loader

जम्मू-कश्मीर: महबूबा मुफ़्ती की हिरासत तीन महीने के लिए बढ़ाई गई

जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती की हिरासत तीन महीने के लिए बढ़ा दी है। इनके साथ ही दो और नेताओं की हिरासत भी तीन महीने के लिए बढ़ाई गई है। महबूबा पिछले नौ महीने से ज़्यादा समय से हिरासत में हैं।   

महबूबा मुफ़्ती पिछले साल पाँच अगस्त को तब से हिरासत में हैं जब जम्मू-कश्मीर से जुड़े अनुच्छेद 370 में फेरबदल किया गया था और राज्य को मिले विशेष दर्जे को हटा लिया गया था। इसके बाद इस साल 6 फ़रवरी को महबूबा के ख़िलाफ़ जम्मू-कश्मीर में सख़्त पब्लिक सेफ़्टी एक्ट यानी पीएसए के तहत मामला दर्ज किया गया था। इस साल 7 अप्रैल को श्रीनगर में उनको उनके आधिकारिक आवास में भेजा गया था और उस घर को ही अस्थायी जेल में बदल दिया गया था। 

ताज़ा ख़बरें

पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी यानी पीडीपी प्रमुख महबूबा के साथ ही नेशनल कॉन्फ़्रेंस के नेता अली मुहम्मद सागर और पीडीपी के नेता सरताज मदानी की हिरासत भी तीन महीने के लिए बढ़ा दी गई है। 

महबूबा की हिरासत बढ़ाए जाने की उमर अब्दुल्ला ने आलोचना की है। उन्होंने ट्वीट किया, 'महबूबा मुफ्ती की हिरासत को बढ़ाया जाना अविश्वसनीय रूप से क्रूर और प्रतिगामी निर्णय है। किसी भी तरह से उन्होंने कुछ भी ऐसा नहीं किया या कहा है जिससे उनके और हिरासत में लिए गए दूसरे लोगों के ख़िलाफ़  भारतीय राज्य की ऐसी कार्रवाई को सही ठहराया जा सके।'

बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला को 24 मार्च को ही हिरासत से रिहा किया गया है। उमर की रिहाई से दो हफ़्ते पहले उनके पिता फ़ारूक़ अब्दुल्ला को भी रिहा कर दिया गया था। इन दोनों नेताओं को भी पिछले साल अगस्त से ही हिरासत में रखा गया था।
जम्मू-कश्मीर से और ख़बरें

उमर अब्दुल्ला पर सरकार ने पब्लिक सेफ़्टी एक्ट (पीएसए) लगाया था। उमर पर 5 फ़रवरी को पीएसए लगाया गया था। नेशनल कॉन्फ़्रेंस के नेता उमर कुल 232 दिन तक हिरासत और नज़रबंदी में रहे थे। उमर की बहन सारा अब्दुल्ला पायलट ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर अपने भाई को रिहा किये जाने की माँग की थी। 

पीएसए के तहत आतंकवादियों, अलगाववादियों और जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों पर पत्थर फेंकने वालों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की जाती रही है। यह पहली बार हुआ जब मुख्यधारा के राजनेताओं पर पीएसए लगाया गया।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें