loader

चुनाव आयोग का फैसला लोकतंत्र की हत्या: उद्धव ठाकरे 

छह महीने की रस्साकसी के बाद शिवसेना पार्टी का नाम और चुनाव चिन्ह एकनाथ शिंदे गुट को सौंप दिया गया है। चुनाव आयोग ने शुक्रवार की शाम दिये अपने फैसले में पार्टी का चुनाव चिन्ह और नाम शिंदे गुट को देने का फैसला किया। आयोग के फैसले का आधार सांसदों और विधायकों की संख्या बना।
चुनाव आयोग के फैसले के बाद शिंदे गुट पार्टी का नाम और चुनाव चिन्ह इस्तेमाल करता रहेगा। उद्धव ठाकरे अस्थाई तौर पर आवंटित किया गया मशाल चुनाव चिन्ह इस्तेमाल करते रहेंगे, जबकि पार्टी का नया नाम उन्हें चुनाव आयोग के पास रजिस्टर कराना होगा।
चुनाव आयोग के फैसले के बाद उद्धव ठाकरे ने चुनाव और केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोला है। प्रेस कॉन्फ्रेंस कर उद्धव ने कहा कि 'गद्दार हमेशा गद्दार' ही रहता है। चुनाव आयोग का यह फैसला लोकतंत्र की हत्या है।'
ताजा ख़बरें
उद्धव ने कहा कि मैंने चुनाव आयोग से सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने तक इंतजार करने को कहा थ, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। आगे भविष्य में कोई भी विधायकों या सांसदों को खरीदकर मुख्यमंत्री या प्रधानमंत्री बन सकता है।' चुनाव आयोग ने जो फैसला दिया है, वो लोकतंत्र के लिए घातक है। प्रधानमंत्री को अब लालकिले से घोषणा कर देनी चाहिए कि लोकतंत्र खत्म हो गया है। 
यह गलत फैसला है, सीधे-सीधे चोरी है. एक या दो महीने में बीएमसी के चुनाव की तारीखों का भी ऐलान कर दिया जाएगा। ठाकरे ने कहा, 'हम सुप्रीम कोर्ट में लड़ रहे हैं। देश में सरकार की दादागीरी चल रही है। हिम्मत है तो चुनाव मैदान में आइये, चुनाव लड़िए।  वहां जनता बताएगी कि कौन असली है और कौन नकली
शिवसेना का गठन उद्धव के पिता बाला साहब ठाकरे ने 1966 में मराठी मानुष के नाम पर की थी. जो शुरुआत से ही अपने हिंदुत्ववादी विचारों को लेकर आगे बढ़ती रही। बालासाबह की मौत से पहले वह ही पार्टी के सर्वेसर्वा रहे। शिवसेना और भाजपा बहुत लंबे समय तक महाराष्ट्र में हिंदुत्व की राजनीति के सहारे एक दूसरे के साथ बने रहे।
महाराष्ट्र की राजनीति में भाजपा को पैर जमाने का मौका मिलने में शिवसेना और बालासाहब ठाकरे का बड़ा योगदान रहा। शिवसेना और बालासाहब की हैसियत का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि कई चुनाव जीतने के बाद भी वे कभी मुख्यमंत्री नहीं बने।
2019 के चुनाव से पहले भाजपा और शिवसेना भी साथ ही हुआ करते थे। लेकिन 2019 के चुनाव में गठबंधन को लेकर बात नहीं बनने के कारण शिवसेना गठबंधन से बाहर आ गई और उसने एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर महाविकास अघाड़ी का निर्माण किया और ठाकरे परिवार से पहली बार उद्धव मुख्यमंत्री बने। मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्होंने ढाई साल के करीब सरकार भी चलाई। लेकिन बाद में एकनाथ शिंदे ने पार्टी से बगावत कर भाजपा के साथ सरकार बना ली। जिसकी अंतिम परिणति आज ठाकरे परिवार से पार्टी का नाम और सिंबल छिन जाने के रूप में हुई।   
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें