loader

शौविक को जिन आरोपों में जेल भेजा वे उनपर लागू नहीं होते: कोर्ट

रिया चक्रवर्ती के भाई शौविक चक्रवर्ती उन मामलों में तीन महीने जेल में रहे जिन्हें अदालत ने कोई आरोप ही नहीं माना है। एक हफ़्ते पहले ही विशेष अदालत के आदेश के बाद शौविक को जेल से रिहा किया गया है और अब कोर्ट का विस्तृत फ़ैसला आया है। इस आदेश में कोर्ट ने कहा है कि ड्रग्स की तस्करी के लिए धन मुहैया कराने के सख़्त आरोप उनके मामले पर लागू ही नहीं होते हैं। जबकि उनपर जो आरोप लगाए गए थे उसमें 20 साल की सज़ा का प्रावधान था। यही वह आधार था जिस पर शौविक की ज़मानत याचिका को पहले खारिज कर दिया गया था।

यानी अब जो एनडीपीएस की विशेष अदालत का विस्तृत फ़ैसला आया है वह नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो यानी एनसीबी के लिए तगड़ा झटका है। इससे उन आरोपों को भी बल मिलता है जिसमें कहा जा रहा था कि क्या एनसीबी किसी दबाव में रिया और शौविक के ख़िलाफ़ काम कर रही थी?

ख़ास ख़बरें

एनसीबी के पूर्व प्रमुख बी वी कुमार ने पहले ही इस मामले में एनसीबी की हर कार्रवाई पर सवाल उठाया था। उन्होंने कहा था कि एनसीबी जो कर रही है वह दरअसल उसका काम ही नहीं है। सितंबर महीने में एक टीवी कार्यक्रम में बी वी कुमार ने कहा था कि एनसीबी के गठन का उद्देश्य बड़े ड्रग तस्कर की जानकारी जुटाना, अंतरराज्यीय स्तर पर ड्रग की तस्करी का भंडाफोड़ करना और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ड्रग माफिया के ख़िलाफ़ कार्रवाई करना था। 

नारकोटिक्स से जुड़ी धारा 27 में ड्रग्स के इस्तेमाल के लिए सज़ा का प्रावधान है और धारा 27 ए में ड्रग्स की तस्करी के लिए धन मुहैया कराने पर सज़ा का प्रावधान है। क्या इन दोनों में से किसी भी मामले के दायरे में रिया चक्रवर्ती, शौविक या दूसरे एक्टर आते हैं? 

इस पर बी वी कुमार ने कहा था कि ड्रग्स जितनी मात्रा में (59 ग्राम हशीश) जब्त होना बताया गया है उससे इसकी सज़ा एक साल तक की हो सकती है। उन्होंने कहा था कि इसके लिए एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया जा सकता है। उन्होंने यह भी कहा था कि इस मामले में ज़मानत मिल जानी चाहिए। सामान्य तौर पर 3 साल से कम सज़ा होने पर तुरंत ज़मानत का प्रावधान है और इस बारे में सुप्रीम कोर्ट का ही साफ़ तौर पर निर्देश है। 

जिस तरह की कार्रवाई एनसीबी कर रही थी उसकी आलोचना एनसीबी के पूर्व अधिकारी भी कर रहे थे। और अब जो एनडीपीएस की विशेष अदालत का फ़ैसला आया है उसमें भी इसी एनसीबी की कार्रवाई पर सवाल उठते हैं।

एनसीबी ने शौविक चक्रवर्ती को सितंबर महीने में गिरफ़्तार किया था। उसने आरोप लगाया था कि शौविक ड्रग्स की तस्करों की कड़ी का एक हिस्सा थे। एजेंसी ने उनके ख़िलाफ़ 27 ए के तहत केस दर्ज किया था। 

ndps special court says drugs trade funding charge not apply to showik chakraborty  - Satya Hindi

अदालत ने कहा, 'वर्तमान प्रार्थी की कथित भूमिका को ध्यान में रखते हुए मुझे लगता है कि... एनडीपीएस अधिनियम की धारा 27A आवेदक के मामले पर लागू नहीं होती है।' विशेष अदालत ने बॉम्बे हाई कोर्ट की उस टिप्पणी पर भरोसा किया जिसमें उसने अक्टूबर में रिया को जमानत देते हुए टिप्पणी की थी।

उच्च न्यायालय ने तब कहा था कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के लिए ड्रग्स की खरीदने का रिया पर आरोप लगाया गया है, इसका मतलब यह नहीं हो सकता है कि उन्होंने अवैध व्यापार या ड्रग्स से जुड़े कारोबार में पैसा लगाया।

वीडियो चर्चा में देखिए, क्या रिया को फँसाया गया?

अदालत ने यह भी ग़ौर किया कि शौविक के पास से ड्रग्स नहीं मिला और कहा कि सह आरोपियों के पास प्रतिबंधित ड्रग्स की व्यावसायिक मात्रा मिलना शौविक से नहीं जुड़ता है।

अदालत ने इस पर विचार किया कि शौविक के ख़िलाफ़ जाँच पूरी हो गई थी और एनसीबी ने केवल पाँच सह-आरोपियों के बयानों के रूप में साक्ष्य प्रस्तुत किया था, जिसमें रिया और उसका अपना इकबालिया बयान शामिल था। ये बयान इसलिए स्वीकार नहीं किए गए क्योंकि पिछले महीने सुप्रीम कोर्ट ने एक आदेश दिया था जिसमें कहा गया है कि आरोपियों को सिर्फ़ ऐसे इकबालिया बयानों के आधार पर दोषी नहीं ठहराया जा सकता है। 

सुशांत से जुड़े ड्रग्स मामले में बड़ी कार्रवाई

एनसीबी सूत्रों ने कहा है कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े ड्रग्स मामले में एनसीबी ने मुंबई में 'सबसे बड़ी' जब्ती की कार्रवाई की है और हैश को बरामद किया है। इसके अलावा करोड़ों की नकदी भी बरामद की है। मुंबई के पॉश अंधेरी पश्चिम क्षेत्र के विभिन्न स्थानों से जब्त किए गए ड्रग्स में 5 किलोग्राम हैश, 2.5 करोड़ रुपये, कुछ मात्रा में अफीम और एमडीएमए भी शामिल हैं।

एजेंसी ने लंबे समय से लापता ड्रग्स सप्लायर रीगल महाकाल को भी गिरफ़्तार किया है। मीडिया रिपोर्टों में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि जिन ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है वे ड्रग्स के मुख्य सप्लायर रीगल महाकाल के हैं।

एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेडे ने कहा, 'आज हमने रीगल महाकाल को गिरफ्तार कर लिया है। हम रिया चक्रवर्ती और शौविक के साथ उसके संबंधों का खुलासा नहीं कर सकते।'

एनडीटीवी ने सूत्रों के हवाले से रिपोर्ट दी है कि रीगल महाकाल एक अन्य आरोपी अनुज केशवानी को ड्रग्स की आपूर्ति करता था, जिसे सितंबर में गिरफ्तार किया गया था। केशवानी ने कथित तौर पर रिया चक्रवर्ती और सुशांत सिंह राजपूत को ड्रग्स की आपूर्ति की थी।

ndps special court says drugs trade funding charge not apply to showik chakraborty  - Satya Hindi

बता दें कि बॉलीवुड में ड्रग्स मामले में गिरफ़्तार रिया चक्रवर्ती के भाई शौविक चक्रवर्ती को मुंबई की एक विशेष अदालत ने दो दिसंबर को जमानत दे दी है। शौविक को तीन महीने तक जेल में रहना पड़ा। 7 अक्टूबर को बॉम्बे हाई कोर्ट ने रिया को जमानत दे दी थी लेकिन शौविक को जेल में ही रहना पड़ा था।

शौविक को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो यानी एनसीबी ने 4 सितंबर को गिरफ्तार किया था। सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले में ड्रग्स एंगल मिलने पर एनसीबी ने जाँच शुरू की थी और इसी मामले में रिया और शौविक का नाम सामने आया था। इनके अलावा सुशांत के हाउस मैनेजर सैमुअल मिरांडा को भी गिरफ्तार किया गया था। एनसीबी ने ड्रग्स मामले में कई धाराओं के तहत मुक़दमा दर्ज किया था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें