loader

केंद्र ने खाद सब्सिडी 140 प्रतिशत बढ़ाई

जन वितरण प्रणाली के तहत दी जाने वाली खाद्य सामग्रियों और कृषि पर सब्सिडी कम करने के लिए कई बार आलोचना झेल चुकी केंद्र सरकार ने खाद पर सब्सिडी 140 प्रतिशत बढ़ा दी है। यह फ़ैसला ऐसे समय लिया गया है जब कोरोना प्रबंधन में सरकार की लगातार आलोचना हो रही है। 

बुधवार को हुई बैठक में यह तय किया गया कि डीएपी खाद पर सब्सिडी 500 रुपए प्रति थैले से बढ़ा कर 1200 रुपए प्रति थैला कर दी जाए। किसानों को डीएपी का थैला अब 2400 रुपए के बजाए अब 1200 रुपए में ही मिलेगा। केंद्र सरकार इस पर 14,775 करोड़ रुपए की अतिरिक्त सब्सिडी देगी।

ख़ास ख़बरें

अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में फॉस्फोरिक एसिड, अमोनिया आदि की बढ़ती कीमतों के कारण खाद की कीमतों में बढ़ोतरी हो रही है। मोदी ने कहा कि ऐसे में किसानों को पुरानी दरों पर ही खाद मिलनी चाहिए और इसके लिए सरकार सब्सिडी बढ़ाए। 

बता दें कि प्रति बोरी सब्सिडी की रकम कभी भी एक बार में इतनी नहीं बढ़ाई गई है। पिछले साल डीएपी की वास्तविक कीमत 1,700 रुपये प्रति बोरी थी. इसमें केंद्र सरकार 500 रुपये प्रति बोरी की दर से सब्सिडी दे रही थी।

इस कारण कंपनियाँ किसानों को 1200 रुपये प्रति बोरी के हिसाब से खाद दे रही थी। अब किसानों को इसी कीमत पर खाद मिलेगी और बढ़ी हुई कीमत केंद्र सरकार सब्सिडी के रूप में देगी। 

centre hikes fertilizer subsidy by 140 per cent - Satya Hindi

डीएपी खाद पर सब्सिडी बढ़ाने के साथ ही खरीफ फसलों पर सरकार 14,775 करोड़ रुपये की अतिरिक्त सब्सिडी देगी। 

इसके पहले ही अक्षय तृतीया के दिन पीएम-किसान के तहत किसानों के खाते में 20,667 करोड़ रुपये की राशि सीधे दे दी गई है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें