loader

शिवराज कैबिनेट के विस्तार से उमा भारती नाराज, धरने पर बैठे बीजेपी कार्यकर्ता

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा गुरूवार को अपनी कैबिनेट का विस्तार करने के बाद बीजेपी में विरोधी सुर सुनाई दे रहे हैं। पूर्व केन्द्रीय मंत्री और बीजेपी की वरिष्ठ नेता उमा भारती ने इसे लेकर विरोध जताया है। उन्होंने दो टूक कहा है कि कैबिनेट के विस्तार में जातीय संतुलन की अनदेखी हुई है।

बाबरी मसजिद विध्वंस के मामले में सुनवाई के चलते उमा भारती गुरूवार को लखनऊ मे थी। मंत्रिमंडल में लिए गए नए 28 सदस्यों की सूची देखने के बाद साध्वी भड़क गईं। उमा भारती ने इसे लेकर पार्टी नेतृत्व को खत लिखा है। 

ताज़ा ख़बरें

विनय सहस्त्रबुद्धे, सुहास भगत और मध्य प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष वीडी शर्मा को संबोधित खत में कैबिनेट के विस्तार से जुड़ी तमाम कथित खामियां उमा भारती द्वारा गिना दिए जाने से भोपाल से लेकर दिल्ली तक पार्टी के रणनीतिकारों के माथे पर चिंता की लकीरें उभर आई हैं। 

उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार, उमा भारती ने अपने खत में दो टूक कहा, ‘कैबिनेट विस्तार में जातीय संतुलन की अनदेखी की गई है। जो सुझाव मैंने कैबिनेट विस्तार के पूर्व दिए थे, उन्हें भी नजरअंदाज किया गया है।’

बताया जा रहा है कि उमा भारती यहीं नहीं थमीं और उन्होंने अपने पत्र में यह भी कह दिया है कि विस्तार के बाद उनसे जुड़े समर्थक स्वयं को अपमानित महसूस कर रहे हैं।

बता दें, 100 दिन पुरानी शिवराज सिंह सरकार की कैबिनेट में आज 28 नये चेहरे लिए गए हैं। विस्तार के बाद शिवराज कैबिनेट में सदस्यों की कुल संख्या 34 हो गई है। विधानसभा में सदस्यों की संख्या के हिसाब से अधिकतम 35 मंत्री बनाए जा सकते हैं। इस हिसाब से अब महज एक ही मंत्री बनाए जाने के लिए जगह बची हुई है।

तेज होंगे बगावत के सुर 

उमा भारती के अलावा मंदसौर में भी बीजेपी के कार्यकर्ताओं ने कैबिनेट विस्तार को लेकर नाराजगी जताई और वरिष्ठ विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया को मंत्री बनाए जाने की मांग को लेकर धरना दिया। हालांकि पार्टी ने धरने को नजरअंदाज कर दिया। ऐसा माना जा रहा है यह अभी शुरुआत है, आने वाले दिनों में बीजेपी में बगावत के सुर तेज होंगे।
Shivraj Cabinet expansion Uma bharti express displeasure - Satya Hindi
मंदसौर में धरना देते बीजेपी कार्यकर्ता।

क्षेत्रीय संतुलन को लेकर सवाल

शिवराज कैबिनेट के विस्तार के बाद उमा भारती ने जातीय समीकरण का मुद्दा उठाया है, लेकिन इसके अलावा क्षेत्रीय संतुलन को लेकर भी सवाल उठाए जा रहे हैं। दरअसल, अनेक क्षेत्र ऐसे हैं जो बीजेपी के गढ़ हैं, लेकिन वहां से किसी को भी मंत्री नहीं बनाया गया है।

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

ग्वालियर-चंबल संभाग सिर्फ ऐसा क्षेत्र है, जिसे कैबिनेट के विस्तार में भरपूर जगह मिली है। यहां बता दें कि राज्य की जिन 24 विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव होना है, उनमें 16 इसी क्षेत्र में हैं। उपचुनावों के मद्देनजर ही क्षेत्र को भरपूर तवज्जो बीजेपी ने दी है। 

उधर, इंदौर में बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के समर्थक विधायक रमेश मैंदोला को कैबिनेट में न लिए जाने से कुपित एक समर्थक ने आत्मदाह का प्रयास किया। मैंदोला ज़िंदाबाद के नारे लगा रहे इस समर्थक ने स्वयं पर केरोसिन छिड़क लिया लेकिन आग लगा पाने से पहले ही समर्थकों ने उसे पकड़ लिया।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें