loader

पेट्रोल डीज़ल की क़ीमतों में दो महीने की सबसे बड़ी बढ़ोतरी

गुरुवार को पेट्रोल की कीमतों में 29 पैसे और डीज़ल की कीमतों में 19 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि हुई। पिछले चार दिनों से इनकी कीमतों में रोज़ाना वृद्धि हो रही है और यह दो महीने की सबसे ऊँची बढ़ोतरी है। इन चार दिनों में पेट्रोल के दाम 68 पैसे और डीज़ल की कीमत 58 पैसे बढ़ गए। 
इस बढ़ोतरी के साथ ही गुरुवार को दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 72.71 रुपये, मुंबई में 78.39 रुपये, बंगलुरू में 75.19 रुपये और चेन्नई में 75.76 रुपये प्रति लीटर हो गई। डीज़ल की कीमत दिल्ली में 66.01, मुंबई में 69.24 रुपये, बंगलुरू मे 68.26 रुपये और चेन्नई में 69.77 रुपये प्रति लीटर हो गई। 
इस बढ़ोतरी की तात्कालिक वजह अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल की कीमतें बढ़ना है। न्यूयॉर्क मर्केंटाइल एक्सचेंज में गुरुवार को ब्रेंट तेल की कीमत 63.68 डॉलर प्रति लीटर थी। सोमवार को कच्चे तेल की कीमतों में यकायक एक बार में ही 12 डॉलर प्रति बैरल की बढ़ोतरी हुई, बाद में वह कीमत थोड़ी गिरी, पर कुल बढ़ोतरी 8 डॉलर के आसापास रह ही गई। 
इसकी वजह यह है कि सऊदी अरब के अबक़ैक और ख़ुरैश स्थित तेल संयंत्रों पर ड्रोन हमले हुए, जिससे उन संयंत्रों के कई हिस्सों को बंद कर देना पड़ा। इससे सऊदी अरब की सरकारी कंपनी अरैमको को रोज़ाना 57 लाख बैरल कच्चे तेल की कमी हो गई। तेल आपूर्ति में इस रुकावट की वजह से कीमतें यकायक उछलीं। सऊदी अरैमको के पास कच्चे तेल का भंडार है, जिससे उसने तेल निकालना शुरू कर दिया है और बाज़ार में थोड़ी स्थिरत लौटी है, पर तेल की बढी कीमतें अभी रहेंगी। 
भारत में तेल बिक्री से जुड़ी तमाम कंपनियाँ सरकारी हैं, इसलिए वे तेल की कीमतों में वह बढ़ोतरी नहीं कर रही हैं, जितनी वे कर सकती हैं। पर लंबे समय के लिए तेल की कीमतें नकली तरीके से रोके रखना मुमकिन नहीं होगा। लिहाज़ा, भारत में पेट्रोल और डीज़ल की कीमतें और बढ़ सकती हैं। 
Satya Hindi Logo लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा! गोदी मीडिया के इस दौर में पत्रकारिता को राजनीति और कारपोरेट दबावों से मुक्त रखने के लिए 'सत्य हिन्दी' के साथ आइए। नीचे दी गयी कोई भी रक़म जो आप चुनना चाहें, उस पर क्लिक करें। यह पूरी तरह स्वैच्छिक है। आप द्वारा दी गयी राशि आपकी ओर से स्वैच्छिक सेवा शुल्क (Voluntary Service Fee) होगा, जिसकी जीएसटी रसीद हम आपको भेजेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें