loader

सत्येंद्र जैन से जुड़ी फर्म से 2.80 करोड़ कैश और गोल्ड बरामद

दिल्ली के सीएम अरविन्द केजरीवाल की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। उनकी कैबिनेट के मंत्री सत्येंद्र जैन से जुड़ी फर्म से ईडी ने तलाशी के दौरान ₹2 करोड़ से अधिक कैश और 1.8 किलो गोल्ड जब्त किया है। ईडी ने सोमवार को जैन के घर और इस फर्म के दफ्तर की तलाशी ली थी।
जांच एजेंसी ने मंगलवार को कहा कि मेसर्स राम प्रकाश ज्वैलर्स लिमिटेड के परिसर से 2.23 करोड़ रुपये जब्त किए गए। ईडी के मुताबिक वैभव जैन, अंकुश जैन, नवीन जैन राम प्रकाश ज्वैलर्स लिमिटेड के डायरेक्टर हैं और उन्होंने मनी लॉन्ड्रिंग में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से सत्येंद्र जैन की मदद की। ये सभी लोग इनके करीबी बताए गए हैं।

ताजा ख़बरें

भगवान हमारे साथः केजरीवाल !

ईडी की तलाशी का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री पर निशाना साधा। केजरीवाल ने ट्विटर पर लिखा, प्रधानमंत्री आप, राष्ट्रीय राजधानी और पंजाब की सरकारों के पीछे हैं। झूठ, झूठ और बहुत कुछ। आपके पास सभी एजेंसियों की ताकत है, लेकिन भगवान हमारे साथ हैं।

दिल्ली के मंत्री 1 जून से ईडी की हिरासत में हैं। अधिकारियों ने कहा कि दिल्ली में सत्येंद्र जैन के आवासीय परिसरों और कुछ अन्य स्थानों पर छापेमारी की जा रही है। जांच एजेंसी को नौ जून तक जैन की हिरासत में दिया गया है। जैन को इस साल अप्रैल में ईडी ने कोलकाता की एक कंपनी से संबंधित मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ₹ 4.81 करोड़ की अचल संपत्तियों को कुर्क करने के बाद गिरफ्तार किया गया था।

सीबीआई ने दर्ज एफआईआर के आधार पर आप नेता के खिलाफ एक आपराधिक मामला दर्ज किया था जिसमें यह आरोप लगाया गया था कि जैन चार कंपनियों द्वारा प्राप्त धन के सोर्स के बारे में नहीं बता सके, जिसमें वह एक शेयरधारक थे।

जांच एजेंसी का दावा है कि जैन ने दिल्ली में कई शेल (फर्जी) कंपनियां बनाईं या खरीदीं और उनके माध्यम से 16.39 करोड़ रुपये की ब्लैक मनी की लॉन्ड्रिंग की।

जैन की गिरफ्तारी ने आम आदमी पार्टी और बीजेपी शासित केंद्र सरकार के बीच वॉर छेड़ दिया है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का कहना है कि मामला पूरी तरह से झूठा है। लेकिन इस बरामदगी और जैन की गिरफ्तारी ने आम आदमी पार्टी और केजरीवाल की विश्वसनीयता को मिट्टी में मिला दिया। आम आदमी पार्टी दिल्ली में एमसीडी चुनाव की तैयारी में जुटी है, लेकिन इस घटनाक्रम ने उसे संकट में डाल दिया है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें