loader

विकास दुबे को ब्राह्मण शेर बताने पर डीजीपी पांडेय भड़के, बोले - अपराधियों को हीरो न बनाएं

कुख़्यात अपराधी विकास दुबे और उसके साथियों के साथ मुठभेड़ में जैसे ही उत्तर प्रदेश पुलिस के 8 जवानों के शहीद होने की ख़बर आई, ब्राह्मण समाज के कुछ लोगों ने दुबे को ब्राह्मण शेर कहना शुरू कर दिया। ऐसे लोगों को करारा जवाब दिया है बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने। लेकिन विकास दुबे को ब्राह्मण शेर कहने वालों ने क्या कुछ अपनी फ़ेसबुक वॉल पर लिखा, पहले वह पढ़िए- 

Bihar DGP Pandey warned to those glorifying Vikas dubey  - Satya Hindi
Bihar DGP Pandey warned to those glorifying Vikas dubey  - Satya Hindi
इस तरह की पोस्ट को ब्राह्मण समाज के कुछ लोगों का कैसा समर्थन मिला, देखिए। 

Bihar DGP Pandey warned to those glorifying Vikas dubey  - Satya Hindi

हालांकि सोशल मीडिया पर कई लोग ऐसे भी हैं, जिन्होंने विकास दुबे को ब्राह्मण शेर बताने वालों को जोरदार फटकार लगाई है। ऐसे लोगों ने कहा है कि विकास दुबे की गोली से शहीद हुए सीओ, बिल्हौर भी तो ब्राह्मण थे। 

अब पढ़िए, डीजीपी पांडेय का बयान। डीजीपी कहते हैं, ‘कितने शर्म और अफ़सोस की बात है कि ऐसे पेशेवर हत्यारे का महिमामंडन किया जा रहा है। अपनी-अपनी जाति के अपराधियों को लोग हीरो बना रहे हैं। अगर लोग इस तरह करेंगे तो अपराध की संस्कृति तो फूलेगी-फलेगी ही।’ 

पांडेय कहते हैं, ‘शेर है यह, नपुंसक भी किसी को गोली मार सकता है। वह अपराधी शेर हो गया। वो आए बिहार में, उसे बताया जाएगा कि शेर क्या होता है। शेर वो होता है जो वतन के लिए शहीद होता है।’ वह कहते हैं कि अपराधी किसी जाति का हो, किसी मज़हब का हो, किसी दल का हो, वह सिर्फ़ अपराधी होता है।  

पांडेय ने कहा कि अपराध की संस्कृति के ख़िलाफ़ जनता को भी लड़ना होगा क्योंकि अपराध की संस्कृति को केवल पुलिस ख़त्म नहीं कर सकती है। 

देश से और ख़बरें

उत्तर प्रदेश पुलिस ने विकास दुबे को ब्राह्मण शेर बताने वाले लोगों के ख़िलाफ़ कार्रवाई शुरू कर दी है। कानपुर में कोचिंग संस्थान चलाने वाले एक शख़्स सहित रीता पांडेय नाम की महिला के ख़िलाफ़ भी पुलिस ने एफ़आईआर दर्ज की है। पुलिस लगातार ऐसे लोगों पर नजर रख रही है। 

लेकिन क्या ऐसे लोगों को ख़ुद पर शर्म नहीं आती कि वे एक कुख़्यात बदमाश को अपनी जाति से जोड़कर उसका महिमामंडन कर रहे हैं। और ऐसा सिर्फ़ ब्राह्मण जाति में हुआ हो, ऐसा नहीं है। आप सोशल मीडिया देखिए, अपनी जाति या अपने मज़हब से आने वाले बदमाशों को कुछ लोग किस तरह फ़ॉलो करते हैं। उन्हें हीरो का दर्जा देते हैं। ऐसे लोग ख़ुद तो मानसिक रूप से भ्रष्ट हैं ही, छोटे बच्चों और समाज के युवा वर्ग को भी जरायम की दुनिया में धकेलने का काम कर रहे हैं। 

डीजीपी पांडेय जैसे सीनियर पुलिस अफ़सर की बात सुनने के बाद तो कम से कम ऐसे लोगों की बुद्धि पर पड़ा पत्थर हट जाना चाहिए। उन्हें समझ आना चाहिए कि ऐसे दुर्दांत अपराधी को अपना हीरो बनाकर वह पूरे समाज के साथ ही देश का भी बहुत बड़ा नुक़सान कर रहे हैं।  

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें