loader

राहुल ने मुझसे कहा, मुझे चुनाव लड़ना चाहिएः थरूर

कांग्रेस नेता राहुल गांधी को पार्टी के कुछ नेताओं ने शशि थरूर की उम्मीदवारी वापस लेने के लिए कहा था। यह दावा खुद कांग्रेस अध्यक्ष पद के प्रत्याशी शशि थरूर ने आज मंगलवार 4 अक्टूबर को केरल में किया। थरूर तिरुवनंतपुरम के कांग्रेस सांसद भी हैं। वो इस समय चुनाव प्रचार के लिए केरल में मौजूद हैं।

उन्होंने यहां संवाददाताओं से कहा कि राहुल गांधी ने मुझसे कहा कि वो उनसे अपना नामांकन वापस लेने के लिए नहीं कहेंगे क्योंकि चुनावी मुकाबले से सबसे पुरानी पार्टी को फायदा होगा।

ताजा ख़बरें
उन्होंने कहा, 'राहुल ने मुझे याद दिलाया कि वह पिछले 10 साल से ऐसा कहते आ रहे हैं कि पार्टी अध्यक्ष पद के लिए मुकाबला होना चाहिए। उन्होंने मुझे यह भी बताया कि कुछ लोगों ने उनसे मेरी उम्मीदवारी वापस लेने का अनुरोध करने के लिए कहा है। उन्होंने मुझसे कहा कि वह ऐसा नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि मुझे पीछे नहीं हटना चाहिए और मुझे चुनाव लड़ना चाहिए। 
इससे पहले दिन में, उन्होंने कहा कि पार्टी के बड़े नेताओं का उन्हें समर्थन हासिल होने की उम्मीद नहीं है लेकिन इसके बावजूद उन्हें सभी के समर्थन की जरूरत है।

थरूर का यह बयान केरल प्रदेश कांग्रेस कमेटी (केपीसीसी) के अध्यक्ष के. सुधाकरन द्वारा पार्टी प्रमुख पद के लिए वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे के समर्थन की सार्वजनिक रूप से घोषणा करने के बाद यह बयान आया है। 
थरूर ने यह भी कहा कि वह चुनाव से पीछे हटकर उनके इस प्रयास में अब तक उनका समर्थन करने वालों को धोखा नहीं देने जा रहे हैं। यानी थरूर का कहने का आशय यह था कि वो चुनाव लड़ेंगे।

मैं पार्टी के बड़े नेताओं से किसी समर्थन की उम्मीद नहीं कर रहा था और मैं अब भी इसकी उम्मीद नहीं कर रहा हूं। वास्तव में, मैं नागपुर, वर्धा और फिर हैदराबाद में पार्टी कार्यकर्ताओं से मिला। वे वही हैं जो मुझसे चुनाव लड़ने के लिए कह रहे हैं। मैंने उन्हें आश्वासन दिया कि मैं पीछे नहीं हटूंगा। मैं उन लोगों के साथ विश्वासघात नहीं करूंगा जिन्होंने अब तक मेरा समर्थन किया है। मुझ पर उनका विश्वास ही मुझे आगे बढ़ने की ताकत देता है।


-शशि थरूर, कांग्रेस अध्यक्ष पद प्रत्याशी, 4 अक्टूबर

उन्होंने यह भी कहा कि जबकि "उनके अधिकांश समर्थक युवा पार्टी के नेता और पार्टी कार्यकर्ता हैं", उन्हें सभी के समर्थन की आवश्यकता है।

यह पूछे जाने पर कि क्या खड़गे के लिए के सुधाकरन का सार्वजनिक समर्थन दूसरों को उनका समर्थन करने से हतोत्साहित करने के लिए था, थरूर ने कहा, "हो सकता है। लेकिन मैं ऐसा नहीं कह रहा हूं। मुझे यह समझने की जरूरत नहीं है कि लोगों के दिमाग में क्या चल रहा है। मतपत्र गुप्त है। किसी को पता नहीं चलेगा कि किसने किसे वोट दिया। लोग अपनी इच्छा और विश्वास के अनुसार वोट कर सकते हैं। वे तय कर सकते हैं कि वे किसे पार्टी को मजबूत करना चाहते हैं और इसे भविष्य में आने वाली चुनौतियों का मुकाबला करने के लिए तैयार करना चाहते हैं।

के. सुधाकरन के बयान के बारे में, तिरुवनंतपुरम के सांसद ने कहा कि केपीसीसी प्रमुख ने शायद अपना व्यक्तिगत निर्णय और वरीयता व्यक्त की और इसमें कुछ भी गलत नहीं है। लेकिन वह दूसरों को निर्देश नहीं दे सकते। जो पार्टी द्वारा पार्टी पदाधिकारियों को उम्मीदवारों के लिए प्रचार करने से रोकने के लिए जारी सर्कुलर से स्पष्ट है। लेकिन कृपया मुझसे इसके बारे में मत पूछें। अगर चुनाव प्राधिकरण इसके बारे में कुछ करना चाहता है, तो उन्हें करना है।

देश से और खबरें
पार्टी की ओर से सोमवार को जारी चुनावी सर्कुलर में कहा गया है कि एआईसीसी महासचिव/प्रभारी, सचिव, संयुक्त सचिव, प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीसीसी) के अध्यक्ष, कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) के नेता, फ्रंटल संगठनों के प्रमुख, विभागों के प्रमुख, प्रकोष्ठ और सभी आधिकारिक प्रवक्ता उम्मीदवारों के पक्ष या विपक्ष में प्रचार नहीं करेंगे। अगर वे किसी उम्मीदवार का समर्थन करना चाहते हैं, तो उन्हें पहले अपने संगठनात्मक पद से इस्तीफा देना होगा, उसके बाद वे प्रचार प्रक्रिया में भाग लेंगे।

कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए मतदान 17 अक्टूबर को होगा। मतों की गिनती 19 अक्टूबर को होगी और परिणाम उसी दिन घोषित किए जाएंगे। चुनाव में 9,000 से अधिक प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीसीसी) के प्रतिनिधि मतदान करेंगे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें