loader
गुड़गांव में लुकमान को पीटती भीड़।

गुड़गांव में मॉब लिंचिंग: गो मांस ले जाने के शक में मुसलिम युवक को हथौड़े से पीटा

कथित गो रक्षा के नाम पर मुसलमानों के साथ मारपीट की दर्जनों घटनाएं हो चुकी हैं। लुकमान के इस ताज़ा मामले में गुड़गांव जैसे अति-आधुनिक शहर में पुलिस और भीड़ के सामने हथौड़े से दनादन वार कर उसके शरीर को कई जगह से फ़्रैक्चर कर दिया गया। अगर लुकमान कहीं ग़लत है तो उसे सजा देने का अधिकार गो रक्षा के नाम पर गुंडागर्दी करने वालों को कब से मिल गया। 
पवन उप्रेती

गो रक्षा के नाम पर दूसरों की जान लेने पर आमादा कथित गो रक्षकों ने राष्ट्रीय राजधानी से सटे गुरूग्राम में एक बार फिर हैवानियत का नंगा नाच दिखाया है। 

घटना शुक्रवार 9 बजे की है। कथित गो रक्षकों के एक समूह ने 8 किमी. पीछा करके एक पिक-अप (छोटा ट्रक) को रोक लिया। ट्रक के ड्राइवर लुकमान को खींचकर बाहर निकाला और इस शक में कि वह गो मांस की सप्लाई कर रहा है, मारना शुरू कर दिया। 

हैरानी की बात यह है कि इस दौरान वहां मौजूद पुलिसकर्मियों ने गो रक्षा के नाम पर गुंडई कर रहे इन लोगों को रोकने की कोशिश नहीं की। 

ताज़ा ख़बरें

घटना के वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि एक कथित गो रक्षक लुकमान के पैरों पर हथौड़े से लगातार वार कर रहा है, इस दौरान एक दूसरे आदमी ने उसका एक पांव पकड़ा हुआ है। लुकमान के शरीर पर भी हथौड़े से लगातार कई वार किए गए और पुलिस तमाशबीन बनी देखती रही। अभियुक्तों ने लुकमान को मार-मारकर अधमरा कर दिया। 

इन कथित गो रक्षकों की गुंडई यही नहीं थमी, उन्होंने लुकमान को उसी ट्रक में डाला और बादशाहपुर गांव ले गए और वहां फिर से उसे जान से मारने की नीयत से पीटा। लुकमान को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 

इस पिक अप के मालिक का कहना है कि वे पिछले 50 साल से भैंस के मीट का कारोबार कर रहे हैं। पुलिस ने मामले में एक हमलावर प्रदीप यादव नाम के शख़्स को गिरफ़्तार कर लिया है। 

अख़लाक़ की हत्या 

कथित गो रक्षकों की गुंडई का यह सिलसिला 2015 में ग्रेटर नोएडा में एक बुजुर्ग अख़लाक़ को पीट-पीटकर मार डालने से शुरू हुआ था। अखलाक़ को सिर्फ़ इसलिए मौत के घाट उतार दिया गया था क्योंकि कथित गो रक्षकों को इस बात का शक था कि उसके फ्रिज में गो मांस रखा है।

Muslim man Lukman Mob lynching in Gurgaon - Satya Hindi
ग्रेटर नोएडा में अख़लाक़ को पीट-पीटकर मार डाला गया था।
लोकसभा चुनाव के प्रचार के दौरान अख़लाक़ की हत्या का एक अभियुक्त विशाल राणा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की दादरी में हुई जनसभा में दिखाई दिया था। इस दौरान जब मुख्यमंत्री जनसभा को संबोधित कर रहे थे तो विशाल ने योगी-योगी के ख़ूब नारे लगाये थे। 

कई घटनाएं हुईं 

उसके बाद राजस्थान के अलवर में पहलू खान से लेकर झारखंड में अलीमुद्दीन अंसारी की हत्या सहित ऐसे कई मामले हैं जिनमें गो मांस ले जाने के शक में मुसलमानों को सड़क पर पीटा गया। पिछले साल मध्य प्रदेश में कथित गो रक्षकों ने एक महिला समेत तीन लोगों की बेरहमी से पिटाई की थी और इसका वीडियो ख़ासा वायरल हुआ था। 

पिछले साल जून में भी गुड़गांव में ऐसी ही घटना हुई थी, जब कथित गो रक्षकों ने दो लोगों को पीटा था। गुड़गांव, मेवात, पलवल, रेवाड़ी और फ़रीदाबाद में कथित गो रक्षकों ने समूह बनाया हुआ है। पश्चिम बंगाल में भी पिछले साल कूचबिहार जिले में दो लोगों को चोरी की गाय को ट्रक पर चढ़ा कर ले जाने के शक में बुरी तरह पीटा गया था। 
2019 में मध्य प्रदेश के खंडवा जिले में कथित गो रक्षकों द्वारा पशुओं को ख़रीद कर ला रहे 24 लोगों को बंधक बनाकर पीटा गया था। कथित गो रक्षकों ने इन लोगों से ‘गो माता की जय’ के नारे भी लगवाये थे। 

हरियाणा से और ख़बरें

कैसे मिलेगा इंसाफ़?

जिस पहलू ख़ान को सड़क पर पीटे जाने का वीडियो सारी दुनिया ने देखा, उस मामले में कई साल मुक़दमा चलने के बाद पिछले साल अलवर की जिला अदालत ने सभी 6 अभियुक्तों को बरी कर दिया था। इस साल मार्च में दो नाबालिग दोषियों को तीन-तीन साल की सजा सुनाई गई थी। ऐसे में बाक़ी मामलों में इंसाफ़ कैसे मिल पाएगा। 

क़ानून का कोई डर नहीं?

लुकमान के इस ताज़ा मामले में गुड़गांव जैसे अति-आधुनिक शहर में पुलिस और भीड़ के सामने हथौड़े से दनादन वार कर उसके शरीर को कई जगह से फ़्रैक्चर कर दिया गया। अगर लुकमान कहीं ग़लत है तो उसे सजा देने का अधिकार गो रक्षा के नाम पर गुंडागर्दी करने वालों को कब से मिल गया। लेकिन ऐसी एक नहीं, दर्जनों घटनाएं हो चुकी हैं। इससे यह साफ होता है कि गो रक्षा का चोला पहनने वालों को क़ानून का कोई डर नहीं है और पीटे जा रहे लोगों को इंसाफ़ मिलना बहुत दूर की कौड़ी है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
पवन उप्रेती
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

हरियाणा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें