loader

शरद पवार पर टिप्पणी, मराठी एक्ट्रेस केतकी चिताले हिरासत में

मराठी एक्ट्रेस केतकी चिताले के खिलाफ एनसीपी प्रमुख शरद पवार के खिलाफ फेसबुक पर एक "अपमानजनक" पोस्ट साझा करने पर केस दर्ज किया गया। केतकी चिताले को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। पवार को टारगेट करने वाली पोस्ट को कथित तौर पर किसी और ने लिखा था। लेकिन चिताले ने उसे शेयर कर दिया औऱ वो वायरल हो गई।  मराठी में की गई पोस्ट में एनसीपी प्रमुख के पूरे नाम का कोई सीधा उल्लेख नहीं है। लेकिन इसमें सरनेम मिस्टर पवार और 80 साल की उम्र का जिक्र है। एनसीपी के मुखिया 81 साल के हैं। उसका शीर्षक था - नरक इंतज़ार कर रहा है और "आप ब्राह्मणों से नफरत करते हैं" जैसी टिप्पणियां उस पोस्ट का हिस्सा हैं जो कथित तौर पर उस दिग्गज नेता की आलोचना करती है, जिसकी पार्टी शिवसेना और कांग्रेस के साथ महाराष्ट्र में सत्ता साझा करती है।

ताजा ख़बरें
एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि स्वप्निल नेटके की शिकायत के आधार पर शनिवार को ठाणे के कलवा पुलिस स्टेशन में चिताले के खिलाफ केस दर्ज किया गया था, जिसमें आरोप लगाया गया था कि केतकी ने पवार के खिलाफ आपत्तिजनक पोस्ट की थी, और उनकी पोस्ट से राज्य में दो राजनीतिक दलों के बीच संबंध खराब हो सकते हैं। चिताले के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 500 (मानहानि), 501 (मानहानि के लिए जाने जाने वाले मामले की छपाई या उत्कीर्णन), 505 (2) (किसी भी बयान, अफवाह या दुश्मनी को बढ़ावा देने वाली रिपोर्ट बनाना, प्रकाशित करना या प्रसारित करना) के तहत मामला दर्ज किया गया था। वर्गों के बीच घृणा या दुर्भावना), 153 ए (लोगों के बीच असामंजस्य फैलाना) की धारा लगाई गई हैं। इस बीच, पुणे में एनसीपी ने पुलिस को एक पत्र सौंपा जिसमें चिताले की पोस्ट को लेकर उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई। एनसीपी की पुणे शहर इकाई के अध्यक्ष प्रशांत जगताप ने कहा, चिताले की सोशल मीडिया पोस्ट मानहानि वाली है। उन्होंने पोस्ट में पवार और उनकी बेटी सुप्रिया सुले को बदनाम किया है। यह पोस्ट अशांति पैदा कर सकता है, यही वजह है कि हमने साइबर पुलिस को एक पत्र दिया है , उनसे उसके खिलाफ कार्रवाई करने का आग्रह किया।" एनसीपी ने यह भी मांग की कि अभिनेत्री को इस पोस्ट के लिए गिरफ्तार किया जाए। साइबर अपराध पुलिस थाने के निरीक्षक दगडू हेक ने कहा, एनसीपी के पत्र के बाद, हम अभिनेत्री के खिलाफ मामला दर्ज करने की प्रक्रिया में हैं। 

एनसीपी से जुड़े पोस्ट के संबंध में महाराष्ट्र के "कम से कम 100-200" पुलिस स्टेशनों में अपराध दर्ज करेंगे।


जितेंद्र आव्हाड, मंत्री, महाराष्ट्र सरकार

एनसीपी के कुछ नेताओं ने सोशल मीडिया पर पवार के खिलाफ की जा रही इस तरह की टिप्पणी के लिए बीजेपी और आरएसएस को जोड़ने की भी मांग की। उन्होंने कहा कि एनसीपी कार्यकर्ता अपने नेता के बारे में इस तरह की ''घृणित'' टिप्पणियों को बर्दाश्त नहीं करेंगे। जो सहन करना चाहते हैं, वे सहन कर लेंगे। लेकिन इस तरह का कुछ पढ़कर हम असहज महसूस करते हैं। समाज असहज महसूस करेगा। उन्होंने कहा, महाराष्ट्र में हमारे युवा कम से कम 100-200 पुलिस थानों में जाकर केस दर्ज कराएंगे... वह (शरद पवार) परिवार का पिता है- यानी एनसीपी। वह हमारे लिए सबकुछ है और उसके बारे में ऐसी भद्दी टिप्पणियां की जाती हैं।

तत्काल कार्रवाई की जानी चाहिए। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह एक अभिनेत्री, अभिनेता या कोई मंत्री हैं। उन्हें ऐसा बयान देने का कोई अधिकार नहीं है।


- छगन भुजबल, मंत्री महाराष्ट्र सरकार

एनसीपी प्रवक्ता क्लाइड क्रेस्टो ने कहा कि अभिनेत्री ने महाराष्ट्र के बीजेपी नेताओं से सीखा है कि "सस्ते और मुफ्त प्रचार" पाने का सबसे अच्छा तरीका पवार के खिलाफ अपमानजनक बयान देना है। क्रेस्टो ने ट्वीट किया, उन्होंने (बीजेपी नेताओं) सभी ने कोशिश की और असफल रहे, यह महिला भी ऐसा ही अनुभव करेगी। आशा है कि भगवान उसे कुछ संवेदनशीलता प्रदान करेंगे। महाराष्ट्र राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष रूपाली चाकणकर ने नागपुर में संवाददाताओं से कहा, यह आलोचना निंदनीय है..उन्हें ऐसी आलोचना में शामिल नहीं होना चाहिए। एनसीपी की महिला शाखा की महाराष्ट्र इकाई की प्रमुख विद्या चव्हाण ने भी कहा कि अभिनेत्री के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी और उन्होंने सोशल मीडिया पर पवार के बारे में इस तरह की टिप्पणी करने वाले युवाओं के लिए आरएसएस को जिम्मेदार ठहराया।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें