loader

देश को आज मनमोहन सिंह जैसे नेता की ज़रूरत: पवार 

आज फिर एक बार देश को मनमोहन सिंह जैसे नेता की ज़रूरत है, यह कांग्रेस नहीं राष्ट्रवादी कांग्रेस के प्रमुख शरद पवार का कहना है  जिनका देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई बार अपने राजनीतिक गुरु के रूप उल्लेख किया है। हालाँकि पवार प्रधानमंत्री की इस बात से सहमत नहीं हैं और कहते हैं कि हम राजनेता अपनी सुविधा के अनुसार कभी भी किसी को अपना गुरु या किसी और संबोधनों से संबोधित कर देते हैं। 

सामना के कार्यकारी संपादक और राज्यसभा सदस्य संजय राउत को दिए साक्षात्कार में पवार ने कहा कि कोरोना संकट के कारण यह स्पष्ट रूप से दिख रहा है कि देश की अर्थव्यवस्था बुरी तरह से प्रभावित हो रही है और इसे बचाने के लिए मोदी को आर्थिक विषयों के जानकार लोगों से सलाह-मशवरा करना चाहिए।

ताज़ा ख़बरें

उन्होंने कहा कि वह भी प्रधानमंत्री नरसिंह राव के मंत्रिमंडल के सदस्य थे जिसमें मनमोहन सिंह वित्त मंत्री थे। मनमोहन सिंह ने उस समय आर्थिक संकट से देश को निकालने के लिए अर्थव्यवस्था को एक दायरे से बाहर निकालकर उसके नए पैमाने निर्धारित किये। उन पैमानों का ही परिणाम है कि देश की अर्थव्यवस्था सुधरी थी और हम विकास के मार्ग पर तेज़ी से आगे बढ़े थे। लेकिन आज फिर आर्थिक संकट है और ऐसे में आर्थिक क्षेत्र के जानकार लोगों से बातचीत कर मोदी को आगे की रणनीति निर्धारित करनी चाहिए।

पवार ने कहा कि मोदी सरकार का जो मंत्रिमंडल या उनके इर्दगिर्द का जो सेटअप है उनमें से उनके अनेक सहयोगी ऐसे हैं जिन्हें इन परिस्थितियों में कैसे काम किया जाए इस बात का अनुभव नहीं है। इसलिए प्रधानमंत्री को चाहिए कि वे संकट के इस समय में विरोधी दलों के नेताओं से भी चर्चा करें जिनको इस मामले में अच्छा अनुभव है।

उन्होंने कहा, ‘हम जैसे अलग विचार रखने वाले लोगों का उनके यहाँ प्रवेश नहीं है, इसलिए यह नहीं कह सकता कि सरकार के मंत्री जानकार लोगों की सलाह लेते हैं या नहीं! लेकिन यदि सलाह लेते हैं तो उसके परिणाम तो कहीं नज़र नहीं आ रहे।’ उन्होंने कहा कि कुछ लोगों के काम करने का शायद ऐसा ही तरीक़ा होता है, शायद वर्तमान सरकार के मंत्रियों का भी यही तरीक़ा हो! 

संकट के दौर में कोई पार्टी अकेले यह दावा करे कि वही सबकुछ कर लेगी, ऐसा संभव नहीं होता है। 

पवार ने कहा कि इनसे पहले प्रणब मुखर्जी, पी. चिदंबरम और मनमोहन सिंह जैसे वित्त मंत्री हुआ करते थे, वे सिर्फ़ सत्ताधारी दलों के नेताओं से ही नहीं आर्थिक मामलों के जानकारों और विपक्षी दलों के नेताओं से आर्थिक मामलों पर घंटों चर्चा करते थे। लेकिन वर्तमान वित्त मंत्री से मेरी आज तक न कोई मुलाक़ात हुई है न ही किसी प्रकार की कोई चर्चा’।

कोरोना की वजह से पिछले तीन महीनों में राज्यों का राजस्व क़रीब पचास प्रतिशत से अधिक कम हुआ है, ऐसे में केंद्र सरकार की ज़िम्मेदारी है कि वह राज्यों को आधार दे। एनसीपी नेता पवार कहते हैं कि राज्यों के पास आय के निर्धारित स्रोत हैं तथा विदेशों या रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया तथा अन्य बैंकिंग संस्थानों से कर्ज लेने के लिए केंद्र सरकार द्वारा उन पर रोक लगाई गई है। ऐसे में यदि राज्यों की अर्थव्यवस्था चौपट होती है जो कि दिख रही है तो उसका परिणाम केंद्र पर भी पड़ेगा ही। आख़िर राज्यों से ही तो केंद्र सरकार की आय होती है।

महाराष्ट्र से और ख़बरें
पवार ने कहा कि मुंबई देश की आर्थिक राजधानी है लेकिन आज यहाँ बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स में बैंकों की ऊँची-ऊँची इमारतें तो दिख रही हैं लेकिन पिछले तीन महीनों से वहाँ सारा कामकाज ठप पड़ा है। कृषि अर्थ व्यवस्था को एक बड़ा आधार देने की ज़रूरत है और बिना उसको संभाले हम अर्थव्यवस्था को आगे नहीं बढ़ा सकेंगे।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजय राय
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें