loader

चुनाव के पहले राम मंदिर का मामला गरमाने की कोशिश में विहिप

विश्व हिंदू परिषद ने चुनाव के ठीक पहले अयोध्या में राम मंदिर बनाने की माँग करते हुए पूरे देश में कार्यक्रमों की घोषणा की है। इसका कहना है कि सरकार पर दबाव बनाने के लिए ऐसा किया जा रहा है मगर इसका मक़सद स्पष्ट रूप से चुनाव से पहले धर्म के आधार पर वोटों का ध्रुवीकरण करके बीजेपी को लाभ पहुँचाना है।

5000 जगहों पर प्रार्थना सभाएँ

विश्व हिंदू परिषद की घोषणा के मुताबिक़ 25 नंवबर को अयोध्या, नागपुर और मंगलुरू में कार्यक्रम आयोजित किए जाएँगे। इसके बाद 9 दिसबंर तक 525 लोकसभा क्षेत्रों में भी इस तरह के आयोजन होंगे। इस मुद्दे पर बहुत ही बड़ी रैली दिल्ली में 9 दिसंबर को की जाएगी। इसके बाद 18 दिसंबर को देश के पाँच हज़ार जगहों पर राम मंदिर के लिए प्रार्थना सभाओं का आयोजन किया जाएगा।इन कार्यक्रमों के लिए में  मंगलुरू और नागपुर को बहुत सोच समझ कर चुना गया है। दक्षिणी राज्यों में बीजेपी या विहिप का कोई बड़ा जनाधार नहीं है। लेकिन वह इस मौक़े का फ़ायदा उठा कर यह संकेत देना चाहती है कि हिंदुत्व के मुद्दे पर उत्तर से दक्षिण तक सबका प्रतिनिधित्व करती है।यह भी पढ़ें - कांग्रेस ने खुलवाया ताला, कांग्रेस ही बनाएगी मंदिर - जोशी

नागपुर कनेक्शन

बीजेपी ने  केरल में जिस तरह सबरीमला के मुद्दे पर एक बड़ा आंदोलन खड़ा कर सत्ताधारी मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी को साँसत में डाल रखा है, उससे उसका उत्साह बढ़ा हुआ है। वह इसका लाभ भी उठाना चाहती है। नागपुर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का मुख्यालय होने का फ़ायदा भीड़ जुटाने में मिलेगा। लेकिन इसके साथ ही वहाँ मराठा आरक्षण और यलगार परिषद के नाम पर जिस तरह का अगड़ा-पिछड़ा भेद खड़ा हो गया है, बीजेपी तमाम हिेंदुओं को एकजुट करने का कार्ड खेल कर स्थिति सुधार सकती है। राजनीतिक कारणों से ही शिव सेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा है कि वे भी उसी दिन अयोध्या जाएँगे।

VHP to rake up Ram temple issue before polls - Satya Hindi

अदालत पर दबाव की रणनीति

आरएसएस से जुड़ी इस संस्था ने इन कार्यक्रमों का आयोजन उस समय किया है जब मामला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है। अदालत ने मामले की नियमित सुनवाई के लिए जनवरी में तारीख़ तय करने का फ़ैसला किया है। लेकिन उसके बाद संघ और उससे जुड़े सगंठनों के तेवर तीखे हो गए और वे प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष तौर पर  अदालत पर ही सवाल उठाने लगे। विहिप एक तरह से अदालत पर दबाव बढ़ाने की नीति पर ही काम कर रही है।

कांग्रेस को चुनौती

बीजेपी के बिहार से राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा ने राम मंदिर के निर्माण पर संसद में निजी बिल पेश करने का ऐलान कर रखा है। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी को चुनौती भी दे रखी है कि कांग्रेस पार्टी इस बिल का समर्थन करके दिखाए। बीजेपी के दूसरे नेता अलग-अलग समय कई बार कह चुके हैं कि राम मंदिर बनाने का रास्ता साफ़ करने के लिए सरकार को संसद में क़ानून बनाना चाहिए या अध्यादेश लाना चाहिए। तकनीकी तौर पर अयोध्या टाइटल सूट यानी भूमि विवाद का मामला है। इस पर क्या क़ानून बन सकता है, बीजेपी इस पर चुप है।

इलाहाबाद में राम की मूर्ति

चुनाव के पहले हिंदुत्व की भावना भड़काने और ध्रुवीकरण करने की नीति के तहत ही उत्तर प्रदेश सरकार ने इलाहाबाद में गंगा के तट पर राम और निषादराज की प्रतिमाएँ लगवाने का ऐलान किया है। उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा है कि श्रृंगवेरपुर धाम में ये मूर्तियाँ लगेंगी।

इलाहाबाद में राम के साथ ही निषादराज की मूर्ति लगवाने से सत्ताधारी दल को दो फ़ायदे होंगे। वह राम के नाम पर हिंदुओं को एकजुट करने की कोशिश तो कर ही रही है, निषादराज की प्रतिमा के पीछे वजह है पिछड़ों के बीच पार्टी की छवि को दुरुस्त करना।
बीजेपी गोरखपुर उपचुनाव मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के इलाक़ा होने के बावजूद हार गई। वहाँ समाजवादी पार्टी और बीएसपी ने हाथ मिला लिया था और पिछड़ों-दलितों का वोट एसपी को मिल गया था। इससे बीजेपी का परेशान होना स्वाभाविक है। निषादराज की मूर्ति के ज़रिए बीजेपी पिछड़ों तक पहुँचना चाहती है। चुनाव में राम मंदिर एक मुद्दा बनेगा, यह तो तय दिखता है। बीजेपी को उसका कितना सियासी फ़ायदा होगा, यानी वह इस मुद्दे पर कितनी सीटें जीट पाएगी, यह कहना फ़िलहाल जल्दबाज़ी होगा।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
सदस्यता योजना

'सत्य हिन्दी' अपने पाठकों, दर्शकों और प्रशंसकों के लिए यह सदस्यता योजना शुरू कर रहा है। नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से आप किसी एक का चुनाव कर सकते हैं। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है, जिसका नवीनीकरण सदस्यता समाप्त होने के पहले कराया जा सकता है। अपने लिए सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। हम भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें