loader

ज्ञानवापीः कुछ वकीलों ने प्रदर्शन कर नमाज रोकने और पूजा की मांग की

ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर वाराणसी में गहमागहमी जारी है। कुछ वकीलों ने मंगलवार को प्रदर्शन कर मांग की कि वहां नमाज रोकी जाए और हिन्दुओं को पूजा की अनुमति दी जाए। इस बीच वाराणसी की जिला अदालत ने मंगलवार को चार महिला याचिकाकर्ताओं को निर्देश दिया कि वो लीक किए गए वीडियो और फोटो को अपने पास सुरक्षित रखें। 

ज्ञानवापी मामले की सुनवाई वाराणसी की जिला अदालत सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर कर रही है। लेकिन इस तथ्य को नजरन्दाज करते हुए कुछ वकीलों ने जिला कोर्ट के सामने प्रदर्शन किया और मांग की ज्ञानवापी में नमाज को रोका जाए। अगर नमाज होती है तो हमे भी पूजा का अधिकार दिया जाए। वकीलों ने यह भी मांग रखी कि इस मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट खुद करे।

ताजा ख़बरें

वकील विष्णु जैन ने कहा कि हमारा केस मजबूत है। हम अदालत में साबित करेंगे कि मंदिर को तोड़कर यहां मस्जिद बनाई गई। मस्जिद कमेटी ने भी दलीलें अभी तक अदालत में पेश की है, हमने उसका जवाब तैयार कर लिया है। इस मामले में ताजा घटनाक्रम ये है कि अब दोनों पक्ष एक दूसरे पर वीडियो लीक करने का आरोप लगा रहे हैं ताकि केस को कमजोर किया जा सके। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को वाराणसी जिला कोर्ट को भेजते समय निर्देश दिया था कि जिला कोर्ट इसकी सुनवाई करे और ज्ञानवापी में नमाज जारी रहेगी, वजूखाना में वजू भी जारी रहेगा। जहां कथित तौर पर शिवलिंग मिलने का दावा किया गया था, उस जगह की सुरक्षा का निर्देश जारी किया था। 

इस बीच वाराणसी जिला अदालत ने मंगलवार को ज्ञानवापी मामले में चार हिंदू महिला याचिकाकर्ताओं को लीक वीडियो फुटेज और सर्वे की फोटो की सीडी अपने पास सुरक्षित रखने का निर्देश दिया है।

चार महिलाएं अदालत द्वारा नियुक्त सर्वे की सीडी को मस्जिद के अंदर सौंपने के लिए अदालत में आई थीं। इसके एक दिन बाद यह लीक हो गई और कुछ टीवी चैनलों और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर प्रसारित हो गई।
कॉम्पैक्ट डिस्क (सीडी) में प्राप्त सामग्री को सार्वजनिक नहीं करने का हलफनामा देने के बाद जिला अदालत ने पांच हिंदू महिला याचिकाकर्ताओं में से चार को सीलबंद पैकेट में फुटेज की प्रतियां दी थीं।

अदालत ने वीडियो फुटेज की सीडी वापस नहीं ली और सुनवाई की अगली तारीख 4 जुलाई तय की। महिलाओं से कहा गया कि वे इसे सुरक्षित रखें। महिलाएं परिसर में एक कथित शिवलिंग होने का दावा करते हुए मस्जिद के अंदर पूजा के अधिकार की मांग कर रही हैं।

देश से और खबरें
याचिकाकर्ता राखी सिंह की ओर से पेश अधिवक्ता शिवम गौर ने कहा कि वाराणसी जिला अदालत में एक आवेदन दिया गया था जिसमें सील किए गए दस्तावेजों के लीक होने की सीबीआई जांच की मांग की गई थी।

उन्होंने कहा कि मैंने जिला अदालत में एक आवेदन दिया, जिसमें ज्ञानवापी सर्वेक्षण रिपोर्ट के वीडियो फुटेज के लीक होने की सीबीआई जांच की मांग की थी। अदालत ने सुनवाई की तारीख चार जुलाई तय की।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें