loader

वैक्सीन के सर्टिफ़िकेट पर मोदी के फ़ोटो के ख़िलाफ़ याचिका पर 1 लाख का जुर्माना

कोरोना वैक्सीन के सर्टिफ़िकेट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फ़ोटो के ख़िलाफ़ केरल हाई कोर्ट में याचिका दायर करना एक शख़्स को महंगा पड़ गया। हाई कोर्ट ने उस पर 1 लाख रुपये का जुर्माना लगा दिया। अदालत ने इस केस को तुच्छ, राजनीति से प्रेरित और इस याचिका को प्रचार हासिल करने के उद्देश्य से दायर याचिका करार दिया।

पीटीआई के मुताबिक़, जस्टिस कुन्हीकृष्णन ने कहा, “यह कोई नहीं कह सकता कि प्रधानमंत्री कांग्रेस के प्रधानमंत्री हैं या बीजेपी के या फिर किसी और राजनीतिक दल के। जब एक बार संविधान के मुताबिक़ प्रधानमंत्री चुन लिए जाते हैं तो वह पूरे देश के प्रधानमंत्री होते हैं और यह पद देश के हर नागरिक के लिए गर्व का विषय होना चाहिए।”

जज ने कहा कि लोगों को प्रधानमंत्री के फ़ोटो वाले सर्टिफ़िकेट को अपने पास रखने में शर्मिंदा होने की ज़रूरत नहीं है। 

ताज़ा ख़बरें
अदालत ने कहा कि याचिकाकर्ता छह हफ़्ते के भीतर 1 लाख रुपये जमा करें ऐसा न करने पर उनकी संपत्तियों को बेचकर इसकी भरपाई की जाएगी। अदालत ने इस याचिका को ग़ैर जरूरी याचिका भी करार दिया। 

यह याचिका आरटीआई कार्यकर्ता पीटर मायलीपरम्पिल ने दायर की थी। पीटर का कहना था कि निजी अस्पतालों में जब लोग पैसे देकर वैक्सीन लगवा रहे हैं तो उसके सर्टिफ़िकेट पर प्रधानमंत्री का फ़ोटो होना मौलिक अधिकारों का उल्लंघन है। 

देश से और ख़बरें

पहले भी हुआ था विवाद 

वैक्सीन के सर्टिफ़िकेट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का फोटो होने को लेकर पहले भी विवाद हुआ था। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने इसे लेकर सवाल उठाया था तो पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव के दौरान टीएमसी ने चुनाव आयोग से शिकायत की थी कि सर्टिफ़िकेट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का फ़ोटो होना मतदाताओं को प्रभावित करने की कोशिश है और साथ ही यह आचार संहिता का भी उल्लंघन है। इसके बाद आयोग ने चुनावी राज्यों में सर्टिफ़िकेट से फ़ोटो हटाने का आदेश दिया था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें