजनी के एक मामले में कुछ दिन पहले दिल्ली की एक अदालत ने दिल्ली पुलिस को कड़ी फटकार लगाई थी। अदालत ने कहा था कि इस मामले में जांच के दौरान दिल्ली पुलिस ने जल्दबाज़ी की और उसका रवैया बेहद कठोर रहा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें