loader

मुंबई पुलिस ने नोटिस में अर्णब से पूछा- क्यों न बॉन्ड भराया जाए कि ठीक बर्ताव करेंगे

टीवी चैनलों की टीआरपी गड़बड़ी के मामले में कार्रवाई का सामना कर रहे रिपब्लिक टीवी के मुख्य संपादक अर्णब गोस्वामी की एक और मुश्किल बढ़ गई है। इसी साल पहले हुए कार्यक्रमों के प्रसारण को लेकर दो एफ़आईआर के मामले में मुंबई पुलिस ने उन्हें शुक्रवार शाम को पुलिस के सामने पेश होने का नोटिस भेजा है। शनिवार को ही भेजे गए इस नोटिस में उनसे यह पूछा गया है कि क्यों न उनसे एक बॉन्ड भराया जाए कि वह अच्छा व्यवहार करेंगे। बॉन्ड भराने का मतलब है कि यदि वह अगली बार बुरा बर्ताव करते हैं तो जुर्माना लगाया जा सकता है या फिर उन्हें जेल भी भेजा जा सकता है। यहाँ बुरे बर्ताव या व्यवहार से मतलब टीवी पर 'भड़काऊ' या दो समुदायों के बीच वैमनस्य बढ़ाने वाले कार्यक्रम के प्रसारण से है। 

सम्बंधित ख़बरें

ये दोनों एफ़आईआर उनके टीवी कार्यक्रम प्रसारणों को लेकर है। एक तो कोरोना लॉकडाउन के दौरान बांद्रा रेलवे स्टेशन पर भीड़ को लेकर प्रसारण को है और दूसरी पालघर में साधुओं की हत्या के प्रसारण को लेकर। इन दोनों मामलों में अर्णब गोस्वामी पर दो समुदायों के बीच वैमनस्य फैलाने और धार्मिक भावनाएँ भड़काने जैसे आरोप लगे। 

वैसे, अर्णब गोस्वामी को जिस तरह का नोटिस भेजा गया है वैसा किसी अख़बार या टीवी चैनल के संपादक के ख़िलाफ़ शायद ही कभी भेजा जाता है। उस नोटिस में साफ़ तौर पर कहा गया है कि उनसे क्यों न यह बॉन्ड भरवाया जाए कि अच्छा बर्ताव करेंगे। 
इसका मतलब है कि पुलिस ऐसी कार्रवाई कर रही है जिसे बाद में 'आदतन अपराधी' के रूप में पेश किया जा सकता है। ऐसा किसी मामले में तब होता है जब किसी निश्चित क्षेत्र में लगातार कोई अव्यवस्था पैदा करता है या शांति भंग करता है।

इस अच्छे बर्ताव के बॉन्ड को भरवाने का क्या मतलब है इसको एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी साफ़ करते हैं। 'द इंडियन एक्सप्रेस' के अनुसार आपीएस अधिकारी ने कहा, 'यदि एसीपी सुधीर जांबवडेकर, जिनके कार्य अधिकार क्षेत्र में गोस्वामी मुंबई में रहते हैं, एंकर द्वारा दिए गए कारणों से आश्वस्त नहीं हैं तो उन्हें अच्छे व्यवहार के बॉन्ड भरवाने के लिए कहा जा सकेगा। अगर गोस्वामी एक वर्ष की अवधि के दौरान बॉन्ड की शर्तों का उल्लंघन करते हैं तो उन्हें 10 लाख रुपये का जुर्माना देना होगा और उन्हें सलाखों के पीछे भी भेजा जा सकता है।'

बहरहाल, वर्ली डिवीजन के एसीपी सुधीर जांबवडेकर द्वारा जारी इस नोटिस में कहा गया है,

'यह स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है कि आपके चैनल के माध्यम से, आपने ऐसी सामग्री डाल दी है जो धार्मिक, जाति समूहों के बीच दुश्मनी पैदा कर सकती है।'

उन्होंने कहा, 'यह देखा गया है कि आपके चैनल पर होने वाली विभिन्न बहसों में आप आक्रामक राय रखते हैं जिससे बहस देखने वाले दर्शकों के मन में सांप्रदायिक विद्वेष पैदा हो सकता है।' नोटिस में ज़िक्र किया गया कि इस बात की बहुत अधिक संभावना है कि गोस्वामी इस तरह की सामग्री जारी रखेंगे, जिससे क़ानून और व्यवस्था की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

इस मामले में रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क ने एक बयान में कहा है कि महाराष्ट्र की राज्य सरकार द्वारा एक स्वतंत्र प्रेस के ख़िलाफ़ अर्नब गोस्वामी को खुलेआम द्वेषपूर्ण और एक उद्देश्य के तहत विच हंट के लिए समन के साथ-साथ नोटिस जारी किया गया है...। हालाँकि इस मामले में अभी तक अर्णब गोस्वामी की प्रतिक्रिया नहीं आई है।

वीडियो में देखिए, अर्णब गोस्वामी पर क्या होगी कार्रवाई?

बता दें कि हाल के दिनों में अर्णब गोस्वामी एक के बाद एक कई मामलों में पुलिस कार्रवाई का सामना कर रहे हैं। सबसे ताज़ा मामला तो टीआरपी में गड़बड़ी से जुड़ा ही है। इस मामले में आज ही चैनल के कार्यकारी संपादक निरंजन नारायण स्वामी व पत्रकार अभिषेक कपूर टीआरपी घोटाले प्रकरण में मुंबई पुलिस के समक्ष पेश होंगे। इस मामले में रिपब्लिक टीवी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी विकास खानचंदानी से मुंबई पुलिस की अपराध शाखा 11 अक्टूबर को ही पूछताछ कर चुकी है। टेलीविजन रेटिंग में कथित धांधली के इस मामले में रिपब्लिक टीवी सहित तीन चैनलों के नाम सामने आए हैं। मुंबई पुलिस ने दावा किया है कि विज्ञापन की ऊँची क़ीमतें वसूलने के लिए ये चैनल रेटिंग से छेड़छाड़ करा रहे थे जो कि धोखाधड़ी की श्रेणी में आती है। 

टीआरपी में गड़बड़ी मामले में तीन में से दो चैनलों के मालिकों को पहले ही गिरफ़्तार किया जा चुका है और शनिवार को रिपब्लिक टीवी के सीईओ विकास, सीएफ़ओ शिव सुब्रह्मण्यम सुंदरम सहित छह लोगों को समन भेजा गया था।
इसके अलावा अर्णब गोस्वामी के ख़िलाफ़ बॉलीवुड के प्रोड्यूसरों ने भी शिकायत दी है। सुशांत सिंह राजपूत कांड में रिया चक्रवर्ती और फिल्म इंडस्ट्री के लोगों को जिस तरह निशाने पर लिया गया, उनका मीडिया ट्रायल किया गया और उन्हें 'नशेड़ी' बताया गया, उससे ख़फ़ा फिल्म उद्योग ने मीडिया घरानों के ख़िलाफ़ कड़ा कदम उठाया है। रिपब्लिक टीवी और टाइम्स नाउ के ख़िलाफ़ मुक़दमा दायर किया गया है। इस मामले में रिपब्लिक के अर्णब गोस्वामी व प्रदीप भंडारी और टाइम्स नाउ के राहुल शिवशंकर व नविका कुमार को भी नामज़द किया गया है। फ़िल्म उद्योग के चार संगठनों और 34 फ़िल्म निर्माताओं ने मिल कर दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दायर की है। इन निर्माताओं में करण जौहर, यशराज फिल्म्स, आमिर ख़ान, सलमान ख़ान और शाहरुख ख़ान की फ़िल्म कंपनियाँ भी शामिल हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें