loader

देश में सबसे महंगा सादा पेट्रोल मध्य प्रदेश में, 100 के पार पहुँचा

मध्य प्रदेश सबसे महंगा सादा पेट्रोल बेचने वाला देश का पहला राज्य बन गया है। सूबे में सादे पेट्रोल के दाम 100 रुपये के आँकड़े को पार करते हुए भारत में सबसे महंगा पेट्रोल बेचने के रिकॉर्ड को छू गया है।

तेल कंपनियों ने बुधवार को सादे पेट्रोल के दामों में 25 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की। इस बढ़ोतरी के बाद मध्य प्रदेश के आदिवासी बाहुल्य अनूपपुर ज़िले के कोतमा में सादा पेट्रोल 100.31 रुपये प्रति लीटर बिका। देश में सादे पेट्रोल का प्रति लीटर सर्वाधिक दाम मध्य प्रदेश में दर्ज हुआ।

कोतमा के अलावा अनूपपुर ज़िला मुख्यालय पर सादे पेट्रोल के दाम 100.10 रुपये प्रति लीटर दर्ज हुए।

ताज़ा ख़बरें

इधर मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में सादा पेट्रोल (25 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी के बाद) 97.50 रुपये प्रति लीटर बिका। 

बता दें कि बीते सोमवार को मध्य प्रदेश ने प्रीमियम पेट्रोल की बिक्री के मामले में सबसे ज़्यादा 100.61 रुपये प्रति लीटर की क़ीमत को छुआ था। देश में सबसे महँगा प्रीमियम पेट्रोल बेचने वाला पहला राज्य मध्य प्रदेश बना था। प्रीमियम पेट्रोल के बाद सादे पेट्रोल की सबसे ऊँचे दाम पर बिक्री का रिकॉर्ड भी अब मध्य प्रदेश के नाम दर्ज हो गया है।

एमपी के कोतमा के बाद राजस्थान का गंगानगर!

मध्य प्रदेश के कोतमा के बाद सबसे महंगा सादा पेट्रोल बेचने वाला देश का दूसरा सूबा राजस्थान बना है। राजस्थान के गंगानगर में बुधवार की बढ़ोतरी के बाद सादा पेट्रोल के दाम 100.13 रुपये प्रति लीटर हो गये हैं।

पेट्रोलियम उत्पादों पर सबसे ज़्यादा टैक्स वसूलने वाले सूबों में मध्य प्रदेश ऊपरी पायदान पर है। मध्य प्रदेश में पेट्रोल पर 33 प्रतिशत टैक्स के साथ 4.50 रुपये प्रति लीटर सेस भी वसूला जा रहा है।
इसी तरह डीजल पर मध्य प्रदेश में 23 प्रतिशत टैक्स और तीन रुपये सेस है। रसोई गैस पर भी सबसे ज़्यादा टैक्स वसूलने वाले सूबों की श्रेणी में मध्य प्रदेश खड़ा हुआ है।

नौ दिनों में 2.59 रुपये बढ़े दाम

तेल कंपिनयों ने पिछले नौ दिनों में अकेले पेट्रोल पर 2.59 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि की है। डीजल भी महँगा हुआ है। इस महीने में रसोई गैस के दाम दो बार बढ़ाये गये हैं। महीने के आरंभ तक भोपाल में रसोई गैस का 14.2 किलो क्षमता वाला सिलेंडर 700 रुपये में मिल रहा था। पहले इसके दाम 25 रुपये प्रति सिलेंडर और दूसरी बार 50 रुपये प्रति सिलेंडर बढ़ा दिये गये। अब भोपाल समेत राज्य में पौने आठ सौ के आसपास घरेलू उपयोग वाला गैस सिलेंडर मिल रहा है।

दिल्ली में सादे पेट्रोल के दाम 89.54 प्रति लीटर

मध्य प्रदेश में सादा पेट्रोल जहाँ सबसे ज़्यादा 100.31 रुपये प्रति लीटर को छू गया, वहीं देश की राजधानी दिल्ली में बुधवार की ताज़ा बढ़ोतरी के बाद सादे पेट्रोल के दाम 89.54 रुपये प्रति लीटर रहे।

मध्य प्रदेश में पेट्रोल की क़ीमतें बढ़ने पर कांग्रेस नेता कमलनाथ ने बीजेपी सरकार की आलोचना की है। 

एमपी कांग्रेस ने 20 को बंद का एलान

मध्य प्रदेश कांग्रेस ने प्रीमियम पेट्रोल के दाम 100 रुपये लीटर पार करने के बाद 20 फ़रवरी को मध्य प्रदेश बंद का एलान किया है। कल हुए सादा पेट्रोल के दामों में वृद्धि के बाद वह और चिढ़ गई है। शिवराज सरकार पर हमला तेज़ कर दिया है। 

कमलनाथ की सरकार में प्रवक्ता रहे पूर्व मंत्री और वरिष्ठ विधायक पी.सी. शर्मा देश में सबसे महंगे सादा पेट्रोल के दामों पर शिवराज सरकार को आड़े हाथों ले रहे हैं।

शर्मा ने ‘सत्य हिन्दी’ से कहा, ‘यूपीए सरकार में पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ने पर मुख्यमंत्री निवास से वल्लभ भवन तक साइकिल से जाने की नौटंकी करने वाले शिवराज सिंह चौहान की साइकिल अब कहाँ चली गई है? क्या वह पंचर हो गई है? आसमान छूते दाम मुख्यमंत्री शिवराज सिंह और उनकी काबीना को आख़िर क्यों नज़र नहीं आ रहे हैं? क्यों सरकार अपने स्तर पर मध्य प्रदेश के लोगों को राहत प्रदान कर का प्रयास कर रही है?’

पी.सी. शर्मा ने बताया कि मध्य प्रदेश विधानसभा के 22 फ़रवरी से आरंभ हो रहे बजट सत्र के पहले दिन समूचा कांग्रेस विधायक दल साइकिल से विधानसभा पहुँचकर अपना विरोध दर्ज करायेगा।

बीजेपी का आरोप

उधर मध्य प्रदेश सरकार के प्रवक्ता और राज्य के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा हाय-तौबा मचाने पर कांग्रेस को कठघरे में खड़ा कर रहे हैं। मिश्रा का कहना है, ‘तेल कंपनियाँ दाम बढ़ाती हैं, और घटाती भी हैं। कांग्रेस छाती पीट रही है। जब मध्य प्रदेश में कमलनाथ की सरकार बनी थी उसने रातों-रात पाँच रुपये प्रति लीटर का टैक्स, पेट्रोल-डीजल पर लगा दिया था। सत्ता में रहो तो कुछ और प्रतिपक्ष में रहो तो कुछ और, जनता सबकुछ समझती है। कांग्रेस के बहकावे-छलावे में वह आने वाली नहीं है।’

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें