loader
बीजेपी के दो विधायकों को तोड़ने के बाद मीडिया से मुखातिब कमलनाथ। साथ में बीजेपी के दोनों विधायक भी।सत्य हिंदी

कमलनाथ की सर्जिकल स्ट्राइक: बीजेपी के 2 विधायक टूटे, 5 और टूटेंगे?

मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार को अल्पमत में बताते हुए इसे गिराने की बार-बार गीदड़ भभकियाँ देने वाली बीजेपी पर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ कर दी। बीजेपी के दो विधायकों को तोड़कर उन्होंने कर्नाटक के ‘नाटक’ का कुछ ही घंटों में बीजेपी से ‘बदला’ ले लिया। पूरे घटनाक्रम के बाद कांग्रेस की ओर से दावा किया जा रहा है कि यह तो शुरुआत है। बीजेपी के पाँच विधायक संपर्क में होने का दावा भी कांग्रेस खेमे ने किया। पूरे घटनाक्रम के बाद भोपाल से लेकर दिल्ली तक बीजेपी हक्का-बक्का है और फ़िलहाल उसे कुछ सूझ नहीं रहा है। हालाँकि पूर्व संसदीय मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ विधायक नरोत्तम मिश्रा ने कहा, ‘खेल कांग्रेस ने शुरू किया है - उसे ख़त्म बीजेपी करेगी।’

ताज़ा ख़बरें

पूरे घटनाक्रम में बेहद दिलचस्प तथ्य यह रहा कि बुधवार को विधानसभा में ख़ुद ट्रेजरी बेंच (सरकार) की ओर से वोटिंग की माँग हुई। वोटिंग के वक़्त तक बीजेपी को इल्म नहीं था कि उसके (बीजेपी के) साथ बेहद करारी चोट होने वाली है। एडवोकेट प्रोटेक्शन बिल पर सरकार का सहयोग कर रहे बसपा के सदस्य संजीव सिंह ने मतदान कराये जाने की माँग की। वोटिंग हुई तो कांग्रेस के पक्ष में 122 वोट पड़ गये।

बता दें कि कुल 230 सदस्यीय मध्य प्रदेश विधानसभा में कांग्रेस के 114 विधायक हैं। बसपा के दो, सपा के एक और चार निर्दलीय विधायक सरकार का समर्थन कर रहे हैं। इस तरह से कुल संख्या 121 है। बीजेपी के 109 विधायक थे। झाबुआ के बीजेपी विधायक गुमान सिंह डामोर झाबुआ सीट से सांसद हो गये हैं और इसके बाद यह सीट खाली हो गई है। यानी बीजेपी के पास 108 विधायक ही बचे थे।

बुधवार को सदन में वोटिंग हुई तो 108 में से दो बीजेपी का साथ छोड़ गये।

वोटिंग के कुछ देर पहले ताल ठोकते हुए नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने दावा किया था, ‘नंबर एक (इशारा नरेंद्र मोदी) और नंबर दो (अमित शाह) का आदेश मिले तो एक ही दिन में कांग्रेस की सरकार को गिरा देंगे।’ भार्गव के इस दावे की कांग्रेस ने थोड़ी देर बाद ही हवा निकाल दी।

मतदान में बीजेपी के नारायण त्रिपाठी (सतना ज़िले के मैहर से आते हैं) और शरद कोल (शहडोल के ब्यौहारी से विधायक) ने पाला बदलते हुए कांग्रेस के पक्ष में वोट कर दिया। 

नारायण त्रिपाठी और शरद कोल मूलत: कांग्रेसी ही हैं। एक समय में दोनों कांग्रेस का हाथ छोड़कर बीजेपी के साथ हो गये थे। बुधवार को दोनों ने वोट के बाद एक-सी बात कही, ‘बीजेपी में दम घुट रहा था। क्षेत्र के विकास की वजह से बीजेपी में गये थे। धोखा मिला। विकास नहीं हुआ। थोथे वादे और झूठी घोषणाएँ भर बीजेपी की सरकार में होती रहीं। अब घर लौट आये हैं।’ कोल ने तो कमलनाथ को स्वयं का आइकॉन भी बताया।

विधानसभा में कांग्रेस ने 2013 जैसा ‘धमाका’ किया

मध्य प्रदेश विधानसभा में बुधवार को जो कुछ हुआ (सदन के भीतर बीजेपी के दो विधायक टूट गये) उसने 2013 के दृश्य को दोहरा दिया। दृश्य में फ़र्क इतना रहा तब (2013 में) बीजेपी ने कांग्रेस को ‘धीरे से जोर का झटका’ दिया था, जबकि आज कांग्रेस ने बीजेपी को उससे तगड़ा झटका दे दिया। कांग्रेस तब प्रतिपक्ष में थी और शिवराज सरकार के विरोध में अविश्वास प्रस्ताव लेकर आयी थी। अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा आरंभ होने के ठीक पहले कांग्रेस विधायक दल के उपनेता चौधरी राकेश सिंह ने अपने ही दल को कठघरे में खड़ा करते हुए प्रस्ताव की हवा निकाल दी थी। राकेश सिंह बाद में बीजेपी में शामिल हो गए थे। हालाँकि अब वह भी कांग्रेस में वापस लौट आये हैं।

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

कमलनाथ के चेहरे पर मुस्कान

सदन में बीजेपी को करारा झटका देने के बाद मीडिया के सामने पहुँचे मुख्यमंत्री कमलनाथ के चेहरे पर उनकी चिर-परिचित मुस्कान लंबे अर्से बाद दिखलाई पड़ी। आत्म विश्वास से लवरेज नाथ ने कहा, ‘बीजेपी पिछले छह महीनों से सरकार को अल्पमत में बता रही है। हमने आज एडवोकेट प्रोटेक्शन बिल में वोटिंग के ज़रिये मुंगेरीलाल के हसीन ख्वाब देखने वाली बीजेपी को बता दिया है कि मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार पूरे पाँच बरस चलेगी।’

शिवराज और भार्गव बगलें झाँकते नज़र आये

घटनाक्रम से से चकित पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ विधायक शिवराज सिंह चौहान तथा नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव बगलें झाँकते दिखाई पड़े। शिवराज सिंह ने संक्षिप्त प्रतिक्रिया में कहा, ‘ऐसा तमाशा नहीं देखा। सच जल्दी सामने आयेगा।’ उधर ‘कमलनाथ सरकार गिराने के लिए नंबर वन-नंबर टू के आदेश’ की बात कहने वाले भार्गव गोलमोल जवाब देते हुए मीडिया से बचकर निकल गये।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें