loader

कुंभ पहुँचने वाले मोदी पहले पीएम नहीं, बीजेपी आईटी सेल का दावा ग़लत

प्रधानमंत्री मोदी रविवर को कुंभ क्या पहुँचे बीजेपी आईटी सेल उनके बेतहाशा प्रचार-प्रसार में जुट गया। बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ही ग़लत तथ्यों के साथ मोदी की तसवीरों को ट्वीट किया। इस तसवीरों के साथ अमित मालवीय ने लिखा, 'मोदी अब तक कुंभ में पहुँचने वाले पहले राष्ट्र प्रमुख हैं।' तो वास्तविकाता क्या है?
अमित मालवीय के इस दावे को ‘ऑल्ट न्यूज़’ वेबसाइट और वरिष्ठ पत्रकार तवलीन सिंह ने ग़लत क़रार दिया है। वेबसाइट ने दो आधार पर इसे ग़लत बताया है। 
  1. प्रधानमंत्री राष्ट्र प्रमुख नहीं हैं। वह कैबिनेट मंत्रियों के नेता और सरकार की कार्यपालिका के प्रमुख हैं। भारत के राष्ट्रपति राष्ट्र प्रमुख हैं। 
  2.  कुंभ पहुँचने वाले प्रधानमंत्री मोदी देश के पहले प्रधानमंत्री नहीं हैं। पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू 1954 में कुंभ पहुँचे थे। 
‘ऑल्ट न्यूज़’ के अनुसार लेखक कामा मेक्लेन ने अपनी किताब 'पिलग्रिमेज एंड पावर : द कुंभ मेला इन इलाहाबाद, 1765-1954' में 1954 में कुंभ पहुँचे नेहरू की एक तसवीर को शामिल किया है। किताबे लिखा है, 'हालाँकि यह तकनीकी रूप से उत्तर प्रदेश सरकार के अंतर्गत आता है, फिर भी कुंभ मेले की तैयारी में प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू व्यक्तिगत रूप से जुड़े हुए थे और वह कुंभ में आये भी थे। वह मेले के दौरान ही जब पौष पूर्णिमा पर दूसरी बार आये तो मीडिया कर्मियों की उपस्थिति में उन्होंने पवित्र गंगा के पानी में हाथ लगाया।' 
prime minister modi was not the first pm to visit kumbh - Satya Hindi
लेखक और वरिष्ठ पत्रकार तवलीन सिंह ने ही अमित मालवीय के दावे को ग़लत बताते हुए ट्वीट कर रिप्लाई किया है, 'इंदिरा गाँधी कुंभ में 1977 में गयी थीं। यही वह जगह है जहाँ उन्होंने कहा था कि चुनाव जल्द होंगे।' अपने इस दावे पर आपत्ति करने वालों को तवलीन सिंह ने दूसरे ट्वीट में लिखा, 'मैं जानती हूँ उन्होंने गंगा में डुबकी भी लगायी थी। मैं वहीं थी। इंदिरा गाँधी बहुत धार्मिक थीं।'
अमित मालवीय का दावा इन दोनों आधार पर सही ग़लत साबित होता है। यह साफ़ है कि प्रधानमंत्री मोदी न तो राष्ट्र प्रमुख हैं और न ही वह कुंभ का दौरा करने वाले पहले प्रधानमंत्री हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

असत्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें