loader

ऐतिहासिक सूखे की आशंका, क्या कर रही है मोदी सरकार?

जून का यह महीना देश के 100 साल के इतिहास में सबसे सूखे 5 महीनों में एक है। बारिश औसत से 35 प्रतिशत कम हुई है। इसका नतीजा यह है कि खरीफ़ फ़सल की बुवाई औसत से 25 प्रतिशत कम हुई है। देश के कई इलाक़ों में सूखे की स्थिति है, कई जगहों पर पीने के पानी की किल्लत है। कृषि ख़राब होने से ग्रामीण अर्थव्यवस्था की कमर टूटेगी, गाँव के लोगों की क्रय शक्ति कम हो जाएगी। इसका असर पहले से मंदी की मार झेल रही अर्थव्यवस्था पर पड़ेगा। यह अच्छी ख़बर नहीं है। 

देश से और खबरें
मौसम विभाग का कहना है कि जून में 97.9 मिलीमीटर बारिश हुई, जबकि औसत बारिश 151.1 मिलीमीटर रहती है। यदि इन दो दिनों में अच्छी बारिश हुई तो भी यह 106 मिलीमीटर के आसपास ही रहेगी, यह भी औसत से कम होगा। साल 1920 से अब तक सिर्फ़ चार बार ऐसा हुआ कि इस बार के जून से कम बारिश हुई है। ये साल हैं 2009 (85.7 मिलीमीटर), 2014 (95.4 मिलीमीटर), 1926 (98.7 मिलीमीटर) और 1923 (102 मिलीमीटर)। 

मामला क्या है?

यह भी ध्यान लायक बात है कि 2004 और 2014 में मानसून पर अल नीनो का असर था। अल नीनो की स्थिति तब पैदा होती है जब प्रशांत महासागर के ऊपर का तापमान एक निश्चित सीमा से ज़्यादा हो जाता है, इससे ट्रॉपिकल क्षेत्र की जलवायु अनिश्चित हो जाती है, बारिश कम हो जाती है और गर्मी बहुत ही अधिक बढ़ जाती है। मौसम विभाग निश्चित तौर पर यह नहीं कह रहा है कि अल नीनो का असर पड़ रहा है, पर वह इससे इनकार भी नहीं कर रहा है। 

इसका असर यह हुआ है कि खरीफ़ की बुवाई बुरी तरह प्रभावित हुई है। लगभग 25 प्रतिशत कम बुवाई हुई है। कृषि मंत्रालय के आँकड़ों के मुताबिक़, इस बार अब तक सिर्फ़ 146.61 लाख हेक्टेअर में खरीफ़ की बुवाई हुई है। पिछले साल इसी दौरान 162.07 लाख हेक्टेअर ज़मीन पर खरीफ़ की बुवाई अब तक हो चुकी थी।

लचर ग्रामीण अर्थव्यवस्था

सबसे बुरा असर दलहन की बुवाई पर पड़ा है। अब तक सिर्फ 3.42 लाख हेक्टेअर पर इसकी बुवाई हो पाई है, जबकि पिछले साल 8.86 लाख हेक्टेअर ज़मीन पर दलहनों की बुवाई हुई थी। उसके एक साल पहले यानी 2017 में 18.18 हेक्टेअर ज़मीन पर दलहन की बुवाई की गई थी। साफ़ है, दलहन की बुवाई लगातार कम होती जा रही है। यह उस स्थिति में हो रही है जब अच्छी फ़सल होने पर भी भारत को  दालों का आयात करना होता है। 

देश की ग्रामीण अर्थव्यवस्था पहले से ही लचर हाल में है। कृषि उत्पादों की उचित कीमत न मिलने, लघु व सूक्ष्म ईकाइयों के अच्छा व्यवसाय नहीं करने और दूसरे कारणों से गाँव की अर्थव्यवस्था का बुरा हाल है, सरकार की ओर से कोई समर्थन नहीं है।
नतीजा यह है कि गाँव के लोगों की क्रय शक्ति कम हुई है। इस बार फ़सल अच्छी नहीं होगी तो ग्रामीण अर्थव्यवस्था पर और बुरा असर पड़ेगा, लोगों की क्रय शक्ति और प्रभावित होगी। इससे देश की अर्थव्यवस्था पर भी बुरा असर पड़ेगा, इससे इनकार नहीं किया जा सकता। 

सवाल यह है कि इस स्थिति से बाहर निकलने का कोई रास्ता है? क्या सरकार के पास कोई ऐसा उपाय है, जिससे वह इस स्थिति में किसानों की मदद कर सके। दरअसल, भारत की कृषि व्यवस्था पारंपरिक रूप से बड़े स्तर पर मानसून पर निर्भर रही है। पिछले कुछ दशकों से कृषि अधिक उपेक्षित हुई है, सरकार अब इस और तब तक ध्यान नहीं देती जब तक कोई राजनीतिक कारण नहीं सामने आए। लिहाज़ा, सिंचाई के मामले में अभी भी भारत कई विकासशील देशों से पीछे है। इसलिए इस बार का यह संकट यकायक आया हुआ संकट नहीं है, यह दशकों की उपेक्षा का नतीजा है।
 नरेंद्र मोदी के सत्ता संभाले हुए 5 साल बीच चुके, दूसरा कार्यकाल शुरू हो गया, लेकिन उन्होंने भी इस दिशा में कुछ नहीं किया है। वे भले ही इस स्थिति के लिए भी जवाहर लाल नेहरू को दोष दें, पर सामान्य सिंचाई या ग्रामीण अर्थव्यवस्था सुधारने के लिए कम से कम कोई कार्य योजना तो बन ही सकती ही। ऐसा कुछ नहीं हुआ है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें