loader

कन्हैया के लिए आरजेडी ने क्यों नहीं छोड़ी बेगूसराय सीट?

तमाम अटकलों और उम्मीदों के उलट राष्ट्रीय जनता दल ने बेगूसराय की सीट भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के लिए नहीं छोड़ी। इसके साथ ही यह तय हो गया कि जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार विपक्षी गठबंधन के साझा उम्मीदवार नहीं होंगे। आरजेडी के इस फ़ैसले से कई सवाल खड़े हो गए हैं। इस फ़ैसले से सिर्फ़ बेगूसराय या कन्हैया कुमार ही नहीं, बिहार की राजनीति, राज्य के सामाजिक समीकरण और राष्ट्रीय जनता दल की रणनीति से जुड़ी कई बातें भी खुल कर सामने आती हैं। 
भारतीय जनता पार्टी और नरेंद्र मोदी का ज़बरदस्त विरोध करने वाले कन्हैया कुमार साल 2016 में तिहाड़ जेल से बाहर निकले तो समाज के एक बड़े वर्ग के हीरो बन चुके थे। जेल से बाहर निकल कर जेएनयू परिसर मे दिया उनका पहला भाषण रातोरात हिट हो गया और यूट्यूब पर इसे लाखों लोगों ने देखा।
उन पर जो राजद्रोह के आरोप लगे, उन पर मुक़दमा अब तक शुरू नहीं हुआ है। लेकिन इसके साथ ही कन्हैया कुमार ने चतुर राजनेता के गुणों का परिचय भी दिया और व्यवहारिक राजनीति करने लगे। उन्होंने भ्रष्टाचार के आरोप झेल रहे लालू प्रसाद यादव से निजी मुलाक़ात की। अपने गृहनगर और किसी समय सीपीआई का गढ़ माने जाने वाले बेगूसराय का कई बार दौरा किया। अच्छे वक्ता तो वह हैं ही, नरेंद्र मोदी पर जिस तरह उन्होंने हमले किए और देश के अलग-अलग हिस्सों में घूम-घूम कर सत्तारूढ़ दल की नीतियों और ख़ास कर प्रधानमंत्री पर हमले किए, उससे उनकी जूझारू और समझदार नेता की छवि बन गई। यह माना जाने लगा कि आरजेडी उनके लिए बेगूसराय की सीट छोड़ देगा और वह वहाँ से आराम से चुनाव जीत कर संसद पहुँच जाएँगे। 
सम्बंधित खबरें
पर जब सीटों के बँटवारे पर अंतिम बातचीत हुई तो आरजेडी ने वह सीट छोड़ने से साफ़ इनकार कर दिया। कई बार की कोशिशों के बावजूद बात आगे नहीं बढ़ी। इस पर लोगों को ताज्जुब हो सकता है। पर बेगूसराय और बिहार की राजनीति पर एक नज़र डालने से चीजें साफ़ हो जाती हैं। 
साल 2014 के लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी की लहर के बावजूद बेगूसराय में राजद को लगभग 3.70 लाख वोट मिले, उसका उम्मीदवार सिर्फ़ 56 हज़ार वोटों से हारा था। उसके बाद से गंगा में काफ़ी पानी बहा है, मोदी का जादू उतर चुका है, वह अपने वायदे पूरे करने में बुरी तरह नाकाम हुए हैं, लालू प्रसाद यादव के जेल जाने के बावजूद आम जनता में उनकी छवि पर भ्रष्टाचार का कीचड़ नहीं लगा है। आरजेडी पहले से अधिक मजबूत हुआ है, तेजस्वी यादव एक सुलझे हुए और तेज़ राजनेता के रूप में उभरे हैं, पार्टी के कार्यकर्ता जोश से भरे हुए हैं। स्वाभाविक है कि राजद यह सोचे कि इस बार वह ख़ुद चुनाव लड़े क्योंकि पिछली बार के सिर्फ़ 56 हज़ार वोट के अंतर को पाटना बहुत मुश्किल नहीं होगा। 
बिहार में जो जातीय समीकरण है, उसकी यह सच्चाई है कि अब वहाँ अगड़ी जातियों के नेताओं के लिए बहुत संभावनाएँ नहीं बची हैं। जाति में विश्वास नहीं करने वाली कम्युनिस्ट पार्टियाँ भी इस सच्चाई को मान चुकी हैं और उसी हिसाब से अपना नेतृत्व उभारती हैं।
बेगूसराय में जिस भूमिहार जाति की संख्या अधिक है, कन्हैया उसी जाति के हैं। इसलिए उनका दावा तो सही बैठता है, पर आरजेडी की राजनीति अगड़ों के विरोध पर टिकी हुई है। वह अपनी छवि एक अगड़े नेता को आगे बढ़ाने वाले दल की नहीं कर सकती, इससे उसे राज्य के दूसरे हिस्सों में नुक़सान होगा। सीपीआई जिन नेताओं के नाम आगे बढ़ा रही थी, वे भूमिहार जाति के ही थे। ऐसे में उनका विरोध करना आरजेडी की राजनीतिक चतुराई भी है और मजबूरी भी। 
साल 2014 के लोकसभा चुनाव में बेगूसराय से आरजेडी के उम्मीदवार तनवीर हसन थे, जो बीजेपी के भूमिहार उम्मीदवार भोल सिंह से हार गए थे। वह बिहार के क़द्दावर मुसलमान नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी के नज़दीक हैं। सिद्दीकी राजद के एक मात्र मुसलमान चेहरा हैं, लालू की ग़ैरमौजूदगी में उनका कद पहले से बढ़ा है। पार्टी उनकी उपेक्षा नहीं कर सकती और वह तनवीर हसन पर इस बार भी दाँव खेलने की ज़ोरदार वकालत कर रहे थे।  
बेगूसराय से तनवीर हसन को मैदान में उतार कर तेजस्वी एक साथ कई चीजों को साध लेंगे। वह अब्दुल बारी सिद्दीकी की नाराज़गी दूर कर लेंगे, राज्य के तमाम मुसलमानों के बीच पार्टी की छवि एक बार फिर स्थापित करेंगे और बेगूसराय की सीट भी अपनी पार्टी के पास ही रखने में कामयाब होंगे।
जब एक-एक सीट अहम हो, तेजस्वी से यह उम्मीद करना ज़्यादती होगी कि वह एक सीट सीपीआई को उपहार में दे दें और वह भी अपने नुक़सान पर। तेजस्वी एक कुशल राजनेता हैं, वह यह उदारता दिखा कर अपनी पार्टी का नुक़सान नहीं करेगे। 
इसके साफ़ संकेत हैं कि सीपीआई बेगूसराय में अपना उम्मीदवार उतारेगी और वह कन्हैया कुमार हों, इसकी पूरी संभावना है। बेगूसराय को किसी ज़माने में 'बिहार का मास्को' कहा जाता था। वे दिन अब नहीं रहे, सीपीआई का आधार छीज चुका है, उसके जनाधार को राजद ने बुरी तरह काटा है। ऐसे में यह बिल्कुल स्वाभाविक है वह चुनाव लड़े। यह तिकोना चुनाव बीजेपी के पक्ष में जाए और उससे इससे फ़ायदा हो, इस संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है। पर सीपीआई को अपना जनाधार बचाना है और उसे वहाँ अपना उम्मीदवार खड़ा करना ही चाहिए, नतीजा चाहे जो हो। सांप्रदायिकता को रोकने की सारी ज़िम्मेदारी उसकी ही तो नहीं है। ऐसे में कन्हैया कुमार को कितने वोट मिलेंगे और वह चुनाव जीत पाएँगे या नहीं, यह देखना दिलचस्प होगा। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

चुनाव 2019 से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें