loader

फोन टैपिंग डाटा लीक: मुंबई पुलिस ने किया सीबीआई प्रमुख को तलब

सीबीआई प्रमुख सुबोध कुमार जायसवाल को मुंबई पुलिस के साइबर सेल ने फोन टैपिंग और डाटा लीक मामले में तलब किया है। मुंबई पुलिस ने कहा है कि समन एक ई-मेल के ज़रिए भेजा गया है, जिसमें उन्हें अगले गुरुवार को पेश होने के लिए कहा गया है।

इस फोन टैपिंग डाट लीक मामले ने इस साल मार्च महीने में महाराष्ट्र की राजनीति में उथप-पुथल ला दी थी। इसकी गूंज अभी भी सुनाई देती है। इस मामले की सुनवाई अभी भी बॉम्बे हाईकोर्ट द्वारा की जा रही है। यह मामला आईपीएस अधिकारी रश्मि शुक्ला द्वारा महाराष्ट्र में पुलिस तबादलों में कथित भ्रष्टाचार के बारे में तैयार की गई एक रिपोर्ट के 'लीक' होने से जुड़ा है। शुक्ला तब राज्य के खुफिया विभाग की प्रमुख थीं। उस दौरान सुबोध कुमार जायसवाल पुलिस महानिदेशक थे।

ताज़ा ख़बरें

महाराष्ट्र की राजनीति में उस समय बवाल मच गया था जब महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने पूर्व इंटेलिजेंस कमिश्नर रश्मि शुक्ला की रिपोर्ट के हवाले से कई आरोप लगाए थे। शुक्ला के नेतृत्व वाली एजेंसी द्वारा पिछले साल अगस्त से अक्टूबर के बीच खुफिया जानकारी के आधार पर कुछ दलालों के फ़ोन नंबर सर्विलांस पर रखकर टेप किए गए थे। टेप किए गए नंबरों से खुलासा हुआ था कि महाराष्ट्र के लगभग दो दर्जन से ज़्यादा पुलिस अधिकारियों ने ट्रांसफर पोस्टिंग के लिए दलालों से संपर्क किया था, और ये दलाल महाराष्ट्र के कई बड़े नेताओं से संपर्क में थे। 

बाद में इस रिपोर्ट में इस बात का भी खुलासा हुआ था कि कुछ पुलिस अधिकारियों के तबादले और पोस्टिंग इस रिपोर्ट के अनुसार ही हुए थे। इतना ही नहीं, रश्मि शुक्ला ने टॉप सीक्रेट रिपोर्ट महाराष्ट्र के डीजीपी को सौंपी थी और डीजीपी ने महाराष्ट्र के अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह को रिपोर्ट सौंपी थी। फिर सवाल उठा कि आख़िर यह रिपोर्ट कहाँ से लीक हुई?
इस हंगामे के बाद एनसीपी ने आरोप लगाया था कि रश्मि शुक्ला ने बीजेपी की एजेंट की तरह काम किया। एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा था कि रश्मि शुक्ला की रिपोर्ट में किसी तरह का तथ्य नहीं है और ठाकरे सरकार को बदनाम करने के लिए यह खेल चल रहा है।

महाराष्ट्र सरकार ने इस रिपोर्ट के सार्वजनिक होने पर आपत्ति जताई थी। जिस तरह से पूर्व इंटेलिजेंस कमिश्नर रश्मि शुक्ला ने बगैर सरकार की इजाजत के मंत्रियों, विधायकों और पुलिस अफसरों के फ़ोन टेप किए उसे निजता का हनन माना गया। सरकार ने टेप कांड के मामले की जाँच के लिए एक कमेटी का गठन किया था। 

देश से और ख़बरें

बाद में मुंबई पुलिस की साइबर सेल ने सीक्रेट रिपोर्ट लीक करने के मामले में अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ़ मामला दर्ज किया। आरोप लगा कि जांच के दौरान वरिष्ठ नेताओं और अधिकारियों के फोन अवैध रूप से टैप किए गए और रिपोर्ट जानबूझकर लीक की गई। लेकिन साइबर सेल द्वारा इस संबंध में दर्ज की गई प्राथमिकी में शुक्ला या किसी अन्य अधिकारी का नाम नहीं है।

बता दें कि महाराष्ट्र कैडर के 1985 बैच के आईपीएस अधिकारी जायसवाल को इस साल मई में दो साल की अवधि के लिए केंद्रीय जांच ब्यूरो का प्रमुख नियुक्त किया गया है। सीबीआई पद पर नियुक्ति के बाद उनसे पूछताछ के लिए समन भेजा गया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें