loader

एक मामूली लड़की के बंगाल की 'दीदी' बनने की 'अनकही' कथा

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के राजनीतिक संघर्ष को बयान करती किताब 'दीदी: द अनटोल्ड स्टोरी' बाज़ार में पहुँच चुकी है। पत्रकार सुतपा पॉल की लिखी इस पुस्तक में बात सिर्फ़ ममता बनर्जी की नहीं कही गई है। इसमें बीते तक़रीबन 40 साल की पश्चिम बंगाल की राजनीति और उसकी उठापटक की भी विस्तार से जानकारी दी गई है। बिल्कुल सामान्य परिवार में जन्मी और मामूली परिवेश में बड़ी हुई ममता बनर्जी का राजनीतिक स्कूल उनका वह कॉलेज था, जहाँ उन्होंने बीए की पढ़ाई की और छात्र संघ से जुड़ीं।   पुरुष वर्चस्व वाली छात्र राजनीति में ममता का रास्ता सुगम नहीं था। पर तमाम विरोधों के बीच उन्होंने अपना रास्ता बनाया और आगे बढ़ती गईं। इसी तरह उनका आगे का रास्ता भी कठिन था। पर उनके लिए साल 1984 सबसे सुखद था। उन्होंने सबको अचरज में डालते हुए भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के दिग्गज नेता सोमनाथ चटर्जी को उनके ही इलाके में शिकस्त दे दी। यह किसी चमत्कार से कम नहीं था। पुस्तक वाम मोर्चा शासन से लोगों के मोहभंग और जनता के उससे दूर होने की बात भी कहती है। कैसे ममता बनर्जी ने अपने लिए बड़ा आधार बनाया, कई तरह के आंदोलनों को खड़ा किया और अजेय समझी जाने वाली वाम मोर्चा सरकार को उखाड़ फेंका। अगले लोकसभा चुनाव में ममता बनर्जी की क्या भूमिका हो सकती है, इसे भी इस किताब में टटोला गया है। यह किताब ऐमज़ॉन पर उपलब्ध है। इसका किंडल संस्करण भी मौजूद है। सुतपा पॉल पेशे से पत्रकार हैं। उन्होंने ममता बनर्जी को नज़दीक से देखा है और उन पर ख़बरें की हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

साहित्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें