loader

विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांज गिरफ़्तार 

विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांज को लंदन स्थित इक्वाडोर दूतावास से गिरफ़्तार कर लिया गया है। बीते 7 सालों से असांज ने इक्वाडोर के दूतावास में शरण ली हुई थी। इक्‍वाडोर के दूतावास ने ब्रिटिश पुलिस को बुलाया था, जिसके बाद मेट्रोपॉलिटन पुलिस सर्विस (MPS) ने गुरुवार को उन्‍हें गिरफ़्तार कर लिया। 

लंदन की मेट्रोपोलिटन पुलिस ने कहा कि फिलहाल असांज को हिरासत में लिया गया है और उन्हें वेस्टमिन्सटर मजिस्ट्रेट कोर्ट के समक्ष पेश किया जाएगा। ग़ौरतलब है कि असांज ने 2010 में बड़ी संख्या में अमेरिका के गोपनीय दस्तावेज़ों को सार्वजनिक किया था। असांज पर आरोप है कि उन्होंने विकीलीक्स की वेबसाइट पर इराक युद्ध से जुड़े दस्तावेज़ सार्वजनिक कर दिए थे। 

ताज़ा ख़बरें

असांज ने स्वीडन में प्रत्यर्पित होने से बचने के लिए 2012 में इक्वाडोर के लंदन दूतावास में शरण ली थी, यहाँ अधिकारी उनसे यौन उत्पीड़न की जाँच के मामले में उससे पूछताछ करना चाहते थे। हालॉकि बाद में इस जाँच को बंद कर दिया गया था। असांज को इस बात का डर था कि उन्हें आरोपों का सामना करने के लिए अमेरिका में प्रत्यर्पित किया जा सकता है, जहाँ विकीलीक्स की जाँच चल रही है। 

देश से और ख़बरें

असांज का अपने मेजबानों के साथ संबंध तब टूट गया था जब इक्वाडोर ने उन पर राष्ट्रपति लेनिन मोरेनो के निजी जीवन के बारे में जानकारी लीक करने का आरोप लगाया था। मोरेनो ने कहा था कि असांज ने उन्हें शरण देने की शर्तों का उल्लंघन किया है। हालाँकि मोरेनो ने कहा था कि उन्होंने ब्रिटेन को यह गारंटी देने के लिए कहा था कि असांज को ऐसे देश में प्रत्यर्पित नहीं किया जाएगा जहाँ उसका उत्पीड़न हो या उसे मौत की सजा सुनाई जाए। 

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ख़ास ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें