loader

रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटर सिंह बंधु अवमानना के दोषी: सुप्रीम कोर्ट

जापान की कंपनी दायची संक्यो द्वारा दायर एक केस के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटर मलविंदर सिंह और उनके भाई शिविंदर सिंह को कोर्ट की अवमानना का दोषी पाया है। इसके साथ ही फ़ोर्टिस हेल्थकेयर को भी दोषी पाया गया है। दोनों भाइयों को अक्टूबर महीने में भी गिरफ़्तार किया गया था और जेल भेजा गया था। तब उन्हें 740 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी मामले में गिरफ़्तार किया गया था। 

मालविंदर और शिविंदर में से हरेक 1175 करोड़ रुपये जमा कर कोर्ट की अवमानना से बच सकते हैं। बता दें कि 2016 में दायची संक्यो को 2562 करोड़ देने के लिए कोर्ट ने दोनों भाइयों को आदेश दिया था। दायची कंपनी ने उस विवाद के निपटारे के लिए कोर्ट में केस किया था जिसमें उसने क़रीब एक दशक पहले रैनबैक्सी का अधिग्रहण किया था। कोर्ट ने इसी साल दोनों भाइयों को चेतावनी दी थी कि यदि वे दायची को पैसे चुकाने के कोर्ट के आदेश को नहीं मानते हैं तो उन्हें जेल भेज दिया जाएगा।

ताज़ा ख़बरें

बता दें कि शिविंदर और मालविंदर अपने पिता द्वारा स्थापित रैनबेक्सी के वारिस थे। उन्होंने 2008 में इसे एक जापानी कंपनी दायची संक्यो को बेच दिया था और अपने फ़ोर्टिस हेल्थकेयर और रेलिगेयर अंटरप्राइजेज पर ध्यान केंद्रित करना तय किया।

हालाँकि रैनबेक्सी के ख़िलाफ़ केस चलने की जानकारी छुपाने के लिए दायची ने कोर्ट में सिंह बंधुओं के ख़िलाफ़ केस किया। आख़िर में उन्हें इसका हर्ज़ाना देना पड़ा। 

अर्थतंत्र से और ख़बरें

बाद में दोनों भाइयों के बीच तब विवाद होने लगा जब उनका फ़ोर्टिस और रेलिगेयर पर क़ब्ज़ा नहीं रहा। सेक्योरिटीज़ एंड एक्सचेंज बोर्ड ने सिंह बंधुओं को 403 करोड़ रुपये फ़ोर्टिस को देने को कहा। जाँच के दौरान पता चला कि उन्होंने फ़ोर्टिस से ग़लत तरीक़े से भी फ़ंड ट्रांसफ़र किए थे। 

पहले ऐसे आरोप लगे थे कि फ़ंड को कथित तौर पर भारत में रजिस्टर्ड रेलिगेयर अंटरप्राइजेज लिमिटेड से मालविंदर सिंह और शिविंदर सिंह की विदेश में स्थित अपनी कंपनी में ट्रांसफ़र किए गए थे। बता दें कि 2007-08 में ज़बरदस्त मुनाफ़ा कमाने वाली कंपनी रेलिगेयर 2017-18 आते-आते ज़बरदस्त नुक़सान में पहुँच गई।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें