loader

ब्राज़ील, ब्रिटेन से लौटे लोगों में मिला नया वैरिएंट कितना घातक?

कोरोना वायरस का एक और नया स्ट्रेन गंभीर चिंता पैदा करने वाला हो सकता है। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ वायरोलॉजी यानी एनआईवी पुणे ने ब्रिटेन और ब्राज़ील से भारत आने वाले यात्रियों के सैंपल में जीनोम सिक्वेंसिंग के ज़रिए एक नये स्ट्रेन का पता लगाया है। संकेत मिले हैं कि इस नये वैरिएंट से ज़्यादा गंभीर लक्षण दिखते हैं।

एनआईवी की इस ताज़ा रिपोर्ट से इसलिए चिंता पैदा होती है कि भारत में सबसे पहले मिले दूसरे स्ट्रेन बी.1.617 को कोरोना की दूसरी लहर के लिए ज़िम्मेदार माना जा रहा है। दूसरी लहर में भारत में कोरोना बेकाबू हो गया था और हर रोज़ 4 लाख से ज़्यादा केस और 4500 से ज़्यादा मौतें होने लगी थीं। दुनिया भर में यह रिकॉर्ड है। श्मशान-कब्रिस्तानों में शवों की कतारें लग गई थीं। गंगा नदी में हज़ारों लाशें तैरती हुई और रेत में दबाई हुई मिली थीं।

ताज़ा ख़बरें

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ वायरोलॉजी पुणे की ताज़ा रिपोर्ट के अनुसार ब्रिटेन व ब्राज़ील से आने वाले यात्रियों में बी.1.1.28.2 वैरिएंट मिले हैं। 'टीओआई' की रिपोर्ट के अनुसार, बीमारी की स्थिति के मूल्यांकन के निष्कर्ष रोग की गंभीरता बढ़ी हुई दिखाते हैं। इसके निष्कर्ष इस नये स्ट्रेन पर वैक्सीन की प्रभाविकता की जाँच की ज़रूरत की ओर भी इशारा करते हैं। इसके अध्ययन के निष्कर्ष को ऑनलाइन प्रकाशित किया गया है।

अध्ययन में कहा गया है कि बी.1.1.28.2 स्ट्रेन से शरीर के वजन में कमी, साँस लेने में दिक्कत, फेफड़ों में गंभीर दिक्कतें आ रही हैं। अध्ययन में यह भी कहा गया है कि इस स्ट्रेन पर जीनोमिक निगरानी की ज़रूरत है और इसके अनुसार ही इससे बचने की तैयारी किए जाने की ज़रूरत है। 

बता दें कि जीनोम सिक्वेंसिंग प्रयोगशालाएँ ऐसे म्यूटेंट पर नज़र रख रही हैं जो संक्रमण को तेज़ी से फैलाने की क्षमता रखते हैं। इस काम में लगी देश की 10 राष्ट्रीय प्रयोगशालाओं ने अब तक क़रीब 30,000 नमूनों की सिक्वेंसिंग की है। सरकार ने अब ऐसी प्रयोगशालाओं की संख्या बढ़ाकर 18 कर दी है। 

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ज़्यादा से ज़्यादा जीनोम सिक्वेंसिंग पर जोर दिया जा रहा है ताकि नये मिलने वाले स्ट्रेन की घातकता को पहचान कर उसको फैलने से रोकने के प्रभावी तरीक़े समय पर अपनाएँ जा सकें।

भारत में इससे पहले जो घातक नया स्ट्रेन मिला था उसकी पहचान बी.1.617 के रूप में की गई थी। कुछ रिपोर्टों में आरोप लगाया गया कि विशेषज्ञों ने इसको लेकर चेताया था लेकिन इस पर ध्यान नहीं दिया गया। इस पर त्वरित क़दम नहीं उठाए गए और इसी का नतीजा हुआ कि दूसरी लहर बेकाबू हो गयी थी। 

niv finds new variant in travellers from the uk and brazil  - Satya Hindi

वैसे, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी बी.1.617 को चिंतित करने वाले स्ट्रेन की श्रेणी में रखा है। पिछले हफ़्ते ही विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्ल्यूएचओ ने कहा कि भारत में मिले वैरिएंट में से सिर्फ़ एक स्ट्रेन ही चिंतित करने वाला है। इसे ही भारत में दूसरी लहर में तेज़ी से संक्रमण के लिए ज़िम्मेदार माना गया। दुनिया भर में इस तरह के ख़तरनाक वैरिएंट चार हैं। डब्ल्यूएचओ की यह रिपोर्ट तब की है जब एनआईवी की ओर से नये स्ट्रेन बी.1.1.28.2 का खुलासा नहीं किया गया था।

इससे पहले तक की रिपोर्ट के अनुसार भारत में मिले सभी स्ट्रेन में सबसे ज़्यादा बी.1.617 स्ट्रेन चर्चा में रहा है और इसे ट्रिपल म्यूटेंट वैरिएंट कहा गया क्योंकि यह फिर से तीन अलग-अलग रूप में- बी.1.617.1, बी.1.617.2 और बी.1.617.3 फैला। 

देश से और ख़बरें

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने पहले भारत के इस मूल वैरिएंट को ही 'वैरिएंट ऑफ़ कंसर्न' यानी 'चिंता वाला वैरिएंट' बताया था लेकिन बाद में इसने साफ़ किया कि इसमें से बी.1.617.2 ही 'चिंता वाला वैरिएंट' है। बाक़ी वैरिएंट में इतना ख़तरा नहीं है जितना कि इस बी.1.617.2 वाले में। इसी कारण विश्व स्वास्थ्य संगठन इस वैरिएंट के ख़तरों पर ज़्यादा पैनी नज़र रख रहा है और इस पर अपेक्षाकृत ज़्यादा शोध भी किया जा रहा है। 

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार फ़िलहाल दुनिया में 4 वैरिएंट को 'वैरिएंट ऑफ़ कंसर्न' बताया गया है। ये चारों वैरिएंट सबसे पहली बार यूके, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील और भारत में मिले।

डब्ल्यूएचओ ने भारत में मिले बी.1.617.2 वैरिएंट को डेल्टा नाम दिया है। भारत में ही सबसे पहले मिले बी.1.617.3 को वैरिएंट ऑफ़ इंटरेस्ट बताया गया है और इसको कप्पा नाम दिया गया है। 

'चिंता वाले वैरिएंट' में शामिल यूके में मिले वैरिएंट को अल्फा, दक्षिण अफ्रीका में मिले वैरिएंट को बीटा और ब्राज़ील में मिले वैरिएंट को गामा नाम दिया गया है। इसके अलवा 'वैरिएंट ऑफ़ इंटरेस्ट' में 6 वैरिएंट हैं और इन्हें भी अलग-अलग नाम दिया गया है जिसमें से एक भारत में मिले कप्पा वैरिएंट भी है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें