loader

लक्ष्मण रेखा का ध्यान रखें: सीजेआई रमना 

सीजेआई एनवी रमना ने शनिवार को कहा है कि संविधान लोकतंत्र के तीन स्तंभों के बीच ताकतों का बंटवारा करता है और सभी को अपने दायित्व का पालन करते वक्त लक्ष्मण रेखा का ध्यान रखना चाहिए।

सीजेआई रमना ने अदालतों में स्थानीय भाषाओं के इस्तेमाल की भी जोरदार पैरवी की और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका समर्थन किया। 

सीजेआई रमना मुख्यमंत्रियों और सभी राज्यों की हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस की संयुक्त कांफ्रेंस में बोल रहे थे। इस कॉन्फ्रेंस का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया। 

ताज़ा ख़बरें

सीजेआई ने कहा कि न्यायिक घोषणाओं के बावजूद सरकारों द्वारा जानबूझकर की जाने वाली निष्क्रियता लोकतंत्र के लिए ठीक नहीं है। 

पर्सनल इंटरेस्ट लिटिगेशन 

उन्होंने जनहित याचिकाओं यानी पीआईएल के दुरुपयोग को लेकर भी चिंता जताई और कहा कि यह पर्सनल इंटरेस्ट लिटिगेशन बन गई है और इसका इस्तेमाल अपने फायदे के लिए किया जाता है। 

प्रधानमंत्री मोदी ने कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि हमें अदालतों में स्थानीय भाषाओं को बढ़ावा देने की जरूरत है। इससे न केवल आम आदमी का न्यायिक व्यवस्था में भरोसा बढ़ेगा बल्कि वह अदालतों के कामकाज से कहीं ज्यादा जुड़ाव महसूस करेगा।

मोदी ने कहा कि अदालतों में कामकाज अंग्रेजी में होता है और इसलिए देश की एक बड़ी आबादी को अदालत के फैसलों को समझना मुश्किल होता है। 

देश से और खबरें

प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों से अपील की कि वे पुराने पड़ चुके कानूनों को खत्म करें जिससे लोगों को त्वरित न्याय मिल सके। उन्होंने कहा केंद्र सरकार बीते कुछ सालों में 1450 ऐसे कानूनों को खत्म कर चुकी है जबकि राज्यों ने सिर्फ 75 ऐसे कानून खत्म किए हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें