loader

झारखंड कांग्रेस ने कहा- सोरेन सरकार को गिराने की कोशिश कर रही बीजेपी

राजस्थान में पैदा हुए सियासी संकट को लेकर कांग्रेस ने कई बार कहा कि बीजेपी उसकी सरकार को अस्थिर करने के प्रयासों में छह महीने से जुटी हुई है। लेकिन अब झारखंड में भी कांग्रेस ने ऐसा ही आरोप लगाया है कि बीजेपी यहां भी उसके विधायकों को प्रभावित कर राज्य सरकार को गिराने की कोशिश कर रही है। राज्य में झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम), कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल मिलकर सरकार चला रहे हैं। 

झारखंड प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष रामेश्वर ओरांव ने दावा किया है कि बीजेपी अपने मंसूबों में सफल नहीं हो पाएगी क्योंकि कांग्रेस के सभी विधायक पार्टी के प्रति समर्पित हैं। ‘न्यू इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक़, ओरांव ने कहा, ‘एक बार फिर बीजेपी ने यह साबित किया है कि वह लोकतांत्रिक मूल्यों में विश्वास नहीं करती है। अब वह राज्यों में चुनी हुई सरकारों को गिराने की कोशिश कर रही है।’ 

ताज़ा ख़बरें
ओरांव ने कहा, ‘पहले उन्होंने कर्नाटक में ऐसा किया, फिर मध्य प्रदेश और अब राजस्थान में सरकार को गिराने की कोशिश कर रहे हैं। मुझे सूत्रों से पता चला है कि झारखंड में भी वे इस तरह की अपनी पूरी कोशिश कर रहे हैं।’ ओरांव ने दावा किया कि हाल में हुए राज्यसभा चुनाव के दौरान भी इस तरह की कोशिशें की गई थीं। 
ओरांव के आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए झारखंड बीजेपी के अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने कहा कि कांग्रेस को अपने विधायकों पर भरोसा नहीं है और इसीलिए वह सस्ती लोकप्रियता बटोरने के लिए इस तरह के आरोप लगा रही है।

न्यूज़ वेबसाइट ‘द प्रिंट’ ने राज्य के उन विधायकों को जिन्हें प्रभावित करने की कोशिश की गई, उनसे बात की है। इन विधायकों ने बातचीत में स्वीकार किया है कि हां, उन्हें मोटी रकम ऑफ़र की गई थी, हालांकि रकम कितनी थी, इस बारे में उन्होंने कुछ नहीं कहा। 

झारखंड से और ख़बरें

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सतर्क 

राजस्थान के प्रकरण के बाद छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल सरकार ख़ासी सतर्क हो गयी है और उसने अपने 15 विधायकों को संसदीय सचिव नियुक्त कर दिया है। इसके अलावा कुछ नेताओं को निकट भविष्य में सरकारी बोर्डों और आयोगों में पद देने की बात भी कही जा रही है। इन 15 विधायकों में से अधिकांश पहली बार विधानसभा पहुंचे हैं। इनमें से अधिकतर ओबीसी और दलित-आदिवासी समाज से आते हैं।

झारखंड कांग्रेस के आरोप के बाद यह बहस तेज हो गई है कि क्या कोरोना महामारी के इस संकट के दौरान भी राजनीतिक दलों के लिए सिर्फ दूसरे की सरकारों को गिराना या अपनी सरकार को बचाना ही अहम है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

झारखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें