loader

मुंबई: कंगना के बाद पायल घोष मिलीं राज्यपाल से, अनुराग कश्यप पर लगाए थे आरोप

फ़िल्म निर्माता अनुराग कश्यप पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वालीं फ़िल्म अभिनेत्री पायल घोष मंगलवार को महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मिलीं। बताया गया है कि उन्होंने राज्यपाल से सुरक्षा देने की मांग की। पायल ने कुछ ही दिन पहले अपनी हत्या होने का अंदेशा जताया था। 

पायल ने सोमवार को ख़ुद ही इस बात की जानकारी दी थी कि वह इस मसले को लेकर राज्यपाल से मिलेंगी और अपने अगले क़दम को लेकर चर्चा करेंगी। इससे पहले उन्होंने केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले से मुलाक़ात की थी और इस दौरान अनुराग कश्यप की गिरफ़्तारी की मांग की थी। 

अठावले ने कहा था कि उनकी पार्टी पायल को पूरी सुरक्षा देगी। उन्होंने कहा था कि वह इस मामले में जल्द ही केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को चिट्ठी लिखेंगे। केंद्रीय मंत्री ने कहा था कि अनुराग कश्यप को जल्द गिरफ़्तार किया जाना चाहिए। 

ताज़ा ख़बरें

पायल को मिला कंगना का साथ 

पायल का कहना है कि अभी तक कश्यप की गिरफ़्तारी क्यों नहीं की गई। बॉलीवुड भी इस मामले में बंटा हुआ है क्योंकि कुछ अभिनेता अनुराग कश्यप के समर्थन में हैं। कंगना रनौत भी पायल घोष के समर्थन में उतर आई हैं। कंगना ने कहा है कि पायल की एफ़आईआर को लेकर महाराष्ट्र सरकार कोई कार्रवाई क्यों नहीं कर रही है। 

अनुराग पर पायल द्वारा यौन उत्पीड़न के आरोपों के बाद उनकी दोनों पूर्व पत्नियों ने अनुराग का समर्थन किया था। कल्कि कोचलिन ने पायल की तीखी आलोचना की थी। अनुराग कश्यप मोदी सरकार की नीतियों को लेकर अक्सर हमलावर रहते हैं और सामाजिक मुद्दों पर भी बेबाक टिप्पणी करते हैं। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें
इससे पहले अपने ऑफ़िस पर बीएमसी की कार्रवाई के बाद कंगना रनौत महाराष्ट्र के राज्यपाल कोश्यारी से मिली थीं। कोश्यारी ने इसे लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के सलाहकार अजय मेहता से बात की थी और बीएमसी की कार्रवाई पर ख़ासी नाराज़गी जताई थी। उन्होंने इसे लेकर केंद्र सरकार को भी रिपोर्ट भेजी थी। 

इस विषय पर देखिए, वरिष्ठ पत्रकार मुकेश कुमार का विश्लेषण।

यौन उत्पीड़न के आरोप में अनुराग कश्यप तब घिरे हैं जब हाल ही में चल रहे बॉलीवुड में ड्रग्स विवाद के बीच उन्होंने बीजेपी सांसद व फ़िल्म अभिनेता रवि किशन के बारे में एक ख़ुलासा किया। उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था कि रवि किशन पहले वीड लेते थे। सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद बॉलीवुड में ड्रग्स का विवाद आया है और इस पर रवि किशन ने संसद में कहा था कि बॉलीवुड में ड्रग्स का बोलबाला है। इसके बाद इस मुद्दे पर समाजवादी पार्टी की सांसद जया बच्चन ने भी संसद में बोला। 

पायल घोष ने कहा था कि अनुराग ने उनसे कहा था कि ऋचा चड्ढा, माही गिल और हुमा कुरैशी उनके साथ कंफर्टेबल हैं। इसके बाद ऋचा चड्ढा ने अपने वकील की तरफ से बयान जारी कर कहा था, ‘ऐसे कानून हैं, जो यह सुनिश्चित करते हैं कि अपने कार्यस्थल पर महिलाएं समान रूप से खड़ी हों और वहां उनके आत्मसम्मान की भी रक्षा की जाए। लेकिन किसी भी महिला को अपनी स्वतंत्रता का इस्तेमाल दूसरी महिला को परेशान करने, उनपर बेबुनियाद आरोप लगाने और उन्हें नीचा दिखाने के लिए नहीं करना चाहिए।’

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें