loader

क्या वीरभद्र सिंह के घर छापे मारने वाली है आईटी, सीबीआई?

देश भर में कई जगह कांग्रेस नेताओं के यहाँ हो रही छापेमारी के बीच सोमवार को शिमला ग्रामीण विधायक विक्रमादित्य सिंह ने अपने फ़ेसबुक पेज पर एक पोस्ट डालकर सनसनी फैला दी कि सीबीआई और आईटी उनके आवास पर छापेमारी करने जा रही है। वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह के बेटे व्रिकमादित्य सिंह ने अपने पोस्ट में दावा किया कि उन्हें यह जानकारी पुख्ता सूत्रों से मिली है। हालाँकि अभी तक उनके निवास हाली लाज या फिर रामपुर के महल में छोपमारी होने की कोई पुख्ता सूचना नहीं है।

facebook post of cbi it raid on congress leader virbhadra singh  - Satya Hindi

माना जा रहा है कि व्रिक्रमादित्य सिंह ने संभावित ख़तरे को भाँपते हुये ही यह पोस्ट सोशल मीडिया में पहले लिख दिया ताकि अपने समर्थकों को अपनी बात पहले ही पुहँचा दी जाये और अगर ऐसा होता है तो छापेमारी करने आई टीम के लिये मुश्किलें खड़ी की जा सके।

बताया जा रहा है कि किसी भी जगह छापेमारी करने से पहले सीबीआई व आईटी संबंधित प्रदेश के चीफ़ सेक्रेटरी व डीजीपी को सूचित कर देती है ताकि स्थानीय पुलिस का सहयोग लिया जा सके।  संभावना जताई जा रही है कि छापेमारी करने से पहले हिमाचल के अधिकारियों को जानकारी मिली, तो वहाँ किसी वीरभद्र समर्थक अधिकारी ने विक्रमादित्य सिंह तक यह जानकारी पहुँचा दी। इससे छोपमारी होने से पहले ही बवाल खड़ा हो गया। वीरभद्र सिंह और उनके परिवार के सदस्यों के ख़िलाफ़ आय से अधिक संपत्ति का मामला अदालत में चल रहा है।

ताज़ा ख़बरें

दरअसल, 2014 में केंद्र में मोदी सरकार के आने के बाद वीरभद्र सिंह के ख़िलाफ़ सीबीआई ने उनके ख़िलाफ़ जाँच शुरू की और उनके शिमला स्थित 11 ठिकानों पर 26 अक्टूबर 2015 में छापेमारी की थी। इससे पहले 23 अक्टूबर को सीबीआई ने इसी मामले में एफ़आईआर दर्ज की थी।

वीरभद्र सिंह के ख़िलाफ़ क्या है मामला?

2009 से 2012 तक केंद्रीय इस्पात मंत्री रहते हुए वीरभद्र सिंह पर आरोप लगा कि उनके पास आय से क़रीब छह करोड़ रुपये अधिक संपत्ति है। इसी संपत्ति में से वीरभद्र सिंह ने क़रीब पांच करोड़ की रक़म एलआईसी में निवेश की। उन्हें मंत्री पद छोड़ना पड़ा और राज्य की राजनीति में वापस आए और 2012 में हिमाचल प्रदेश के शिमला ग्रामीण से चुनाव जीतकर विधायक और मुख्यमंत्री बने।

हिमाचल से और ख़बरें

2014 में केंद्र में मोदी सरकार आने के बाद वीरभद्र सिंह के ख़िलाफ़ सीबीआई ने फिर से जाँच शुरू की और उनके शिमला स्थित 11 ठिकानों पर 26 अक्टूबर 2015 में छापेमारी की। बाद में वीरभद्र सिंह के ख़िलाफ़ ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया।

दिसंबर 2015 में यह मामला सुप्रीम कोर्ट गया लेकिन इसने मामले को हिमाचल हाईकोर्ट से दिल्ली हाईकोर्ट में शिफ्ट कर दिया। यह केस दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में चल रहा है।

ईडी ने पूरक आरोप पत्र में विक्रमादित्य को भी आरोपी बनाया था। उसके पहले 22 मार्च 2018 को कोर्ट ने वीरभद्र सिंह और उनकी पत्नी प्रतिभा सिंह समेत सभी आरोपियों को 50-50 हजार रुपए के निजी मुचलके पर जमानत दी थी। इस मामले में आरोपी वीरभद्र सिंह के एलआईसी एजेंट आनंद चौहान को 2 जनवरी 2018 कोर्ट ने जमानत दी थी।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
विजयेन्दर शर्मा
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

हिमाचल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें