loader

हंगामे के बाद संसद के दोनों सदन मंगलवार तक के लिए स्थगित

संसद के दोनों सदनों में हंगामा होने के बाद इन्हें मंगलवार तक के लिए स्थगित कर दिया गया। राज्यसभा में विपक्षी दलों के सांसदों ने महंगाई और जीएसटी दरों में वृद्धि को लेकर हंगामा किया। दूसरी ओर, लोकसभा में मूल्य वृद्धि और अग्निपथ योजना को लेकर सांसदों ने आवाज़ उठाई। 

इस दौरान आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह के नेतृत्व में अन्य सांसदों ने संसद भवन में प्रदर्शन किया। उनका कहना था कि केंद्र सरकार दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को सिंगापुर जाने की इजाजत नहीं दे रही है और इस मुद्दे पर सदन में चर्चा होनी चाहिए। 

राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू ने जानकारी दी कि केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल को राज्यसभा में सदन का नेता नियुक्त किया गया है। इससे पहले लोकसभा और राज्यसभा में आए नए सांसदों को शपथ भी दिलाई गई। 

ताज़ा ख़बरें

संसद का यह सत्र 12 अगस्त तक चलेगा और इस दौरान केंद्र सरकार 32 विधेयकों को संसद में रखेगी। इन विधेयकों में छावनी विधेयक, बहु-राज्य सहकारी समिति विधेयक, उद्यमों का विकास और सेवा केंद्र विधेयक आदि शामिल हैं। 

सत्र बेहद महत्वपूर्ण: मोदी

सत्र शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पत्रकारों से कहा कि यह सत्र बेहद महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि इसी सत्र में राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति पद के लिए चुनाव होना है। उन्होंने कहा कि सभी सांसद सदन की कार्यवाही में सहयोग करें। उन्होंने कहा कि सभी के प्रयास से ही सदन और लोकतंत्र चलता है। संसद का कामकाज शांतिपूर्वक चले इसके लिए रविवार को सरकार की ओर से एक सर्वदलीय बैठक भी बुलाई गई थी। 

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अध्यक्षता में संसद भवन में कांग्रेस संसदीय दल की रणनीतिक बैठक भी हुई।

Parliament monsoon session 2022  - Satya Hindi

सर्वदलीय बैठक में पीएम मोदी की अनुपस्थिति की विपक्षी खेमे की आलोचना की थी। कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने ट्वीट कर कहा था, "क्या यह 'असंसदीय' नहीं है?" बैठक में 36 राजनीतिक दलों ने भाग लिया था। कांग्रेस ने कहा था कि वह डीएचएफएल बैंक धोखाधड़ी, बढ़ती बेरोजगारी, रुपये के मूल्य के संकट, हेट स्पीच, जम्मू-कश्मीर में बढ़ते अपराध और कश्मीरी पंडितों पर हमले, अल्पसंख्यकों के घरों को अवैध रूप से गिराने आदि मुद्दों को उठाएगी। 

संसद के पिछले कुछ सत्र पेगासस जासूसी विवाद, कृषि कानूनों के मामले में हंगामेदार रहे हैं। 

देश से और खबरें

प्लेकार्ड, पैंफलेट पर रोक

बता दें कि राज्यसभा के महासचिव की ओर से एक लिखित आदेश में कहा गया था कि सांसद किसी भी तरह के प्रदर्शन, धरना, हड़ताल, उपवास या फिर कोई धार्मिक कार्यक्रम करने के उद्देश्य से संसद भवन के परिसर का इस्तेमाल ना करें। इसका विपक्ष ने विरोध किया था। संसद भवन में प्लेकार्ड, पैंफलेट आदि ले जाने पर रोक लगाई गई है। 

लोकसभा सचिवालय की ओर से जारी किए गए बुलेटिन में कुछ शब्दों को असंसदीय करार दिए जाने पर अच्छा-खासा हंगामा हुआ था। विपक्ष के कई नेताओं ने कहा था कि वे इन शब्दों का इस्तेमाल जरूर करेंगे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें