loader

लॉकडाउन से पूरे देश में अप्रैल में एक भी कार नहीं बिकी

लॉकडाउन की वजह से अप्रैल में पूरे देश में एक भी कार नहीं बिकी। इस दौरान सिर्फ़ कुछ ट्रैक्टर बिके क्योंकि 20 अप्रैल को इसमें कुछ छूट का एलान किया गया। 

इंडियन एक्सप्रेस ने एक ख़बर में कहा है कि मारुति सुज़ुकी और हुंदे मोटर्स जैसी बड़ी कंपनियों ने कहा है कि अप्रैल में उन्होंने ‘शून्य बिक्री’ दर्ज़ की है। यानी, एक भी गाड़ी नहीं बिकी। ऐसा देश में पहली बार हुआ है। 

अर्थतंत्र से और खबरें

ट्रैक्टर बिके

महिंद्रा एंड महिंद्रा ने कहा है कि अप्रैल में उसने 4,772 ट्रैक्टर बेचे हैं। इसकी वजह यह है कि ग्रीन ज़ोन में बिक्री की अनुमति थी।
मारुति ने कहा है कि सरकार के आदेश का पालन करते हुए उसने अपने सभी संयंत्र बंद रखे, कहीं कोई उत्पादन नहीं हुआ। हुंदे ने भी कहा है कि उत्पादन बंद रहने के कारण पूरे अप्रैल में पूरे देश में कंपनी की एक भी गाड़ी नहीं बिकी। 

निर्यात

लेकिन इस दौरान निर्यात थोड़ा बहुत हुआ। मारुति सुज़ुकी ने कहा है कि उसने 632 गाड़ियों का निर्यात किया। इस दौरान हुंदे ने भी 1,1341 गाड़ियों का निर्यात किया है।
एमजी मोटर्स ने भी कहा है कि उसने अप्रैल में कोई गाड़ी नहीं बेची। कंपनी ने यह भी कहा कि उसने अप्रैल के अंतिम सप्ताह में हलोल संयंत्र में बहुत छोटे स्तर पर उत्पादन शुरू किया है। कंपनी को उम्मीद है कि वह मई महीने में उत्पादन बढ़ा सकेगा। 

उत्पादन शुरू नहीं

बड़ी कंपनियों का मानना है कि अभी तुरन्त उत्पादन शुरू करने का कोई मतलब नहीं है। पहले वेंडर काम शुरू कर लें, शोरूम खुल जाएँ, पहले से पड़ी गाड़ियाँ बिक जाएँ और सप्लाई लाइन ठीक हो जाए, उसके बाद ही उत्पादन शुरू करना ठीक होगा। 

सप्लाई चेन

टोयटा किर्लोस्कर मोटर के वरिष्ठ उपाध्यक्ष नवीन सोनी ने कहा, ‘दूसरे क्षेत्रों की तरह ही ऑटोमोटिव क्षेत्र में मैन्युफ़ैक्चरिंग और डीलरशिप का कामकाज बंद होने से पूरी सप्लाई चेन ठप हो चुका है। एक बार फिर से पूरी व्यवस्था को दुरुस्त करना चुनौतीपूर्ण होगा।’  

उन्होंने यह भी कहा कि उपभोक्ताओं का आत्मविश्वास अभी भी नहीं लौटा है और माँग व खपत नहीं निकल रही है। 

हालांकि ट्रैक्टर की बिक्री की अनुमति थी और बिक्री हुई भी, पर इसी दौरान बीते साल में हुई बिक्री से काफी कम थी। बीते साल अप्रैल में जहाँ 28,552 ट्रैक्टर बिके, इस साल महज 4,772 ट्रैक्टरों की बिक्री हुई। यह 83 प्रतिशत कम बिक्री है। 20 अप्रैल को छूट मिलने के बाद देश के लगभग 300 ट्रैक्टर शोरूम खुले और छिटपुट बिक्री हुई। ये सभी शोरूम ग्रीन ज़ोन में थे। 

इससे उत्साहित होकर महिंद्रा एंड महिंद्रा ने रुद्रपुर संयंत्र में उत्पादन शुरू भी कर दिया। इसके फ़ार्म इक्विपमेंट डिवीज़न के प्रमुख हेमंत सिक्का ने कहा, ‘लॉकडाउन बढ़ाए जाने का असर बिक्री पर पड़ा, डीलरों ने सिर्फ़ कुछ दिनों के लिए अपने शोरूम खोले।’ 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें