loader

कर्नाटक: येदियुरप्पा के पर कतर रहा है बीजेपी आलाकमान?

दक्षिण में बीजेपी का कमल खिलाने वाले पार्टी के कद्दावर नेता बीएस येदियुरप्पा से क्या बीजेपी आलाकमान नाराज है? काफी समय से मिल रहे ऐसे संकेतों के बीच अब एक बार फिर ऐसा ही कुछ हुआ है। 

मामला राज्यसभा चुनाव में टिकट बंटवारे का है। न्यूज़ 18 के मुताबिक़, बीजेपी की कर्नाटक इकाई ने काफ़ी मंथन के बाद 5 नेताओं का नाम आलाकमान को भेजा था। इनमें से किसी दो को टिकट मिलना था। 

येदियुप्पा ने भी नेताओं की सूची को फ़ाइनल करने से पहले पार्टी की कोर कमेटी के साथ बैठक की थी और उन्हें उम्मीद थी कि आलाकमान राज्य इकाई की सिफारिशों को मानेगा। लेकिन लगता है कि आलाकमान ने इस सूची की तरफ झांका तक नहीं है। 

ताज़ा ख़बरें

राज्य इकाई की ओर से प्रभाकर कोरे, रमेश कट्टी, प्रकाश शेट्टी, निर्मल सुराना और प्रोफ़ेसर एम. नागराज का नाम भेजा गया था। लेकिन आलाकमान ने जिन दो नेताओं को टिकट दिया है, उनके नाम सामने आते ही येदियुरप्पा को तगड़ा झटका लगा है। बीजेपी ने जिन नेताओं को राज्यसभा का टिकट दिया है, उनके नाम एरन्ना कडाडी और अशोक गस्ती हैं। 

कर्नाटक में यह चर्चा आम है कि एरन्ना और अशोक के नाम का एलान होने के पीछे बीजेपी के महासचिव (संगठन) बीएल संतोष का हाथ है। संतोष का बढ़ता सियासी क़द येदियुरप्पा के लिए मुसीबत बन रहा है।
कर्नाटक में राज्यसभा की 4 सीटों के लिए 19 जून को चुनाव होना है। कांग्रेस ने वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे को उम्मीदवार बनाया है और पूर्व प्रधानमंत्री और जनता दल सेक्युलर के उम्मीदवार एचडी देवेगौड़ा को समर्थन दिया है।
कर्नाटक से और ख़बरें

येदियुरप्पा की हो रही उपेक्षा! 

कर्नाटक के सियासी गलियारों में इस बात की चर्चा कई महीनों से हो रही है कि बीजेपी आलाकमान लगातार येदियुरप्पा की उपेक्षा कर रहा है। इससे पहले पिछले साल जब राज्य के 17 जिलों में बाढ़ आई थी, तब भी राज्य सरकार को केंद्र से पूरा सहयोग नहीं मिलने की ख़बरें आई थीं। तब यह भी कहा गया था कि इस मामले में मुख्यमंत्री को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने तक की भी अनुमति नहीं मिली। 

हाथ बांधने की कोशिश

कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस की सरकार गिराने से लेकर बीजेपी को फिर से सत्ता में लाने के रण में अकेले सियासी कमांडर रहे येदियुरप्पा की सरकार में बीजेपी आलाकमान ने तीन डिप्टी सीएम बना दिए थे। आलाकमान ने तभी संकेत दे दिए थे कि अब वह इस दिग्गज नेता को सियासी पिच पर खुलकर बैटिंग नहीं करने देगा। 

2019 में राज्य में बीजेपी की सरकार बन जाने के बाद भी मंत्रिमंडल के विस्तार और विभागों के बंटवारे को लेकर येदियुरप्पा अपने हिसाब से सियासी गोठियां नहीं बिठा सके।
इसके अलावा येदियुरप्पा अपने बेटे विजयेंद्र को बीजेपी में बड़ा पद दिलवाना चाहते हैं लेकिन पार्टी आलाकमान इसके लिए तैयार नहीं है। 

हार मानने को तैयार नहीं येदियुरप्पा

बीएस येदियुरप्पा को कर्नाटक की राजनीति में सबसे दमदार नेता माना जाता है। येदियुरप्पा ने बीजेपी में सामान्य कार्यकर्ता से लेकर मुख्यमंत्री तक का सफर तय किया है। वह बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष भी रह चुके हैं।

दक्षिण के इस दमदार नेता ने क्षेत्रीय पार्टी कर्नाटक जन पक्ष बनाकर बीजेपी को अपनी ताक़त का अहसास कराया था और इस वजह से 2013 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को सत्ता से बाहर होना पड़ा था।
2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान बीजेपी आलाकमान को येदियुरप्पा के सामने झुककर उन्हें पार्टी में वापस लाना पड़ा था। इस बार आलाकमान उनके सख़्त ख़िलाफ़ दिख रहा है लेकिन माना जा रहा है कि राज्य में बेहद ताक़तवर लिंगायत समुदाय से आने वाले येदियुरप्पा इस बार भी आलाकमान को लोहे के चने चबवा देंगे। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

कर्नाटक से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें