loader

बाज़ारों में बिना मास्क वाले लोगों की भीड़ से चिंतित क्यों हैं प्रधानमंत्री?

विशेषज्ञ तो अब तक कोरोना की तीसरी लहर की आशंका जताते ही रहे हैं, लेकिन अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी चिंतित नज़र आ रहे हैं। कोरोना संक्रमण की पहली लहर के दौरान ताली-थाली बजाने, टॉर्च लाइट जलाने जैसे प्रयासों और दूसरी लहर से निपटने में विफलता के लिए आलोचनाओं का सामना कर रहे प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि बाज़ारों और पर्यटन स्थलों पर बिना मास्क लगाई हुई भीड़ की तसवीरें चिंता का कारण हैं। उन्होंने सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन नहीं किए जाने पर भी चिंता जताई। प्रधानमंत्री ने मंगलवार को इस बात पर जोर दिया कि कोरोना की तीसरी लहर से बचने के लिए कोरोना प्रोटोकॉल का पालन ज़रूरी है। 

प्रधानमंत्री मोदी आठ पूर्वोत्तर राज्यों के मुख्यमंत्रियों की एक वर्चुअल यानी ऑन लाइन बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कोरोना की तीसरी लहर को रोकने के लिए बुनियादी नियमों- सार्वजनिक जगहों पर मास्क पहनने, बड़ी सभाओं से बचने और टीकाकरण सुनिश्चित करने- का पालन करने के महत्व पर जोर दिया।

ताज़ा ख़बरें

प्रधानमंत्री की कोरोना संक्रमण पर मुख्यमंत्रियों के साथ यह बैठक तब हुई है जब अब हर रिपोर्ट कोरोना की तीसरी लहर आने का संकेत दे रही है। डॉक्टरों के शीर्ष संगठन इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने सरकार को चेतावनी दी है कि कोरोना की तीसरी लहर अवश्यंभावी है, लिहाज़ा, किसी तरह की ढिलाई न दी जाए और पर्यटन व तीर्थाटन जैसी चीजों पर कुछ समय के लिए रोक लगा दी जाए। 

पिछले हफ़्ते ही कोरोना संक्रमण के मामले ज़्यादा आने पर केंद्र ने आठ राज्यों को पत्र लिखकर कोरोना को नियंत्रित करने को कहा है। उस पत्र में उन राज्यों के कई ज़िलों में कोरोना पॉजिटिविटी रेट ज़्यादा होने पर चिंता जताई गई है। जिन 8 राज्यों में 10 फ़ीसदी से ज़्यादा पॉजिटिविटी रेट है उनमें से 6 राज्य उत्तर पूर्व के हैं। इस मामले में जिन राज्यों को स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा पत्र भेजा गया है, वे हैं- अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, केरल, असम, मेघालय, त्रिपुरा, ओडिशा और सिक्किम। उत्तर पूर्वी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ ही प्रधानमंत्री आज संवाद कर रहे थे। 

हाल के दिनों में जब कोरोना संक्रमण के मामले कम हुए हैं और राज्यों ने प्रतिबंधों में ढील दी है तो हिल स्टेशन जैसे पर्यटन स्थलों, बाज़ारों में भीड़ बढ़ने की तसवीरें सामने आई हैं। सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों की धज्जियाँ उड़ती दिख रही हैं। इसको देखते हुए स्वास्थ्य से जुड़े विशेषज्ञों ने तो अब कहना शुरू कर दिया है कि तीसरी लहर को अब टाला नहीं जा सकता है। 

इसको लेकर प्रधानमंत्री मोदी ने भी चिंता जताई है। प्रधानमंत्री ने कहा,

यह सच है कि कोरोना वायरस से पर्यटन और कारोबार पर काफी असर पड़ा है, लेकिन आज मैं बेहद जोर देकर कहूँगा कि हिल स्टेशनों और बाज़ारों में बिना मास्क पहने भारी भीड़ होना ठीक नहीं है।


नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

उन्होंने कहा, 'वायरस अपने आप नहीं आता और चला जाता है... जब हम नियमों की अवहेलना करते हैं तो हम इसे अपने साथ लाते हैं। विशेषज्ञ हमें बार-बार चेतावनी दे रहे हैं कि भीड़भाड़ जैसे लापरवाही वाले व्यवहार से कोरोना के मामलों में वृद्धि होगी।'

मोदी ने कहा, 'कई बार लोग सवाल पूछते हैं कि तीसरी लहर के बारे में क्या तैयारी है? तीसरी लहर पर आप क्या करेंगे? हमारे मन में सवाल यह होना चाहिए कि तीसरी लहर को आने से कैसे रोका जाए।'

pm modi on crowds without masks in market amid covid third wave warning  - Satya Hindi

वैसे, प्रधानमंत्री मोदी का भाषण उन नेताओं के लिए भी संकेत होना चाहिए जो अभी भी कांवड़ यात्रा और चारधाम यात्रा को लेकर अड़े हुए हैं। इन मामलों में हाई कोर्ट ने भी पहले ही आगाह कर दिया है। 

इस मामले में डॉक्टरों के शीर्ष संगठन इंडियन मेडिकल एसोसिएशन यानी आईएमए ने कहा है कि 'पर्यटन, तीर्थाटन और धार्मिक उत्साह, सबकुछ ठीक है, पर इन्हें कुछ समय के लिए टाला जा सकता है। धार्मिक अनुष्ठानों और उनमें बड़ी तादाद में लोगों के बेरोकटोक जाने की अनुमति देने से ये कार्यक्रम सुपर स्प्रेडर यानी कोरोना फैलाने के बड़े कारण बन सकते हैं।' 

देश से और ख़बरें

आईएमए ने कड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि स्वास्थ्य सेवा से जुड़े लोगों और राजनीतिक नेतृत्‍व के तमाम प्रयासों की बदौलत ही देश कोरोना महामारी की घातक दूसरी लहर से उबर पाया है, ऐसे में हमें 'लापरवाह' नहीं होना चाहिए।

इस संस्था ने यह भी कहा, 'उपलब्‍ध वैश्विक साक्ष्‍यों और किसी भी महामारी के इतिहास को देखते हुए कहा जा सकता है कि तीसरी लहर अपरिहार्य और क़रीब है। लेकिन यह बेहद दुर्भाग्‍यपूर्ण है कि देश में ज़्यादतर हिस्‍सों में सरकार और लोग, आत्‍मसंतुष्‍ट हो गए हैं।'

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें