loader

धर्म संसद में संत ने ही 'नफ़रती' की बोलती बंद की! लोग बोले- ऐसे होते हैं साधु

हरिद्वार 'धर्म संसद' में जैसा जहर उगला गया, वैसा ही रायपुर 'धर्म संसद' में भी हुआ था लेकिन एक संत ने मंच से ही नफरतियों और कट्टरपंथियों को मुंहतोड़ जवाब दे दिया। आपत्तिजनक भाषण देने वाले नफरती 'संत' को भी और उस भीड़ को भी जो तालियाँ बजा रही थी। उन्होंने न सिर्फ़ आपत्तिजनक भाषण की आलोचना की, बल्कि उन्होंने उस धर्म संसद से खुद को अलग कर लिया। अब उस संत की जमकर तारीफ हो रही है। कहा जा रहा है कि ऐसे होते हैं साधु-संत। हरिद्वार 'धर्म संसद' से तुलना करते हुए कहा तो यह भी जा रहा है कि काश रायपुर 'धर्म संसद' की तरह हरिद्वार में भी किसी साधु-संत ने ऐसा मुखर प्रतिरोध किया होता!

रायपुर धर्म संसद में विरोध करने वाले उस संत की पहचान दूधाधारी मठ के महंत संत रामसुन्दर दास के रूप में बताई जा रही है। धर्म संसद में दिए गए उनके वक्तव्य वाले वीडियो को सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है। 

ताज़ा ख़बरें

उस वीडियो में उस संत को यह कहते सुना जा सकता है, ''मैं आप सबसे पूछना चाहता हूँ इस बात को कि इस धर्म संसद से, इस मंच से जो बात कहकर यहाँ से चले गए, अब आप बताइए उस समय आपने ख़ूब ताली बजाई थी। क्या महात्मा गांधी सही में गद्दार थे? क्या महात्मा गांधी.... थे? टीवी का रिकॉर्ड देखिए, यही शब्द का उच्चारण किया गया यहां से। और ताली ख़ूब बजी। सन 1947 का वह घटना याद कीजिए। जिस परिस्थितिवश भारत स्वतंत्र हुआ... उस महात्मा गांधी ने क्या कुछ नहीं किया जिसे राष्ट्रपिता की उपाधि से नवाजा गया। अब उनके विषय में इस धर्म संसद से ऐसी बात? ये हमारा सनातन धर्म नहीं हो सकता। मैं बहुत क्षमा चाहता हूँ आप सबसे। आप लोगों को भले ही बुरा लगा हो, लेकिन इस धर्म संसद से मैं खुद को अलग करता हूँ, पृथक करता हूँ। धन्यवाद।'' यह कहकर मंच से संत चले जाते हैं। और इसी वक़्त उनके भाषण पर भी कुछ लोग तालियाँ बजाते हैं। 

उनका यह वक्तव्य पहले एक 'साधु' द्वारा दिए गए आपत्तिजनक भाषण पर आया। संत रामसुन्दर दास से पहले भाषण देने आए वह 'साधु' महाराष्ट्र के एक धार्मिक नेता संत कालीचरण थे। उन्होंने कथित तौर पर गांधीजी को गालियाँ दीं और नाथुराम गोडसे के कृत्य को सही क़रार दिय। अब तो पुलिस ने भी इस घटना की पुष्टि की है, संत कालीचरण के ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा 505(2) और 294 के तहत एफ़आईआर दर्ज की है।

देश से और ख़बरें

संत रामसुन्दर दास द्वारा रायपुर धर्म-संसद के आयोजन से अलग हटने की सोशल मीडिया पर लोग तारीफ़ कर रहे हैं। रिटायर्ड आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ने ट्वीट किया, "ये है संत का धर्म! इससे पूर्व एक मूढ़ भगवाधारी ने महात्मा गांधी को अभद्र गालियां दीं, नाथूराम गोडसे द्वारा की गई हत्या को सही बताया। इससे क्षुब्ध हो कर महंत रामसुंदर दास ने ख़ुद को उस 'अधर्म' संसद से अलग कर लिया। नमन है, ऐसे संत को।।"

mahant ram sundar quits raipur dharm sansad fora abusing mahatma gandhi - Satya Hindi

विनोद कापड़ी ने ट्वीट किया, 'धर्म ये होता है। बापू को गाली देने पर महंत रामसुंदर दास ने ख़ुद को गाली-गलौज वाली अधर्म संसद से अलग किया।'

वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवी ने ट्वीट किया, 'ऐसे साहसी साधु को साधुवाद, जिन्होंने रायपुर धर्म-संसद में गांधीजी को गाली देने का प्रतिकार करते हुए आयोजन को ही त्याग दिया। जबकि वे आयोजन के मुख्य संरक्षक थे। काश हरिद्वार में भी किसी साधु-महंत ने ऐसा मुखर प्रतिरोध ज़ाहिर किया होता।'

ख़ास ख़बरें
ऑल्ट न्यूज़ के मोहम्मद ज़ुबैर ने ट्वीट किया, 'छत्तीसगढ़ में महाराष्ट्र से आए संत कालीचरण ने मंच से राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को गाली दी और महात्मा को गोली मारने वाले को नमस्कार किया है। इसके बाद भीड़ ने जमकर ताली बजाई। धर्म संसद में ऐसी भाषा के प्रयोग से महंत राम सुंदर दास नाराज हो गए और धर्म संसद का बायकॉट कर दिया है।'
कांग्रेस से जुड़ी राधिका खेड़ा ने ट्वीट किया, 'ये है हमारा हिंदू धर्म। और ऐसे होते हैं हमारे महात्मा संत! रायपुर में हो रही धर्म संसद के संरक्षक दूधाधारी मठ के महंत संत रामसुन्दर दास जी ने मंच पर गांधी जी को गाली देने की आलोचना कर खुद को इस ज़हरीले मंच से अलग किया। सही मायने में ये हमारे धर्म के संरक्षक हैं।'
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें