loader

‘मुठभेड़’ में मारे जाने के पहले विकास दुबे ने पुलिस को दिया था यह ‘कबूलनामा’

उत्तर प्रदेश का मोस्ट वांटेंड अपराधी और गैंगस्टर विकास दुबे अंततः ‘पुलिस मुठभेड़’ में मारा गया। आठ पुलिस वालों की हत्या और अनेक गंभीर अपराधों के मास्टरमाइंड विकास से यूपी पुलिस तो कोई पूछताछ नहीं कर सकी, लेकिन मध्य प्रदेश पुलिस द्वारा की गई पूछताछ में विकास का ‘कबूलनामा’ कम चौंकाने वाला नहीं है।

बता दें, कानपुर के बिकरू गाँव में पिछले सप्ताह विकास और उसके साथियों ने पुलिस दल पर हमला बोला था। उसे पकड़ने पहुँची पुलिस पर घात लगाकर किये गये हमले में आठ पुलिस वाले शहीद हो गये थे, कई पुलिसकर्मी घायल हुए थे। इनमें कुछ की हालत अभी भी चिंताजनक है।
उत्तर प्रदेश से और खबरें
गुरुवार सुबह विकास को एक नाटकीय घटनाक्रम में मध्य प्रदेश के उज्जैन में महाकाल मंदिर में दर्शन के लिए जाते हुए गिरफ़्तार कर लिया गया था। 

यूपी पुलिस को सौंपने के पहले मध्य प्रदेश पुलिस ने विकास से पूछताछ की थी। करीब आठ घंटे की पूछताछ में विकास ने कई चौंकाने वाली जानकारियाँ मध्य प्रदेश पुलिस को दी थीं। मध्य प्रदेश पुलिस ने तो विकास के ‘कबूलनामे’ को लेकर आधिकारिक तौर पर मीडिया को कुछ नहीं बताया है।

पर ‘सत्य हिन्दी’ को सूत्रों के हवाले से विकास के ‘कबूलनामे’ का ब्यौरा मिला है, वह ब्यौरा कुछ इस तरह से बताया गया है: -

  • पुलिस के लोग लगातार मेरे संपर्क में थे।
  • एनकाउंटर किए जाने का डर था।
  • हथियारों के साथ अपने साथियों को बुलाया था। 
  • मैंने 30 लोगों का खाना बनवाया था। 
  • मुठभेड़ के डर से पुलिस पर ताबड़तोड़ फायरिंग की थी। 
  • हमारी तैयारी पुलिस वालों को जलाने की भी थी। 
  • सारे सबूत मिटाने के लिए तेल भी खरीद कर लाया गया था।
  • और पुलिस बल ना आता तो मारे गए पुलिसकर्मियों को जला देते।
  • घटना के बाद मैंने सभी साथियों को अलग-अलग भागने को कहा था। 
  • मुझे गोली चलाने को मजबूर किया गया था।
  • अपने किये पर मुझे बेहद अफसोस है।
  • मैं महाकाल मंदिर परिसर में बैठकर बहुत रोया हूँ। 

बता दें कि पहले ख़बर यह आई थी विकास ने पुलिस के सामने आत्मसमर्पण किया था। फिर मध्य प्रदेश पुलिस ने विकास को पकड़ने का दावा किया था। गुरुवार देर शाम विकास को उत्तर प्रदेश पुलिस को सौंप दिया गया था। सड़क मार्ग से विकास को यूपी ले जाया गया था। कानपुर पहुँचने के ठीक पहले विकास ने भागने और पुलिस पर हमला बोलने का प्रयास किया, जिसके बाद जवाबी हमले में पुलिस ने उसे मार गिराया।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें