loader

सर्वदलीय बैठक में पीएम अनुपस्थित, क्या यह 'असंसदीय' नहीं: कांग्रेस

संसद का मानसून सत्र सोमवार से शुरू होने जा रहा है और इससे पहले रविवार को बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री मोदी के नहीं शामिल होने पर कांग्रेस ने तंज कसा है। संसद के सुचारू रूप से संचालन के लिए प्रधानमंत्री द्वारा सर्वदलीय बैठक बुलाने और आयोजित करने की प्रथा रही है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने ट्वीट किया, "संसद के आगामी सत्र पर चर्चा के लिए सर्वदलीय बैठक अभी शुरू हुई है और प्रधानमंत्री हमेशा की तरह अनुपस्थित हैं। क्या यह 'असंसदीय' नहीं है?"

कांग्रेस नेता का 'असंसदीय' शब्द वाला तंज तब आया है जब हाल ही में संसद में कई शब्दों के 'असंसदीय' क़रार दिए जाने का मामला सामने आया है। 

क़रीब चार दिन पहले ही लोकसभा सचिवालय ने 'जुमलाजीवी', 'बाल बुद्धि', 'कोविड स्प्रेडर' और 'स्नूपगेट', 'शर्मिंदा', 'दुर्व्यवहार', 'विश्वासघात' जैसे शब्दों के इस्तेमाल को लेकर एक पुस्तिका जारी की थी। भ्रष्ट', 'नाटक', 'पाखंड', और 'अक्षम' को लोकसभा और राज्यसभा दोनों में "असंसदीय" के रूप कहा गया था।

ताज़ा ख़बरें

इनके अलावा 'अराजकतावादी', 'शकुनि', 'तानाशाही', 'तानाशाह', 'जयचंद', 'विनाश पुरुष', खालिस्तानी और 'खून से खेती' को भी खत्म कर गया। असंसदीय के रूप में सूचीबद्ध शब्दों में 'अराजकतावादी', 'गदर', 'गिरगिट', 'गुंडे', 'घड़ियाली आंसू', 'अपमान', 'असत्य', 'अहंकार' भी शामिल हैं। 

लोकसभा सचिवालय की एक पुस्तिका में कुछ शब्दों को 'असंसदीय' कहे जाने पर नाराजगी के बाद लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने एक स्पष्टीकरण जारी करते हुए कहा था कि सदस्य अपने विचार व्यक्त करने के लिए स्वतंत्र हैं और संसद में किसी भी शब्द पर प्रतिबंध नहीं लगाया गया है। 

देश से और ख़बरें

बहरहाल, रविवार को सर्वदलीय बैठक में संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने पार्टियों से संसद का सुचारू संचालन सुनिश्चित करने का आग्रह किया। मानसून सत्र के 12 अगस्त तक जारी रहने की संभावना है। कार्यक्रम के तहत 18 बैठकें होंगी और कुल 108 घंटे का समय होगा।

सर्वदलीय बैठक में बीजेपी के राजनाथ सिंह, पीयूष गोयल, प्रह्लाद जोशी, अर्जुन मेघवाल और मुरलीधरन शामिल हैं। कांग्रेस का प्रतिनिधित्व मल्लिकार्जुन खड़गे, अधीर रंजन चौधरी और जयराम रमेश ने किया। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी से शरद पवार और सुप्रिया सुले, जनता दल यूनाइटेड से रामनाथ ठाकुर, आम आदमी पार्टी के संजय सिंह और अकाली दल से हरसिमरत कौर भी मौजूद रहे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें