loader

भागवत ने किया मस्जिद का दौरा, इमाम ने उन्हें 'राष्ट्रपिता' कहा

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने गुरुवार को दिल्ली में प्रमुख मौलवी से मुलाकात की और कुछ देर बाद ही अखिल भारतीय इमाम संगठन के प्रमुख उमर अहमद इलियासी ने मोहन भागवत को 'राष्ट्रपिता' क़रार दे दिया। 

उमर अहमद इलियासी ने एएनआई से कहा, 'मोहन भागवत जी आज मेरे निमंत्रण पर आए थे। वह 'राष्ट्रपिता' और 'राष्ट्र-ऋषि' हैं, उनकी यात्रा से एक अच्छा संदेश जाएगा। भगवान की पूजा करने के हमारे तरीके अलग हैं, लेकिन सबसे बड़ा धर्म मानवता है। हमारा मानना ​​है कि देश पहले आता है।'

ताज़ा ख़बरें

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत गुरुवार को दिल्ली के कस्तूरबा गांधी मार्ग पर स्थित एक मसजिद में पहुंचे थे। एनडीटीवी के मुताबिक, संघ प्रमुख मसजिद में मरहूम मौलाना डॉ. जमील इलियासी की मजार पर भी पहुंचे और फूल चढ़ाए। डॉ. जमील इलियासी के बेटे शोएब इलियासी ने एनडीटीवी से बातचीत में कहा कि मोहन भागवत का मसजिद में आना मुल्क के लिए बड़ा संदेश है और हमारे लिए यह खुशी का मौका है। 

उन्होंने कहा कि इस दौरान संघ के रामलाल, कृष्ण गोपाल और राष्ट्रीय मुसलिम मंच के प्रमुख इंद्रेश कुमार और अखिल भारतीय इमाम संगठन के प्रमुख मौलवी उमर अहमद इलियासी भी मौजूद रहे। उन्होंने संघ प्रमुख से मुलाकात को मोहब्बतों का पैगाम बताया और कहा कि इसे इससे बाहर नहीं देखा जाना चाहिए।

शोएब इलियासी ने कहा कि यह एक पारिवारिक कार्यक्रम जैसा था। बंद कमरे में हुई यह मुलाकात एक घंटे से कुछ ज्यादा वक्त तक चली। 

RSS Chief Mohan Bhagwat Delhi Mosque Visit - Satya Hindi

राष्ट्रीय मुसलिम मंच लगातार मुसलमानों के बीच में कार्यक्रम करता रहता है और यह आरएसएस का ही एक संगठन है। इससे बड़ी संख्या में मुसलिम जुड़े हुए हैं। 

ख़ास ख़बरें

मुसलिम बुद्धिजीवियों से की थी मुलाकात

हाल ही में खबर आई थी कि संघ प्रमुख ने मुसलिम समुदाय के पांच बुद्धिजीवियों से मुलाकात की थी। इन लोगों में दिल्ली के पूर्व एलजी नजीब जंग, पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एसवाई कुरैशी, एएमयू के पूर्व वीसी जमीरुद्दीन शाह, पूर्व सांसद शाहिद सिद्दीकी और कारोबारी सईद शेरवानी शामिल थे। 

यह मुलाकात दिल्ली में संघ के एक दफ्तर में 22 अगस्त को हुई थी। तब यह बात सामने आई थी कि संघ प्रमुख ने कहा था कि इस तरह की बैठकें होती रहनी चाहिए। 

बताना होगा कि कुछ महीने पहले बीजेपी के निलंबित नेताओं नूपुर शर्मा और नवीन कुमार जिंदल के बयानों के बाद देश में कई जगहों पर जबरदस्त प्रदर्शन हुआ था।
नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल के बयानों को लेकर कई मुसलिम राष्ट्रों ने तीखी टिप्पणी की थी और उसके बाद बीजेपी ने दोनों नेताओं पर कार्रवाई की थी। इसके अलावा तेलंगाना के बीजेपी विधायक टी. राजा सिंह की बयानबाजी के खिलाफ भी बीजेपी ने उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया था और कारण बताओ नोटिस जारी किया था। 

टकराव की घटनाएं 

दोनों समुदायों के बीच रामनवमी के दौरान टकराव की घटनाएं हुई थी। इस तरह की घटनाएं मध्य प्रदेश के खरगोन, दिल्ली के जहांगीरपुरी राजस्थान के करौली, जोधपुर आदि जगहों से भी सामने आई थी। 

मोहन भागवत ने ज्ञानवापी मसजिद विवाद के बीच यह बयान भी दिया था कि हर मसजिद के नीचे शिवलिंग खोजने की क्या जरूरत है। संघ प्रमुख ने यह भी कहा था कि हम सभी का डीएनए एक है।संघ प्रमुख ने कहा था कि राम मंदिर के बाद हम कोई आंदोलन नहीं करेंगे। लेकिन मुद्दे मन में हैं तो उठते हैं। ऐसा कुछ है तो आपस में मिलकर-जुलकर मुद्दा सुलझाएं। निश्चित रूप से संघ प्रमुख का मसजिद में जाना एक बड़ी घटना है और इसे दोनों समुदायों के बीच पिछले कुछ वक्त में आई दूरियों को खत्म करने की दिशा में एक अहम कदम माना जा सकता है।  

देश से और खबरें

दूसरी ओर अगस्त महीने में हुई मुलाकात के बारे में पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एसवाई कुरैशी ने एनडीटीवी को बताया कि बातचीत के दौरान संघ प्रमुख ने कहा कि मिलजुल कर ही देश आगे बढ़ सकता है। कुरैशी ने कहा कि संघ प्रमुख ने इस दौरान गौ हत्या, काफ़िर शब्द के इस्तेमाल को लेकर अपनी बात कही। इस बारे में कुरैशी ने एनडीटीवी से कहा कि देशभर के लगभग सभी राज्यों में गौ हत्या पर प्रतिबंध है। गौ हत्या पर कानूनन रोक है और मुसलमानों को भी इसका पालन करना चाहिए और कानून का पालन ना करने वालों को इसकी सजा मिलनी चाहिए।

उन्होंने बताया कि संघ प्रमुख ने कहा कि काफ़िर शब्द हिंदुओं को बुरा लगता है। इस पर कुरैशी ने कहा कि हम मुसलिम समुदाय के लोगों को समझाएंगे कि वह इस शब्द का इस्तेमाल ना करें। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें