loader

कोरोना की वजह से मध्य प्रदेश में बढ़ी आत्महत्या की घटनाएँ

महामारी कोरोना के बढ़ते संक्रमण के ख़तरों और लाॅकडाउन के बीच घरों में रहने और घर का बना खाना खाने से लोगों के स्वास्थ्य में सुधार के दावे भले ही हो रहे हैं, लेकिन अवसाद और धैर्य टूटने का सिलसिला भी ज़बरदस्त ढंग से बढ़ रहा है। सिर्फ राजधानी भोपाल में 22 मार्च (जनता कर्फ्यू) से 07 मई (लाॅकडाउन तीन की मध्य अवधि) के बीच कुल 46 दिनों में 43 आत्महत्याओं की घटनाएँ हुई हैं।
बता दें, मध्य प्रदेश आत्महत्याओं के मामले में देश में पाँचवें क्रम पर है। पिछले सालों के सुसाइट के आँकड़ों ने मध्य प्रदेश को इसी क्रम पर रखा है। भोपाल में पिछले डेढ़ महीनों के दरमियान हुई आत्महत्याओं की घटनाएँ बड़े उछाल की ओर इशारा कर रही हैं। जानकारों का कहना है, भोपाल के आँकड़े को आधार बनाया जाये तो ऐसा लगता है कि ख़ुदकुशी के मामलों में 40 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि हुई है।  
मध्य प्रदेश से और खबरें

औसत आत्महत्या

नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के आँकड़ों के अनुसार, साल 2018 में मध्य प्रदेश में आत्महत्याओं की कुल 11 हज़ार 775 घटनाएँ हुई थीं। यानी, हर महीने औसतन 981 मामले।  मध्य प्रदेश में कुल 52 ज़िले हैं। औसत निकाले जाने पर हर महीने एक ज़िले में 18-19 आत्महत्याओं का हिसाब होता है।  

कोरोना संकट पैदा होने के बाद भोपाल में बीते डेढ़ महीने में 43 आत्महत्या मामले स्पष्ट संकेत दे रही हैं कि लोगों के सब्र का बाँध टूटने का क्रम बहुत तेज़ हो गया है।
राजधानी में ख़ुदकुशी की जो वारदातें 22 मार्च से 7 मई के बीच हुई हैं, उनमें कुछ मामलों में कोरोना के भय से मौत को गले लगाने के संकेत भी मिले हैं।

कारण क्या है?

मोटे तौर पर भोपाल की आत्महत्याओं से जुड़े अधिकांश मामले घरेलू कलह, नशा प्रवृत्ति और क़र्ज़ का बोझ रहा है। कुछ मामलों में वजह नौकरी जाने चले जाने का भय भी रहा है।
मनोचिकित्सक डाॅक्टर सत्यकांत त्रिवेदी का कहना है,

‘लाॅकडाउन की वजह से एन्जाइटी और डिप्रेशन बढ़ रहा है। शहर में ऐसे मामलों में 10 से 30 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।’


लॉकडाउन से अवसाद

डाॅक्टर त्रिवेदी कहते हैं, ‘लाॅकडाउन रहेगा? नहीं रहेगा? कब खत्म होगा? आगे नौकरी और काम-धंधे का क्या होगा? कोरोना हो गया तो? ये और इस तरह के बहुतेरे सवालों को लेकर लोग बुरी तरह आशंकित हैं। पहले कई लोग जो लोग सीमा पर थे, कोरोना संक्रमण काल में डिप्रेशन का शिकार हो गये हैं।’

डाॅक्टर त्रिवेदी ने कहा, ‘लाॅकडाउन चरित्र और व्यक्तित्व की परीक्षा है। घर में रहने से तक़रार बढ़ गई है। होना यह था कि इस समय में अपने रिश्ते को अच्छा बनाते, मगर रिश्तें बिगड़ रहे हैं।’

डाॅक्टर त्रिवेदी के अनुसार ओसीडी (ऑबसेसिव कंपलसिव डिसऑर्डर) भी मौजूदा हालातों का एक अहम कारण है। ओसीडी एक बीमारी है। इस बीमारी से ग्रसित व्यक्ति बार-बार हाथ धोता है। हाथों को धोने के निर्देश की वजह से भी बीमारी बढ़ रही है। इससे बचाव के लिए बड़े पैमाने पर जागरूकता फैलाने की जरूरत है। काउंसिलिंग करना होगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें