loader

मध्य प्रदेश में मोदी-शाह के ‘प्लान’ पर फिर सकता है पानी!

पन्द्रह सालों की सत्ता गँवाने के बाद मध्य प्रदेश बीजेपी अपने पुराने और बुरे दौर में खड़ी नज़र आ रही है। फ़िलहाल प्रदेश बीजेपी के हाल मध्यप्रदेश की सत्ता वापसी के पहले वाली कांग्रेस खेमे जैसे बने दिख रहे हैं। लोकसभा चुनाव के लिये प्रचार ज़ोर पकड़ चुका है, लेकिन बीजेपी अपने गढ़ समेत आठ सीटों के उम्मीदवार घोषित नहीं कर पायी है। प्रदेश के नेताओं में टिकट को लेकर घमासान मचा हुआ है। पार्टी ने जिन सांसदों के टिकट काटे हैं, उनमें से कई ने बग़ावत का बिगुल फूँक कर पार्टी की मुश्किलें बढ़ा रखी हैं। आलम यह है कि पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश बीजेपी में बड़ी हैसियत रखने वाले शिवराज सिंह चौहान से लेकर मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष रहे नरेंद्र सिंह तोमर और प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह की नसीहतों का असर भी इन पर होता नज़र नहीं आ रहा है।

ताज़ा ख़बरें

बीजेपी ने 2014 के लोकसभा चुनाव में मध्य प्रदेश की कुल 29 में से 27 सीटें जीतकर इतिहास रचा था। बीजेपी ने इस बार नारा तो ‘मिशन - 29’ का दिया है, लेकिन टिकटों को लेकर मचे घमासान और संगठन में बिखराव के जो हालात हैं- उसे देखते हुए प्रदेश इकाई के कई बड़े नेता ऑफ़ द रिकॉर्ड बता रहे हैं, ‘स्थितियों को जल्दी काबू में नहीं किया गया तो मध्य प्रदेश में मोदी-शाह के प्लान पर पानी फिर जायेगा।’

दरअसल, इन नेताओं की चिंता वाजिब है। जो हालातों पर काबू पाने के लिए आगे हुआ करते थे, उनमें कुछ ने हाथ खींच रखे हैं तो कुछ ख़ुद की कुर्सी बचाने की जुगत में हैं और इसके लिए जद्दोजहद कर रहे हैं।

मसलन, मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में चुनाव अभियान समिति के मुखिया रहे निवर्तमान केन्द्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर अपना सांसद पद बचाने के लिए संघर्षरत हैं। पार्टी ने उन्हें ग्वालियर की बजाय इस बार मुरैना से टिकट दिया है। मुरैना में पार्टी के कई धड़े तोमर के विरोध में खड़े हुए हैं। तोमर के असमंजस और कुर्सी बचाने से जुड़े संघर्ष का उदाहरण स्वयं तोमर का यह बयान माना जा सकता है जिसमें उन्होंने कहा है, ‘मुरैना से ही लड़ूँगा, दोबारा ग्वालियर भेज दिया जाऊँगा या फिर किसी और सीट (भोपाल सीट के लिए भी उनका नाम चर्चाओं में है) से लड़ूँगा, अभी पक्के तौर पर मालूम नहीं है।’

पहले के अंदाज़ में नहीं दिख रहे शिवराज

विधानसभा चुनाव की हार के बाद मध्य प्रदेश की राजनीति से किनारे कर दिये गये पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी ‘बेरंग’ और ‘अनमने’ दिखलाई पड़ रहे हैं। भोपाल सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह के ख़िलाफ़ उनका नाम सुर्खियों में है, लेकिन शिवराज ने अभी तक वह अंदाज़ नहीं दिखाया है जिसके लिए पिछले तेरह-साढ़े तेरह साल वे ख्यात रहे हैं। अपने मुख्यमंत्रित्व कार्यकाल में शिवराज सिंह पूरे पाँच साल चुनावी मोड में नज़र आते थे। यहाँ तक कि उन्होंने स्थानीय निकाय चुनावों में पार्टी के लिए प्रचार में कभी गुरेज नहीं किया। लोकसभा चुनाव का बिगुल फूँके महीना भर होने जा रहा है, लेकिन शिवराज ने मध्यप्रदेश में उस तरह की मुस्तैदी अभी तक नहीं दिखाई है - जैसी की वह मध्य प्रदेश के सीएम रहते दिखाया करते थे। इस कथित उदासीनता के पीछे पार्टी द्वारा शिवराज को मध्यप्रदेश में पीछे कर दिया जाना भी माना जा रहा है।

चुनाव 2019 से और ख़बरें

भोपाल, इंदौर और विदिशा में भी असमंजस

भोपाल, इंदौर और विदिशा बीजेपी के अभेद गढ़ों में शुमार होते हैं। ये तीनों सीटें बीजेपी 1989 से लगातार जीत रही है। लगातार आठ-आठ चुनाव जीतने वाली तीनों ही सीटों के उम्मीदवारों को लेकर भी बीजेपी में भारी असमंजस और उहापोह के हालात हैं। विदिशा सीट से 2009 में सुषमा स्वराज सांसद थीं। वे क़रीब तीन महीने पहले ही घोषणा कर चुकी थीं कि इस बार का चुनाव नहीं लड़ेंगी। जबकि इंदौर सीट की आठ बार की सांसद सुमित्रा महाजन ‘ताई’ ने टिकट कटने के अंदेशे के चलते शुक्रवार को साफ़ कर दिया कि वह चुनाव नहीं लड़ेंगी। 

भोपाल सीट पर पन्द्रह दिन पहले कांग्रेस दिग्विजय सिंह को उम्मीदवार घोषित कर चुकी है। इधर बीजेपी में तीनों ही सीटों को लेकर कशमकश का सिलसिला ख़त्म नहीं हो पा रहा है।

इन प्रत्याशियों का हो रहा है ज़बरदस्त विरोध

बीजेपी के टीकमगढ़ के प्रत्याशी वीरेंद्र कुमार, रीवा में जर्नादन मिश्रा, सीधी में रीती पाठक, शहडोल में हिमाद्री सिंह, बालाघाट में ढाल सिंह बिसेन, राजगढ़ में रोडमल नागर, उज्जैन में अनिल फिरोजिया, मंदसौर में सुधीर गुप्ता, खरगोन में गजेन्द्र पटेल, खंडवा में नंदकुमार सिंह चौहान और बैतूल में दुर्गादास का भारी विरोध हो रहा है। शहडोल में तो निवर्तमान सांसद ज्ञान सिंह नाम निर्देशन पत्र ख़रीद चुके हैं। उधर बालाघाट में टिकट कटने से दु:खी बोध सिंह भगत ताल ठोक मैदान में डट गये हैं। सागर का टिकट अभी घोषित नहीं हुआ है, लेकिन टिकट कटने के अंदेशे के मद्देनजर निवर्तमान सांसद लक्ष्मी नारायण यादव सोशल मीडिया पर नित-नयी तीखी पोस्ट डालकर पार्टी पर दबाव बनाये हुए हैं।

फग्गन सिंह कुलस्ते के टिकट पर तलवार!

मंडला से उम्मीदवार बनाये गये मौजूदा सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते के टिकट पर तलवार लटकी नज़र आ रही है। ‘टीवी9 भारत वर्ष’ के कथित स्टिंग से जुड़ा कुलस्ते का वीडियो जमकर वायरल हो रहा है। वायरल स्टिंग वीडियो में वे प्रधानमंत्री मोदी समेत अन्य बड़े नेताओं को भला-बुरा कहते हुए नज़र आ रहे हैं। कथित स्टिंग के बाद से उनका टिकट कटने की संभावनाएँ जताई जा रही हैं।

सबकुछ योजना के अनुसार: बीजेपी

मध्यप्रदेश बीजेपी के मुख्य प्रवक्ता दीपक विजयवर्गीय ने ‘सत्य हिन्दी’ से कहा, ‘टिकट वितरण में किसी तरह की देरी नहीं हुई है। छिंदवाड़ा में नॉमिनेशन के लिए पर्याप्त समय है। जल्द ही उम्मीदवार घोषित कर दिये जाएँगे।’ उन्होंने कहा, ‘चुनाव समिति की बैठकें नियमित हो रही हैं। प्रदेश की बची हुई सभी सीटों पर तय समय में पार्टी उम्मीदवार घोषित कर देगी। टिकटों को लेकर पार्टी में किसी तरह के असमंजस या संशय जैसे हालात क़तई नहीं हैं। रही बात टिकट कटने से नाराज़ निवर्तमान सांसद या दावेदार को टिकट नहीं मिलने के बाद असंतोष होने की तो वक्त रहते सभी को मना लिया जायेगा। कहीं कोई सेबोटेज़ नहीं होगा। अंत में बीजेपी मिशन 29 में सफल होगी।’

संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

चुनाव 2019 से और खबरें

ख़ास ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें