loader

अनुराग कश्यप, तापसी पन्नू के घर आयकर छापे

सरकारी नीतियों की आलोचना करते रहने वाले अनुराग कश्यप और तापसी पन्नू जैसी शख्सियतों के ख़िलाफ़ आयकर विभाग ने छापे मारे हैं। फ़िल्म डायरेक्टर अनुराग कश्यप, अभिनेत्री तापसी पन्नू के अलावा जिन लोगों के यहाँ छापे मारे गए हैं उनमें विकास बहल, मधु मेंटेना भी शामिल हैं। सूत्रों के अनुसार यह छापेमारी मधु मंटेना की कंपनी फैंटम फिल्म्स से संबंधित बताई जा रही है। आयकर विभाग की ओर से यह छापेमारी मुंबई में क़रीब 22 ठिकानों पर की जा रही है।

ताज़ा ख़बरें

आयकर विभाग के सूत्रों ने बताया कि फैंटम फिल्म्स के ठिकानों पर भी छापेमारी की कार्रवाई की गई है। इसके साथ ही आयकर विभाग ने एक बयान में कहा है कि मुंबई में फ़िल्म निर्देशक अनुराग कश्यप और एक्टर तापसी पन्नू की संपत्तियों पर भी आयकर विभाग ने छापे मारे हैं।

आयकर विभाग की ओर से हुई इस कार्रवाई में ज़्यादातर वही लोग हैं जो अनुराग कश्यप कैंप से संबंध रखते हैं। शुरुआती जाँच में पता चला है कि अनुराग कश्यप पहले फैंटम कंपनी का हिस्सा थे और  इसी के चलते उन पर इनकम टैक्स विभाग ने छापेमारी की है।

आपको बता दें कि अनुराग कश्यप और तापसी पन्नू लगातार पिछले काफ़ी समय से बीजेपी के निशाने पर रहे हैं और कयास लगाए जा रहे हैं कि बीजेपी के इशारे पर ही आयकर विभाग ने इन सितारों पर कार्रवाई की है।

अनुराग कश्यप और तापसी पन्नू पर की गई आयकर विभाग की कार्रवाई को समाजवादी पार्टी के महाराष्ट्र अध्यक्ष अबू आसिम आजमी ने मोदी सरकार द्वारा बदले की कार्रवाई क़रार दिया है।

आजमी का कहना है कि मोदी सरकार के ख़िलाफ़ जो भी बोलने की हिम्मत करता है उसी को सीबीआई और इनकम टैक्स एजेंसियों का डर दिखाकर चुप करा दिया जाता है। उन्होंने कहा कि अगर कोई उनसे लड़ने की हिम्मत करता है तो उस पर इनकम टैक्स और ईडी जैसी रेड करा दी जाती है। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें
वहीं अनुराग और तापसी के समर्थन में आते हुए महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि इस समय देश में 'हिटलरशाही' चल रही है और जो भी कोई मोदी के ख़िलाफ़ बोलता है उस पर इनकम टैक्स की रेड करा दी जाती है। उन्होंने कहा कि यह बाबा साहब भीमराव आंबेडकर के लोकतंत्र का अपमान है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सोमदत्त शर्मा
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें