loader

18 साल से ऊपर के सभी लोगों के लिए राज्यों को मुफ़्त टीका देगा केंद्र

सोमवार की शाम देश को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक महत्वपूर्ण फ़ैसले का एलान किया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार टीका बनाने वाली कंपनियों से उनके कुल उत्पादन का 75 प्रतिशत हिस्सा खरीद कर राज्यों को मुफ़्त देगी। इससे यह होगा कि 18 साल से ऊपर की उम्र के सभी लोगों को मुफ़़्त कोरोना टीका दिया जा सकेगा।

इसके अलावा 25 प्रतिशत कोरोना टीका निजी क्षेत्र के लिए छोड़ दिया जाएगा। निजी अस्पताल ये टीके खरीद कर उन लोगों को दे सकेंगे जो पैसे देकर उनसे टीका लेना चाहेंगे। लेकिन ये अस्पताल टीका की कीमत के ऊपर सिर्फ 150 रुपए सेवा शुल्क के रूप में ले सकेंगे।

प्रधानमंत्री ने यह भी एलान किया कि ग़रीबी रेखा से नीचे के लोगों को पहले से मिल रहा मुफ़्त राशन अब नवंबर तक मिलता रहेगा। इससे 80 करोड़ लोगों को फ़ायदा मिल रहा है।

ख़ास ख़बरें

राष्ट्र के नाम प्रधानमंत्री के संबोधन की मुख्य बातें

  • केंद्र सरकार 75 प्रतिशत कोरोना टीका खरीद कर राज्यों को मुफ़्त में देगी।
  • टीका उत्पादन का 25 प्रतिशत हिस्सा निजी क्षेत्र के लिए छोड़ दिया जाएगा।
  • जो लोग पैसे देकर निजी अस्पतालों में टीका लगवाना चाहेंगे, वे ऐसा कर पाएंगे। 
  • निजी अस्पताल कोरोना टीका की कीमत के ऊपर सिर्फ 150 रुपए चार्ज कर सकेंगे। 
  • ग़रीबी रेखा से नीचे के लोगों को मुफ़्त राशन देने का काम नवंबर तक जारी रहेगा। इससे 80 करोड़ लोगों को फ़ायदा होगा। 

प्रधानमंत्री की कही दूसरी बातें

  • मोदी : कई लोगों ने कोरोना टीका के ख़िलाफ़ दुष्प्रचार किया, लोगों से कहा कि वे टीका न लें, टीका उत्पादकों का हौसला पस्त करने की कोशिशें की गईं। 
  • मोदी : 21 जून से केंद्र सरकार सभी राज्यों को 18 साल से ज़्यादा की उम्र के सभी लोगों के टीकाकरण के लिए वैक्सीन देगी। ये वैक्सीन मुफ़्त होंगे। यानी केंद्र सभी को मुफ़्त कोरोना टीका देगी। 
  • प्रधानमंत्री ने दावा किया कि कई राज्यों ने कहा कि वे टीकाकरण नहीं कर सकते और पुरानी व्यवस्था ही ठीक थी, यानी केंद्र ही टीकाकरण करे। 
  • मोदी : राज्यों ने माँग की कि कोरोना टीकाकरण वे खुद करेंगे क्योंकि स्वास्थ्य राज्य के क्षेत्र में आता है। 
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दावा किया कि इतनी बड़ी तादाद में लोगों को टीका देना पूरी मानवता के लिए बहुत बड़ी सफलता है। 
  • देश में सात कंपनियाँ अलग-अलग कोरोना वैक्सीन बना रही हैं। तीन वैक्सीन पर काम चल रहा है। ऐसी वैक्सीन पर भी काम चल रहा है, जिसे नाक से दिया जा सकेगा।
  • हमारी सरकार ने साल भर में दो कोरोना टीकों को विकसित कर लिया। सरकार ने अब तक 23 करोड़ लोगों को कोरोना टीका दे दिया। 
  • मोदी : स्वास्थ्य कर्मियों व फ्रंटलाइन वर्कर्स को पहले वैक्‍सीन लगाने का फैसला किया गया क्‍योंकि वे जोखिम का सामना अधिक करते हैं। कल्‍पना करिए कि दूसरी लहर के पहले वैक्‍सीन न लगती तो क्‍या होता।
  • मोदी : हमने चरणबद्ध तरीके से टीकाकरण शुरू किया और पहले वारियर्स को टीका लगाया फिर बुजुर्गो को।
  • मोदी : बच्‍चों के लिए भी दो वैक्‍सीन के ट्रायल चल रहे हैं। 

राज्यों पर क्या कहा मोदी ने?

  • मोदी : इस साल 16 जनवरी से 21 अप्रैल तक टीकाकरण केंद्र सरकार के अधीन ही चल रहा था।
  • मोदी :  इस बीच कई राज्‍य सरकारों ने कहा कि वैक्‍सीन का काम विकेंद्रीकृत किया जाए और राज्‍यों पर छोड़ दिया।
  • मोदी : राज्‍यों की माँग को देखते हुए 16 जनवरी से चली आ रही व्‍यवस्‍था में प्रयोग के तौर पर बदलाव किया गया। 
  • मोदी : 25 फ़ीसदी का काम राज्‍यों को सौंप दिया गया, यह काम 1 मई से राज्‍यों को सौंप दिया गया।
  • मोदी : इसके लिए राज्‍यों ने प्रयास भी किए और साथ भी यह अनुभव भी किया कि इस दिशा में कितनी परेशानियाँ आती हैं। मई में दो सप्‍ताह बीतते बीतते कई राज्‍य यह कहने लगे कि पहले वाली व्‍यवस्‍था ही सही थी।
  • जब बीजेपी की सरकार सत्ता में आई, टीकाकरण 60 प्रतिशत था। हमारी सरकार ने पाँच साल में इसे बढ़ा कर 90 प्रतिशत कर दिया। हमने युद्ध स्तर पर टीकाकरण का काम किया। 
  • देश के कोने-कोने से दवाएं मँगाई गईं, कोई कोर कसर नहीं छोड़ा गया। ऑक्सीजन उत्पादन कई गुणे बढ़ाया गया। सरकार ने दुनिया भर से ज़रूरी दवाएं मंगाईं।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन के शुरू में ही कोरोना से मारे गए लोगों के प्रति संवेदना प्रकट की और उन्हें श्रद्धांजलि दी। 

बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्र को ऐसे समय संबोधित किया है, जब कोरोना संक्रमण की रफ़्तार पहले से धीमी हो गई है। रोज़ाना संक्रमित होने वाले और कोरोना से मरने वालों की तादाद अपने उच्चतम सीमा पर पहुँच कर नीचे गिरने लगी है। 

सोमवार की सुबह स्वास्थ्य मंत्राल से जारी आँकड़ों के अनुसार, बीते 24 घंटों में संक्रमण के नए 1 लाख 636 मामले दर्ज किए गए, 61 दिनों बाद इतने कम दैनिक मामले सामने आए हैं। इससे कम मामले 6 अप्रैल को 96,982 दर्ज किए गए थे।

इसके अलावा कुल कोविड-19 मरीजों की तादाद 2 करोड़ 89 लाख 9 हजार 975 हो गई है। दूसरी ओर, इस दौरान 2,427 की मौत हुई है और मृतकों का कुल आँकड़ा 3 लाख 49 हजार 186 हो गया है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें