loader

अलग-थलग पड़ चुके हैं कांग्रेस के 'असंतुष्ट', क्या होगी अगली रणनीति?

जिन लोगों ने पार्टी अध्यक्ष पद के मुद्दे पर कोई एक फ़ैसला लेने की मांग करते हुए कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखी थी, वे बिल्कुल अलग-थलग पड़ चुके हैं। उनकी संख्या बहुत ही कम है, उनका विरोध करने वाली लॉबी बहुत ही मजबूत है और बड़ी है, ऐसा मान कर उन्होंने फ़िलहाल चुप बैठे रहना ही बेहतर समझा है।
एनडीटीवी ने एक ख़बर में कहा है कि 'वफ़ादारों' का पलटवार बहुत ही तेज़ था, तीखा था और 'असंतुष्टों' के पास चुप रहने के अलावा कोई उपाय नहीं है। इसकी वजह यह है कि उनकी संख्या बेहद कम है और उनकी बात सुनने वाला कोई नहीं है।
देश से और खबरें
सोमवार को हुई कांग्रेस कार्यकारिणी बैठक में इन लोगों की नहीं सुनी गई, उनकी कोई मांग पूरी नहीं हुई। उन्होंने वह चिट्ठी 7 अगस्त को ही लिखी थी, तब से लेकर अब तक के समय का इस्तेमाल वफादार गुट ने उनके ख़िलाफ़ माहौल बनाने में किया। इसका नतीजा यह हुआ कि पार्टी की बैठक में दूसरे मुद्दों पर बात हुई, पर जो मुद्दे उन्होंने उठाए थे, उन पर तो कोई चर्चा ही नहीं हुई। 
पूर्व मंत्री और राज्यसभा में विपक्ष के नेता ग़ुलाम नबी आज़ाद ने एनडीटीवी से कहा कि यह कहना पूरी तरह ग़लत है कि उन्होंने चिट्ठी लिखते समय सोनिया गांधी की ख़राब सेहत का ख्याल नहीं रखा। आज़ाद ने कहा,

'मुझे बताया गया कि वह रूटीन चेक अप के लिए अस्पताल गई हैं, हमने इंतजार किया। मैंने सोनिया जी से कहा, आपका स्वास्थ्य सर्वोपरि है, दूसरी बातें बाद में।'


ग़ुलाम नबी आज़ाद, नेता प्रतिपक्ष, राज्यसभा

आज़ाद ने यह भी कहा कि 'इसके बाद राहुल गांधी से बात हुई और उन्होंने उस पर संतोष जताया था।' एनडीटीवी ने यह भी कहा कि सोनिया गांधी ने कहा है कि उनके मन में इन लोगों के ख़िलाफ़ कुछ भी नहीं हैं। उन्होंने कहा,

'मैं आहत ज़रूर हुई, पर उनके प्रति कोई दुर्भावना नहीं है। जो बीत गई, वह बात गई, वे हमारे सहकर्मी हैं, हमें मिल जुल कर काम करना चाहिए।'


सोनिया गांधी, कार्यकारी अध्यक्ष, कांग्रेस

लेकिन सवाल यह है कि जिस तरह चिट्ठी लिखने वालों पर ज़ोरदार हमला हुआ और स्वयं राहुल गांधी ने बीजेपी के साथ सांठगांठ करने का आरोप मढ़ दिया, उससे कई सवाल खड़े होते हैं। इनका जवाब जल्द ही मिलेगा जब कांग्रेस अध्यक्ष चुनने की प्रक्रिया शुरू होगी।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें