loader

राउत बोले- वापस न लौटें कंगना, एक्ट्रेस ने कहा- पीओके जैसी क्यों लग रही है मुंबई

फ़िल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में सीबीआई जांच को लेकर हुए घमासान के बाद अब फ़िल्मी सितारे और नेता आमने-सामने हैं। शिवसेना के प्रवक्ता और राज्यसभा के सांसद संजय राउत के फ़िल्म अभिनेत्री कंगना रनौत को लेकर दिए गए ‘मुंबई वापस न लौटें’ वाले बयान पर कंगना ने पलटवार किया है। कंगना ने एक बयान में कहा था कि उन्हें मुंबई पुलिस से मूवी माफ़िया से भी ज़्यादा डर लगता है। 

संजय राउत ने कंगना के इस बयान की निंदा की थी और कहा था कि अभिनेत्री का मुंबई में रहते हुए यहीं की पुलिस की आलोचना करना और इस तरह का बयान देना शर्मनाक है। राउत ने लिखा था, ‘हम उनसे अनुरोध करते हैं कि वे मुंबई न आएं। यह और कुछ नहीं बल्कि मुंबई पुलिस की बेइज्जती है। गृह मंत्रालय को इस पर एक्शन लेना चाहिए।’ 

ताज़ा ख़बरें

इस पर कंगना ने ट्वीट कर कहा है, ‘राउत ने मुझे खुली धमकी दी है कि मैं मुंबई वापस न लौटूं। मुंबई की गलियों में आज़ादी के नारे लगने के बाद अब खुली धमकी दी जा रही है। मुंबई पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर की तरह क्यों लग रही है।’

ड्रग माफ़िया को लेकर दिया बयान

कंगना ने कुछ दिन पहले कहा था कि उन्हें हरियाणा या केंद्र सरकार की ओर से सुरक्षा की ज़रूरत है और वह मुंबई पुलिस की सुरक्षा स्वीकार नहीं करेंगी। कंगना ने बॉलीवुड में सक्रिय ड्रग माफ़िया का पर्दाफ़ाश करने की बात कही थी। महाराष्ट्र के बीजेपी विधायक राम कदम ने इसे लेकर कहा था कि कंगना के माफिया का पर्दाफ़ाश करने की बात कहने के बाद भी मुंबई पुलिस कंगना रनौत को सुरक्षा नहीं देना चाहती। 

कंगना रनौत ने एक निजी न्यूज़ चैनल के साथ बातचीत में कहा था कि वह लंबे समय से फ़िल्म माफ़िया को एक्सपोज कर रही हैं। उन्होंने कहा था कि उन पर भी ड्रग्स का इस्तेमाल किया गया था।

महाराष्ट्र से और ख़बरें

कंगना ने हाल ही में ट्वीट कर कहा था कि फ़िल्म अभिनेता रणवीर सिंह, रणबीर कपूर, अयान मुखर्जी, विक्की कौशिक को ड्रग टेस्ट के लिए अपने ब्लड सैंपल देने चाहिए। उन्होंने कहा था, ‘इस तरह की अफ़वाहें हैं कि ये लोग कोकीन के आदी हैं। मैं चाहती हूं कि वे इन अफ़वाहों को ग़लत साबित कर दें।’ कंगना के इस ट्वीट के बाद बॉलीवुड में खलबली मच गई थी। 

संदीप सिंह को लेकर घमासान

उधर, सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में ड्रग एंगल की जांच के दौरान संदीप सिंह का नाम आने के बाद राजनीतिक घमासान मचा हुआ है। संदीप सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बायोपिक बनाई थी। इसके बाद महाराष्ट्र की ठाकरे सरकार ने इसे मुद्दा बना लिया और महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा कि संदीप सिंह पर लगे इन आरोपों की जांच होगी। कांग्रेस का कहना है कि संदीप सिंह का बीजेपी से कनेक्शन है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें